पुदीना के आयुर्वेदिक फायदे।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

ϒ पुदीना के आयुर्वेदिक फायदे। ϒ

पुदीना –

गर्मी में पुदीना खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए उपयोग में लाया जाता है। ये एक बहुत अच्छी औषधि भी है साथ ही इसका सबसे बड़ा गुण यह है कि पुदीने का पौधा कहीं भी किसी भी जमीन, यहां तक कि गमले में भी आसानी से उग जाता है। यह गर्मी झेलने की शक्ति रखता है। इसे किसी भी उर्वरक की आवश्यकता नहीं पडती है।
थोड़ी सी मिट्टी और पानी इसके विकास के लिए पर्याप्त है। पुदीना को किसी भी समय उगाया जा सकता है। इसकी पत्तियों को ताजा तथा सुखाकर प्रयोग में लाया जा सकता है।

  • हरा पुदीना पीसकर उसमें नींबू के रस की दो-तीन बूँद डालकर चेहरे पर लेप करें। कुछ देर बाद चेहरा ठंडे पानी से धो लें। कुछ दिनों के प्रयोग से मुँहासे दूर हो जाएँगे तथा चेहरा निखर जाएगा।
  • अधिक गर्मी या उमस के मौसम में जी मिचलाए तो एक चम्मच सूखे पुदीने की पत्तियों का चूर्ण और -आधी छोटी इलायची के चूर्ण को एक गिलास पानी में उबालकर पीने से लाभ होता है।
  • पेट में अचानक दर्द उठता हो तो अदरक और पुदीने के रस में थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर सेवन करे।

Post Inspired by : Poojya Acharya Bal Krishan Ji Maharaj

पूज्य आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज।

मैं श्री आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज का बहुत आभारी हूँ।

Ayurveda Product Available on –

http://patanjaliayurved.org/

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Editor in Chief, Founder & CEO
of,,  https://kmsraj51.com/

जैसे शरीर के लिए भोजन जरूरी है वैसे ही मस्तिष्क के लिए भी सकारात्मक ज्ञान और ध्यान रुपी भोजन जरूरी हैं। ~ कृष्ण मोहन सिंह(KMS)

 ~Kmsraj51

———– © Best of Luck ® ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

* अपनी आदतों को कैसे बदलें।

निश्चित सफलता के २१ सूत्र।

क्या करें – क्या ना करें।

∗ जीवन परिवर्तक 51 सकारात्मक Quotes of KMSRAJ51

* विचारों का स्तर श्रेष्ठ व पवित्र हो।

* अच्छी आदतें कैसे डालें।

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

~KMSRAJ51

 

 

 

अजीर्ण (अपच)-

kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

पाचन तंत्र में किसी गड़बड़ी के कारण भोजन न पचने को अजीर्ण या अपच कहते हैं | कई बार समय-असमय भोजन करने से,कभी-भी,कहीं-भी,कुछ-भी खाने-पीने तथा बार-बार खाते रहने से पहले खाया हुआ भोजन ठीक से पच नहीं पाता है और दूसरा भोजन पेट में पहुँच जाता है | ऐसे में पाचनतंत्र भोजन को पूर्ण रूप से नहीः पचा पाता जो अजीर्ण का मुख्य कारण है | अधिक तला-भुना या मिर्च मसाले युक्त भोजन के सेवन से भी अजीर्ण या अपच हो जाता है |
इस रोग में रोगी को भूख नहीं लगती,खट्टी डकारें आती हैं,छाती में तेज़ जलन होती है,पेट में भारीपन महसूस होता है तथा बैचैनी सी होती रहती है | रोगी को पसीना अधिक आता है , नींद भी नहीं आती और कभी-कभी अतिसार [दस्त ] भी होता है | 

