ठंडे मौसम की गर्म सावधानियां ~ Hot cold weather precautions !!


kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms


** ~ ठंडे मौसम की गर्म सावधानियां ~ **


sapana


=> ठंडे मौसम की गर्म सावधानियां

मौसम अपने तेवर पल-पल बदल रहा है। कभी कड़ी धूप होती है और कभी ठंडी हवा सरसराने लगती है। जब ठंडी हवा चल रही हो तो सबसे पहले यही चिंता सताती है कि कहीं आपकी त्वचा तो खराब नहीं होगी?


यूं तो हर मौसम में चेहरे की देखभाल की जरूरत पड़ती है लेकिन सर्दी के मौसम में खासकर आरंभिक सर्दी में यह मेहनत थोड़ी बढ़ जाती है। केवल प्रोडक्ट इस्तेमाल कर लेने से पूरी देखभाल नहीं होती बल्कि इसके लिए थोड़ी-बहुत सावधानी भी रखनी पड़ती है!!

तो आइए जानते हैं क्या हैं वह सावधानियां और उपाय-


=> इस मौसम में जब भी घर से बाहर निकलें अपनी त्वचा को ठंडी हवाओं के संपर्क में न आने दें। चेहरे और हाथ-पैरों को गर्म कपड़ों से ढंककर रखें।


=> इस मौसम में चेहरे की नमी बनाए रखने के लिए अच्छी कंपनी के मॉइश्चराइजर इस्तेमाल करें। अगर आपकी त्वचा ज्यादा सूखी है तो दिन में दो बार आप इसे लगा सकती हैं। हां, इस बात का ध्यान रखें कि ये मॉइश्चराइजर चेहरे को क्लीनजिंग क्रीम से साफ करने के बाद ही लगाएं।


=> अगर आपकी त्वचा ज्यादा रूखी है तो आपको अतिरिक्त देखभाल करने की जरूरत है। इसके लिए हफ्ते में चार से पांच बार पूरे शरीर का मसाज बादाम के तेल से करें।


=> रोजाना नहाने से पहले पूरे शरीर का मसाज बादाम के तेल या जैतून के तेल से करें इससे नहाने के बाद आपकी त्वचा रूखी नहीं होगी।


=> इस मौसम में पैरों की ऐड़ियां भी फटने लगती हैं ऐसे में सोने से पहले पैरों को गुनगुने पानी में थोड़ी देर डुबोकर रखें। पानी से पैर निकालने के बाद उसे अच्छी तरह पोंछकर लोशन लगाएं।

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
kms1006

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!


:::::::::::~::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. :::::::::::

Advertisements

स्वस्थ रहने की 10 अच्छी आदतें ~ 10 Good Habits of Healthy Living !!

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

* ~ स्वस्थ रहने की 10 अच्छी आदतें ~ *


facts-about-healthy-food1

* कहीं भी बाहर से घर आने के बाद, किसी बाहरी वस्तु को हाथ लगाने के बाद, खाना बनाने से पहले, खाने से पहले, खाने के बाद और बाथरूम का उपयोग करने के बाद हाथों को अच्छी तरह साबुन से धोएं। यदि आपके घर में कोई छोटा बच्चा है तब तो यह और भी जरूरी हो जाता है। उसे हाथ लगाने से पहले अपने हाथ अच्छे से जरूर धोएं।

* घर में सफाई पर खास ध्यान दें, विशेषकर रसोई तथा शौचालयों पर। पानी को कहीं भी इकट्ठा न होने दें। सिंक, वॉश बेसिन आदि जैसी जगहों पर नियमित रूप से सफाई करें तथा फिनाइल, फ्लोर क्लीनर आदि का उपयोग करती रहें। खाने की किसी भी वस्तु को खुला न छोड़ें। कच्चे और पके हुए खाने को अलग-अलग रखें। खाना पकाने तथा खाने के लिए उपयोग में आने वाले बर्तनों, फ्रिज, ओवन आदि को भी साफ रखें। कभी भी गीले बर्तनों को रैक में नहीं रखें, न ही बिना सूखे डिब्बों आदि के ढक्कन लगाकर रखें।

* ताजी सब्जियों-फलों का प्रयोग करें। उपयोग में आने वाले मसाले, अनाजों तथा अन्य सामग्री का भंडारण भी सही तरीके से करें तथा एक्सपायरी डेट वाली वस्तुओं पर तारीख देखने का ध्यान रखें।

* बहुत ज्यादा तेल, मसालों से बने, बैक्ड तथा गरिष्ठ भोजन का उपयोग न करें। खाने को सही तापमान पर पकाएं और ज्यादा पकाकर सब्जियों आदि के पौष्टिक तत्व नष्ट न करें। साथ ही ओवन का प्रयोग करते समय तापमान का खास ध्यान रखें। भोज्य पदार्थों को हमेशा ढंककर रखें और ताजा भोजन खाएं।

* खाने में सलाद, दही, दूध, दलिया, हरी सब्जियों, साबुत दाल-अनाज आदि का प्रयोग अवश्य करें। कोशिश करें कि आपकी प्लेट में ‘वैरायटी ऑफ फूड’ शामिल हो। खाना पकाने तथा पीने के लिए साफ पानी का उपयोग करें। सब्जियों तथा फलों को अच्छी तरह धोकर प्रयोग में लाएं।