ajeerdh-kmsraj51


अजीर्ण का विभिन्न औषधियों द्वारा उपचार —

१-अजवायन तथा सौंठ पीसकर चूर्ण बना लें | यह चूर्ण दिन में दो बार शहद के साथ चाटने से अपच में आराम मिलता है |
२-छाछ गरिष्ठ वस्तुओं को पचाने में बहुत लाभकारी होता है | छाछ में सेंधा नमक , भुना जीरा तथा कालीमिर्च मिलाकर सेवन करने से अजीर्ण रोग दूर होता है |
३-अजवायन -200 ग्राम , हींग -4 ग्राम और कालानमक -20 ग्राम को एक साथ पीसकर चूर्ण बना लें | यह चूर्ण 2 -2 ग्राम की मात्रा में सुबह -शाम गुनगुने पानी से खाने से लाभ होता है |
४-मेथी को पीस कर चूर्ण बना लें | इस चूर्ण को दिन में तीन बार 1-1 चम्मच गर्म पानी से खाने से अपच , पेटदर्द व भूख न लगना आदि दूर होता है |
५-प्रतिदिन पके हुए बेल का शर्बत पीने से अजीर्ण रोग ठीक होता है |
६-ताज़े पानी में आधे नींबू का रस , एक चम्मच अदरक का रस और चुटकी भर नमक मिलाकर पीने से अपच दूर होता है |
७-हरड़ , पिप्पली व सौंठ बराबर मात्रा में लेकर चूर्ण बना लें | यह चूर्ण 3 -3 ग्राम दिन में दो बार , पानी के साथ सेवन करने से अजीर्ण में लाभ होता है |

Post inspired by:

Poojya Acharya Bal Krishan Ji Maharaj-KMSRAJ51

पूज्य आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज

मैं श्री आचार्य बाल कृष्ण जी महाराज का बहुत आभारी हूँ!!

आपको दिल से शुक्रिया;

Ayurveda Product Available on;-

http://patanjaliayurved.org/

 

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Idहै: kmsraj51@yahoo.inपसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

 

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” Kmsraj51 

 

Kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

__________ all rights reserve under kmsraj51-2013-2014 ___________

 

False Attachments

kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

False Attachments 

Are you aware that whenever you lose your true self-awareness (soul-consciousness), you will identify with and get attached to something that is not you? It could be another person, your work, or some material possession. Let’s say you are attached to your job and one day, due to rising costs, your company decides to downsize and starts laying off thousands of its employees – all of a sudden you are asked to leave. The attachment to and identification with your position in the company, which has become a habit (sanskara), causes the creation of fearful and angry thoughts (e.g., “I’m going to lose my job” (fear related to the future) or “How dare they downsize the company and damage my position” (anger towards the company and its leadership)). The destructive energy of these thoughts becomes emotion (energy in motion) which then invades your entire mind so you cannot have clear and calm thoughts (the prime requirement of that moment). It hijacks your intellect so you cannot make correct, wise decisions and choices (also the prime requirement of that moment) for the future. Any connection you had with your inner peace is broken. All this happens because you forgot who you really are and had begun to think you are what you do. When seen from the point of view of this example it sounds ridiculous that we should identify with what we do or what we have, but this is currently how the world and its people work. So, never forget who you truly are!

Message for the day 07-07-2014

To be free from negativity is to be free from limitation.

Projection: In many situations I tend to feel helpless and bound by different things and people coming my way. I continue to blame others for my difficulties, but find no solace or solution. I also look for solutions outside, but find none.

Solution: The real cause of my limitation or my feeling of helplessness is not situation or people but my own weaknesses. I need to check and realize the weakness working within me, in that particular situation and I will be able to overcome the limitation.

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Idहै: kmsraj51@yahoo.inपसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

 

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51 

 

Kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

__________ all rights reserve under kmsraj51-2013-2014 ___________

How to Assemble Your PC

kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

And here we are, at the end of our build. By this time, you’d have picked all your components and accessories and you have learned the basic principles of wire management. All that is left to do is put the puzzle together and start up your freshly built computer. Apart from building the computer, we will look at some troubleshooting manoeuvres, in case your computer does not start the first time (and it usually doesn’t).

Before we start, find all the tools you will need, and keep them close, you will need them in your build. Pick a spot where you wish to do your build (I would recommend using a big table) that has proper lighting. Also, before you touch any component, you need to make sure that your hands are not electrically charged, so touch the ground line from a wall socket and make sure you are not wearing clothes made out of synthetic materials, because these charge very quick.

GET YOUR TOOLS IN ORDER

Before you begin, bring all the boxes with components near you and your tools. For your build, you will need:

  1. Cross screwdriver (a magnetic screwdriver would be preferable)
  2. Cable pliers
  3. Zip ties
  4. Box cutter (or an Exacto knife)
  5. Regular pliers (you might not need them, but better have a pair handy)
  6. Kittens (if it doesn’t work, you will need them for morale support)

Once you check that you have everything at hand, start unboxing the components and their accessories, but remember to keep track of everything and not mix them up. After you have finished with the unboxing process, put the boxes away and you can now start your build.

Step by Step guide to assembling your computer

 

STEP 1: PREPARE THE CASE

make-your-own-pc

We will start our build with the case. By preparing the case, what I mean is mounting any additional accessories that you might have bought, such as fans, fan grills, dust filters or fan controllers. Also, on the motherboard tray, you will see some tiny holes. Take out your motherboard and see which of them line up with the screw holes in the mobo and then mount the special lifters that come with the case.

make-your-own-pc-2

After this, run all the wires (the cables from the I/O panel) to the back of the motherboard tray and you are pretty much ready with the case. Also, at the back of the case, you will see the expansion slots. They have tiny covers that are hold into place by screws or clamps. Remove them, as you will have to mount other components here. You can put it aside and continue with the motherboard.

STEP 2: PREPARE THE MOTHERBOARD

make-your-own-pc-3

Now we start actually putting stuff together. Take out your motherboard and lay it on the table (do not put the motherboard directly on the table, but use a towel or the foam protector that it came with). You will have to remove all the stickers and covers from the slots you will be using and be very careful not to let anything in those slots (like dust or other debris). After doing so, you will move on to mounting some of the components.

After removing the plastic cover from the CPU socket (be extra careful not to touch the socket or let anything in it), bring your CPU and mount it according to the little triangle in the corner. You will see some kind of marker on the motherboard that lets you know which way to mount the CPU. DO NOT push it in! If you have aligned it right, it will drop into place perfectly. Now, close the bracket that holds the CPU in place.

STEP 3: APPLYING THERMAL PASTE (OPTIONAL)

make-your-own-pc-4

 

Applying thermal compound is optional at this point (assuming you have bought a new CPU cooler, it might have pre-applied thermal paste). Some coolers come with thermal compound already applied, but I would recommend getting some tissue and wiping it off. That stuff is pretty low quality, so you might want to buy a good thermal compound (something like Arctic Silver 5) and apply it to the CPU (do not apply thermal paste to the cooler).

There are many ways to do this. I can say that I tried all the methods (one line down the middle of the CPU, a blob in the middle, an “X” pattern on the CPU or to spread it out) and I must say I did not notice a difference in temperature. What I do know, is that the thermal compound layer has to be very thin (just enough to cover the CPU, spread it out as much as you can). So, only apply a very tiny amount and use your prefered method to spread it.

STEP 4: MOUNTING THE CPU COOLER

make-your-own-pc-5

This depends on what type of cooler you have. Stock coolers usually have plastic push pins, which go in really easy: just line them up with the holes and push them down. But if you purchased an aftermarket CPU cooler, it might have a backplate. In general, order to mount it, first secure the backplate (on the backside of the motherboard with the sticky rubber grommets) and then mount your heatsink. In my case, I did not stick the grommets, and I first mount my cooler and the turn the board over and secure it.

What is the most important thing when installing the CPU cooler, is to tighten the screws or pushpins in an diagonal. Do not tighten the screw all the way, just a little bit, the do the same on the other side. After it starts holding, mount the other two screws (the other diagonal) and repeat the process. Tighten the screws from each diagonal just a little at a time and go from on to the other until they are tight (but do not force them, when they do not tighten any more, do not force them).

When you are done securing the CPU cooler, connect the power line to the CPU_FAN slot on the motherboard and you are done. A tip here would be to mount the cooler so that the wire exits as close to the power connector from the motherboard as possible, then tie it with a zip tie to give it a clean look.

STEP 5: MOUNTING THE RAM

make-your-own-pc-6

This step is very easy. If you look closely on the RAM board, you will notice a notch. Also, on the motherboard slot, you will see a pin. Position the RAM board so that the notch will be on the pin. Open the bracket and push the RAM board in. When it enters completely, the bracket will close itself. Be sure to mount the RAM with care, verify that it is inserted evenly and no part of the connector are sticking out. This could damage your RAM board or your motherboard.