* खाना पकाने के लिए अनसैचुरेटेड वेजिटेबल ऑइल (जैसे सोयाबीन, सनफ्लॉवर, मक्का या ऑलिव ऑइल) के प्रयोग को प्राथमिकता दें। खाने में शकर तथा नमक दोनों की मात्रा का प्रयोग कम से कम करें। जंकफूड, सॉफ्ट ड्रिंक तथा आर्टिफिशियल शकर से बने ज्यूस आदि का उपयोग न करें। कोशिश करें कि रात का खाना आठ बजे तक हो और यह भोजन हल्का-फुल्का हो।

* अपने विश्राम करने या सोने के कमरे को साफ-सुथरा, हवादार और खुला-खुला रखें। चादरें, तकियों के गिलाफ तथा पर्दों को बदलती रहें तथा मैट्रेस या गद्दों को भी समय-समय पर धूप दिखाकर झटकारें।

* मेडिटेशन, योगा या ध्यान का प्रयोग एकाग्रता बढ़ाने तथा तनाव से दूर रहने के लिए करें।

* कोई भी एक व्यायाम रोज जरूर करें। इसके लिए रोजाना कम से कम आधा घंटा दें और व्यायाम के तरीके बदलते रहें, जैसे कभी एयरोबिक्स करें तो कभी सिर्फ तेज चलें। अगर किसी भी चीज के लिए वक्त नहीं निकाल पा रहे तो दफ्तर या घर की सीढ़ियां चढ़ने और तेज चलने का लक्ष्य रखें। कोशिश करें कि दफ्तर में भी आपको बहुत देर तक एक ही पोजीशन में न बैठा रहना पड़े।

* 45 की उम्र के बाद अपना रूटीन चेकअप करवाते रहें और यदि डॉक्टर आपको कोई औषधि देता है तो उसे नियमित लें। प्रकृति के करीब रहने का समय जरूर निकालें। बच्चों के साथ खेलें, अपने पालतू जानवर के साथ दौड़ें और परिवार के साथ हल्के-फुल्के मनोरंजन का भी समय निकालें।


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
cropped-kms10060.jpg

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!


:::::::::::~::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. :::::::::::

तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा / कुमार विश्वास ~ Could never give you love / Kumar Vishwas !!

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms


** ~ तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा / कुमार विश्वास ~ **

sapana


ओ कल्पव्रक्ष की सोनजुही!
ओ अमलताश की अमलकली!
धरती के आतप से जलते…
मन पर छाई निर्मल बदली…
मैं तुमको मधुसदगन्ध युक्त संसार नहीं दे पाऊँगा|
तुम मुझको करना माफ तुम्हें मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा||

तुम कल्पव्रक्ष का फूल और
मैं धरती का अदना गायक
तुम जीवन के उपभोग योग्य
मैं नहीं स्वयं अपने लायक
तुम नहीं अधूरी गजल शुभे
तुम शाम गान सी पावन हो
हिम शिखरों पर सहसा कौंधी
बिजुरी सी तुम मनभावन हो.
इसलिये व्यर्थ शब्दों वाला व्यापार नहीं दे पाऊँगा|
तुम मुझको करना माफ तुम्हें मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा||

तुम जिस शय्या पर शयन करो
वह क्षीर सिन्धु सी पावन हो
जिस आँगन की हो मौलश्री
वह आँगन क्या वृन्दावन हो
जिन अधरों का चुम्बन पाओ
वे अधर नहीं गंगातट हों
जिसकी छाया बन साथ रहो
वह व्यक्ति नहीं वंशीवट हो
पर मैं वट जैसा सघन छाँह विस्तार नहीं दे पाऊँगा|
तुम मुझको करना माफ तुम्हें मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा||

मै तुमको चाँद सितारों का
सौंपू उपहार भला कैसे
मैं यायावर बंजारा साधू
सुर श्रृंगार भला कैसे
मैन जीवन के प्रश्नों से नाता तोड तुम्हारे साथ शुभे
बारूद बिछी धरती पर कर लूँ
दो पल प्यार भला कैसे
इसलिये विवश हर आँसू को सत्कार नहीं दे पाऊँगा|
तुम मुझको करना माफ तुम्हें मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा||

Post Inspired by Kumar Vishwas.
Lots of thanks to Mr.Kumar Vishwas
http://www.kumarvishwas.com/

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
kms1006


Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!


….. All Type Information Technology Knowledge Provider Website …..
** ~ प्रौद्योगिकी के सागर – OCEAN OF TECHNOLOGY ~ **

http://mcitpkmsraj51.blogspot.in/

:::::::::::~::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. :::::::::::

DOUBLE WHAMMY – A DAVIS WAY MYSTERY, GRETCHEN ARCHER

Serendipity Seeking Intelligent Life on Earth

Dble Whammy-NK-03

Double Dip, the second Davis Way mystery by Gretchen Archer is due for publication in January 28, 2014. Today seems a perfect time to take another look at Double Whammy.

Davis Way used to be a cop in Pine Apple, Alabama. Her name sounds like a road and the name of the town looks misspelled, but really, that’s her name and Pine Apple is indeed the town from which she hails. She used to be married. To Eddie. Twice. It didn’t work out the first time and it’s hard to figure why she married him a second time.

doubleWhammy

In the course of the second divorce from her first-and-second husband — she refers to him as her ex-ex — Davis and Eddie behaved badly. Badly enough to get her fired from the force by her father and for 2-way retraining orders to get slapped on Davis and her ex-ex. The…

View original post 858 more words