STEP 6: MOUNT THE MOTHERBOARD IN THE CASE

make-your-own-pc-7

Now that you have mounted all your components to the motherboard, you can mount it in the case. Before you do so, however, you must mount the I/O panel on the back of the case. It attaches pretty easy, just put it through the inside of the case and gently push it until you hear the click. Afterwords, mount in your motherboard so the external connectors of the motherboard line up with the I/O panel’s cut-outs (also, recheck the alignment of the lifters in which the screws will enter). After you set it right, secure it with screws and you are done.

STEP 7: ADDING THE OTHER COMPONENTS

make-your-own-pc-8

After you have installed your motherboard in the case, you can now add the other components: video card, LAN card, audio card and other that you might have purchased. Also, you can now mount the HDD, optical drive and PSU. If you have a modular PSU, mount it without any wires because you will add them later on. In the case of the video card, notice the holding bracket on the PCI Express slot. It is similar to the one on the RAM slot and it works just the same. Pull it back, align your video card and push it into place. The bracket should snap back in place, securing your card.

Now you can tighten the other components with the screws that you took out when you prepared the case (the ones from the extension slots). This will ensure that they are locked into place. When you are done, you can put back the other covers of the expansion slots, so you do not have openings between your components. After all is done, route your cables from the PSU out side the case if you have WM holes, if not, pull them outside the case, because you will be adding them one at a time.

STEP 8: MAKING THE CONNECTIONS

make-your-own-pc-9

Probably the hardest part yet. Making the connections to your PC is something you need to make right, and to do is, you need to figure out what cables you need from your power supply and where they all go. You will most likely start with the 20/24 pin motherboard connection. this is the biggest, most ugly cable that you have. If your case allows you, you can route it along with the others to the back of the motherboard tray. The next one you should connect is your CPU 4/8 pin connector. In my case, this cable had to be routed inside the PC, not under the motherboard, but try to route it as good as possible, without putting tension in it.

make-your-own-pc-10

After making the motherboard power connections, start adding the other plugs, such as the front I/O panel (power, reset, USB and audio), data and power connections for hard disks and optical drives, video card and power to your vents. A quick tip before you start making your connections, check that all components are installed and before you move on to managing your wires, turn it on to see it everything works (just for a few seconds). If all is good, you can move on with your cable management. Be sure to have all your zip ties and wire pliers near.

STEP 9: FINAL CHECK AND START UP

make-your-own-pc-11

Once you are done, make a final verification to your system. Check if all the screws are tight and that no cables have been pulled out while you were doing the wire management. If everything looks properly connected and mounted, you should be ready to go. When you turn on your computer, do not put the cover back, but turn it on a do a visual inspection of the system, to see if there are no problems (short circuits, smoke coming out from some place and that everything works). If all is in order, go ahead and mount your side panels, and proceed to installing your OS. Your build is complete!

STEP 10: TROUBLESHOOTING

However, most of the times, you might encounter some errors in the system. In my experience, the majority of systems do not boot at first start. Do not startle, this things are common. The biggest problem would be if your PSU doesn’t have the power to run the entire system, in which case, you might have to return it and get a new one. Most of the time, a one or more connections are not made properly or some components are not mounted properly. Check everything again, and you will most likely find the problem. Also, check your BIOS to see if everything shows up and that all the components are running smooth.

And that’s a wrap. If you followed the steps properly, by now you should have a working computer, build by you. And I cannot explain the feeling when you turn it on and see that from a pile of components you have build a working computer. It’s like watching a baby be born.

.…. Source :- http://techpp.com/

 

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Idहै: kmsraj51@yahoo.inपसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

 

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” –Kmsraj51 

 

kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

__________ all rights reserve under kmsraj51-2013-2014 ___________

अंग्रेजी सीखना आपके हाथ में:कर लाे ENGLISH मुट्ठी में

kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

इंग्लिश लैंग्वेज पर कमांड न सिर्फ तरक्की की राह आसान कर सकती है, बल्कि आपका कॉन्फिडेंस भी काफी बढ़ा देती है। अपनी इंग्लिश कैसे बेहतर बनाएं, एक्सपर्ट्स से बात करके बता रही हैं प्रियंका सिंह:

जानें इंग्लिश का साइंस

कोई भी लैंग्वेज सुनने से शुरू होती है। बच्चा सबसे पहले अपने घर और आसपास बोली जाने वाली लैंग्वेज सुनता है, फिर उसे दोहराना शुरू करता है।

हमारे देश में इंग्लिश के साथ उलटा होता है। हमारे यहां ज्यादातर बच्चे पहले इसे पढ़ना शुरू करते हैं और फिर बोलना-सुनना। बस यही असली दिक्कत है। घरों में इंग्लिश ज्यादा न बोले जाने से बच्चे ज्यादा सुन नहीं पाते। जिससे बोलने में भी दिक्कत आती है।

Learning-English-On-Your-Own-298x300-kmsraj51

इंग्लिश बोलने के लिए स्कूल जाना जरूरी नहीं। जो लोग स्कूल नहीं गए, वे भी इसे बोल सकते हैं क्योंकि सारा खेल सुनने और बोलने का है।

इंग्लिश बोलने के लिए सबसे पहले सुनने की आदत डालें। हो सकता है शुरुआत में एक-दो दिन समझ में न आए, लेकिन लगातार सुनने से समझ में आने लगेगी।

हमारे यहां जो लोग ज्यादा इंग्लिश नहीं बोलते, वे पहले हिंदी में सोचते हैं, फिर उसे इंग्लिश में ट्रांसलेट करते हैं। ऐसा प्रैक्टिस न होने की वजह से होता है। अगर इंग्लिश सुधारना चाहते हैं तो इस प्रोसेस को बदलना जरूरी है। इसलिए जब भी बोलें, इंग्लिश में सोचें।

टीवी के जरिए रेडियो के मुकाबले बेहतर इंग्लिश सीख सकते हैं क्योंकि उसमें आंख, कान और दिमाग, तीनों एक साथ काम कर रहे होते हैं। सिर्फ सुनना काफी नहीं होता। मसलन बच्चे को एपल बताना है तो बताना पड़ेगा कि यह एक फल होता है, जो गोल होता है, जिसका रंग लाल होता है आदि, जबकि एपल दिखा देंगे तो वह फौरन समझ जाएगा।

किसी भी शब्द को अपना बनाने के लिए उसे एक दिन या सुविधा के अनुसार 2-3 दिनों में कम-से-कम 30 बार बोलना जरूरी है। इतनी बार इस्तेमाल करने से दिमाग उस शब्द को अपना लेता है और वह शब्द आपका अपना हो जाता है, वरना आप उसे भूल जाते हैं।

 

A. फ्रेंड्स का फंडा

दोस्तों के साथ फेसबुक पर इंग्लिश में चैट करें। ऐसे लोगों के फ्रेंड बनें, जो इंग्लिश में पोस्ट करते हों।

इंग्लिश बोलने वाले लोगों के आसपास रहें। उन्हें गौर से सुनें। उनसे कुछ अच्छे वर्ड्स सीख सकते हैं। हो सके तो उनसे दोस्ती करें और उनसे इंग्लिश में ही बातें करने की कोशिश करें।

अपने दोस्तों के साथ मिलकर ग्रुप बनाएं और रोजाना कोई टॉपिक लेकर कम से कम 1 घंटे तक उस पर डिस्कशन करें और उसके बारे में लिखें। फिर चेक करें कि किसने किन शब्दों का इस्तेमाल किया। इनमें कितने नए थे, किसके कितने पर्यायवाची (synonyms) हो सकते हैं आदि।

B. मजेदार इंग्लिश

Go : इंग्लिश का सबसे छोटा पूरा वाक्य है।

The quick brown fox jumps over the lazy dog. इस वाक्य में इंग्लिश का हर अल्फाबेट यूज हुआ है।

Africa, America, Antarctica, Asia, Australia और Europe यानी सारे कॉन्टिनेंट उसी अल्फाबेट से खत्म होते हैं, जिससे शुरू होते हैं।

Sixth sick sheik’s sixth sheep’s sick को इंग्लिश का सबसे मुश्किल टंग ट्विस्टर मना जाता है।

C. इन्हें आजमाएं

रीडर्स डाइजेस्ट।

चेतन भगत के नॉवल जैसे: थ्री मिस्टेक्स ऑफ माइ लाइफ, फाइव पॉइंट समवन, टु स्टेट्स आदि।

टर्किन हॉल (Tarquin Hall) की किताबें जैसे कि The Case Of Man Who Died Laughing, The Case Of The Love Commandos, Salaam Brick Lane आदि।

​अंग्रेजी सीखने के ऐप्स

Voxy
आईओएस के यूजर्स के लिए अंग्रेजी सीखने के लिए अच्छा फ्री ऐप है। यह ऐप आपके सीखने के लेवल के हिसाब से खुद को बदल लेता है।

English Club
विंडोज डिवाइस यूजर्स को खेल-खेल में अंग्रेजी सीखने में यह फ्री ऐप काफी मदद करता है। इसकी खासियत है इस पर मौजूद विडियो और लर्निंग गेम्स।

Duolingo
भाषा सिखाने वाले फ्री ऐप ड्यूओलिंगो का ऐंड्रॉयड और आईओएस के लिए नया वर्ज़न आया है। अब इसमें हिंदी भाषी लोग इंग्लिश सीख सकते हैं। यह ऐप बहुत पॉप्युलर है। ऐंड्रॉयड पर इसे एक करोड़ से ज्यादा लोग डाउनलोड कर चुके हैं।

English is Fun
फेसबुक पर दोस्तों के साथ अंग्रेजी सीखने के लिए इस पेज को जॉइन करें। यहां बेहतरीन इंग्लिश स्पीकिंग एडवाइज से लेकर टंगट्विस्टर तक सब कुछ है। इस पेज पर अंग्रेजी के 21 लाख दीवाने मौजूद हैं जो अंग्रेजी सीखन की ललक को जिंदा रखे हुए है।

प्रैक्टिस से मिलेगी मदद

आर. के. बंसल और जे.बी. हैरिसन की Spoken English

मर्फी (कैम्ब्रिज) की Essential English Grammar

शुरुआत में रोजाना 5 शब्द और ठीक-ठाक अंग्रेजी सीखने के बाद भी कम-से-कम रोजाना 1 नया शब्द जरूर सीखें। आम जिंदगी में यूज होने वाले वर्ड्स की लिस्ट बना लें। अगर किसी शब्द का मतलब ध्यान नहीं आ रहा, उसे छोड़े नहीं, बल्कि उसी वक्त उसका मतलब तलाशें।

खुद से इंग्लिश में बातें करें। इंग्लिश गाना गाएं। उच्चारण और फ्लुएंसी बढ़ाने के लिए यह काफी मददगार है।

मिरर के सामने खड़े होकर अपनी बॉडी लैंग्वेज को देखें। बोलने में 55 फीसदी बॉडी लैंग्वेज, 37 फीसदी स्पीच मॉड्यूलेशन (आवाज में उतार-चढ़ाव) और 8 फीसदी शब्द अहम होते हैं।

जितना हो सके, इंग्लिश में ही बोलने की कोशिश करें। जान लें, यह एक सब्जेक्ट नहीं, ऐक्टिविटी है। अपनी आवाज को मोबाइल रेकॉर्ड करें और फिर सुनें। इससे आपको जो शब्द बोलने में दिक्कत आ रही है, उन्हें समझ पाएंगे।

फ्लुएंसी के लिए इंग्लिश के टंग ट्विस्टर्स की प्रैक्टिस करें। मिसाल के तौर पर-

-Sheena leads, Sheila needs.

-Can you can a can as a canner can can a can?

-World Wide Web.

-I scream, you scream, we all scream for icecream!

घर की चीजों को लेबल करें। अपनी भाषा की बजाय इनके नाम इंग्लिश में सोचें। देखें कि धीरे-धीरे आपके सोचने का टाइम कम हो रहा है। बेड पर बैठ जाएं और सामने दिखने वाली सभी चीजों के नाम इंग्लिश में सोचें।

साइनबोर्ड, ऐड, मैग्जीन स्टैंड आदि पर गौर करें। देखें कि वहां कौन-से वर्ड यूज किए गए हैं।

मीडिया की मदद लें

इंग्लिश मूवीज़ देखें, खासकर सब टाइटल्स के साथ। इंग्लिश न्यूज सुनें और इंग्लिश प्रोग्राम देखें।

BBC चैनल देखें और सुनें। उनके वाक्य बहुत सिंपल और साफ होते हैं। बॉडी लैंग्वेज और उच्चारण सीखने के लिए ऐंकर्स पर गौर करें।

यू-ट्यूब पर विडियो देखें। उसमें से ऐसे शब्द अलग करें, जो समझ नहीं आए हों। जो समझ आए, उन्हें भी अलग करें। उन वर्ड्स को फिर से इस्तेमाल करें। जो समझ नहीं आए, उनका मतलब डिक्शनरी में देखकर फिर इस्तेमाल करें।

जो भी आपका इंग्लिश आइडियल हो (जिसकी इंग्लिश बहुत अच्छी हो), यू-ट्यूब पर जाकर इंग्लिश में उसके इंटरव्यू के वीडियो देखें और सुनें।

टाइम्स ऑफ इंडिया का Delhi Times पढ़ें। इसकी भाषा आसान और दिलचस्प होती है। इसमें से एक पैरा उठाएं। उसमें दिए गए Verbs को अंडरलाइन करें। उनका मीनिंग समझें। डिक्शनरी की तरफ न भागें। उन वर्ड्स का अपनी तरफ से वाक्यों में इस्तेमाल करें। ऐसे वाक्य बनाएं, जो जिंदगी से जुड़े हों।

जिसमें भी दिलचस्पी है, उसकी मैग्जीन सब्सक्राइब करें। उनसे नए-नए शब्द लेकर अपनी पर्सनल और प्रफेशनल लाइफ के मुताबिक इस्तेमाल करें।

सॉफ्टवेयर लें, जो पढ़ने, लिखने, सुनने और बोलने को गाइड करें। जैसे कि Spoken English, इसे download.cnet.com से फ्री डाउनलोड किया जा सकता है।

कंफ्यूजन है प्रॉब्लम

इंग्लिश की सही ग्रैमर जानना जरूरी है, वरना अर्थ का अनर्थ हो सकता है। हालांकि प्रैक्टिस से ग्रैमर भी सुधार जाती है।

शुरुआत में अक्सर लोग इंग्लिश बोलने में झिझकते हैं, लेकिन यह झिझक नहीं, कन्फ्यूजन होता है। मसलन, हम सही हैं या नहीं, कौन-सा टेंस होगा, कौन-सा वर्ब लगेगा आदि। जैसे ही यह कन्फ्यूजन दूर होता है, कॉन्फिडेंस भी बढ़ जाता है और आप फ्लो के साथ बोलने लगते हैं।

लगातार प्रैक्टिस से ही रवानगी आ सकती है। लगातार प्रैक्टिस करने पर भी कम-से-कम एक साल से पहले न कहें कि मैं इस भाषा को बढ़िया तरीके से बोल सकता हूं। जानकारी भी बढ़ाएं। उसी हिसाब से टाइम फ्रेम तय करें। अगर सब्जेक्ट के तौर पर इंग्लिश पढ़ी है लेकिन प्रैक्टिस नहीं है तो फ्लुएंट होने में 3-4 महीने लग जाएंगे।

गौर करें कि आपको बोलते हुए कहां पर प्रॉब्लम ज्यादा होती है। मसलन आप स्लो हैं, सही शब्द नहीं मिलते, सही ग्रैमर नहीं आती आदि। अगली बार जब बोलें, तब उस कमजोरी को दूर करने की कोशिश करें।

रफ्तार और परफेक्शन के साथ इंग्लिश बोलना, दोनों में महारत हासिल करने के बाद ही आप इंग्लिश के अच्छे जानकार माने जाएंगे। पहले आप तय करें कि आपके लिए आसान क्या है, रफ्तार में बोलना या सही बोलना/ फिर मुश्किल पर काम शुरू करें।

एक ही वाक्य को सीनियर, जूनियर, फैमिली या फ्रेंड्स के साथ बोलने में फर्क आ जाता है। मसलन जाने के लिए कहना है तो बॉस से बोलेंगे: May I leave तो दोस्त से कहेंगे: I am leaving.

ग्रैमर में टर्म्स पर ध्यान न देकर असल मतलब पर ध्यान दें। जैसे अगर आपको बोलना है I have been waiting for 10 minutes तो याद रखें कि जहां time होगा, वहां has been या have been लगेगा। इस पर फोकस करने की जरूरत नहीं है कि present perfect continuous होगा तो has been या have been लगेगा। इससे इंग्लिश सीखना मुश्किल होगा।

काम की वेबसाइट्स:

About.com
एक बार रजिस्ट्रेशन करने के बाद आपको रेग्युलर ईमेल मिलने लगते हैं, जिनमें इंग्लिश सीखने के टिप्स और दिलचस्प जानकारियां रहती हैं। आपके पास चुनने के लिए विकल्प होंगे : 1. Beginning English, 2. English Learning Tip of the Day, 3. English Word of the Day, 4. Intensive Grammar, 5. Vocabulary

voanews.com
इंग्लिश बोलचाल में महारत हासिल करने की इच्छा रखने वाले लोगों के लिए वॉयस ऑफ अमेरिका की यह सर्विस बड़े काम की है। अंग्रेजी इम्प्रूव करने के लिए यहां दिए विडियो देख सकते हैं और खबरों का उच्चारण सुन सकते हैं। अंग्रेजी शब्दों और वाक्यों के सही उच्चारण भी यहां मिलेंगे। चूंकि यह वॉयस ऑफ अमेरिका की सर्विस है इसलिए उच्चारण अमेरिकन अंग्रेजी का रहता है।

eslcafe.com
इंग्लिश सीखने और प्रैक्टिस करने के लिए यह बेहद काम की वेबसाइट है। ग्रैमर, बोलचाल की भाषा, उच्चारण आदि की अच्छी जानकारी। अंग्रेजी बोलने की इच्छा रखने वाले यहां इस्तेमाल किए गए ट्रेनिंग देने के तरीके को मददगार पाएंगे। यहां अंग्रेज़ी मुहावरों, कहावतों, सवालों आदि का भी अच्छा-खासा भंडार मिलेगा। इनकी लगातार प्रेक्टिस के जरिए आपकी अंग्रेजी में सुधार आ सकता है।

privateenglishportal.com
(नर्सरी से आठवीं कक्षा तक)

प्राइवेट इंग्लिश पोर्टल पर बेसिक से लेकर अडवांस इंग्लिश तक की ट्रेनिंग उपलब्ध है। हालांकि आप चाहें तो बिजनस इंग्लिश और TOEFL/IELTS की तैयारी के लिए भी इंग्लिश लेसंस ले सकते हैं।

english-grammar-lessons.com
अगर सही टेन्स, वर्ब आदि का इस्तेमाल न कर पाना समस्या है, तो इस वेबसाइट के फ्री लेसंस को आजमाइए जिसमें एक-एक करके इंग्लिश ग्रैमर की जटिलताओं को समझाने की कोशिश की गई है। यहां 30 के करीब ग्रैमर लेसंस मौजूद हैं। प्रैक्टिस के लिहाज से भी यहां काफी सेट मौजूद हैं।

एक्सपर्ट पैनल:

अलका गुप्ता
एमडी, ब्रिटिश अकैडमी फॉर इंग्लिश लैंग्वेज,

चेतना बेदी
सीनियर टीचर, ब्रिटिश काउंसिल

अमन बेदी
बीएसएल ट्रेनिंग कंपनी

Source: 

http://navbharattimes.indiatimes.com/other/thoughts-platform/sunday-nbt/just-life/english-made-easy/articleshow/34284176.cms



 

Learn English Speaking and Improve your Spoken English 

Practice English at home—–

Below you’ll find eleven sites, some with a focus on listening, some on vocabulary, others on grammar, and some with a range of activities. Happy learning!

Easy World of English
http://easyworldofenglish.com/
An attractive, user-friendly website including grammar, pronunciation, reading and listening practice and an interactive picture dictionary.

Many Things
http://www.manythings.org/
This website includes matching quizzes, word games, word puzzles, proverbs, slang expressions, anagrams, a random-sentence generator and other computer-assisted language learning activities. The site also includes a special page on pronunciation, including practice with minimal pairs. Not the fanciest or most beautiful website, but with lots to see and use and no advertising.

Dave’s ESL Cafe
http://www.eslcafe.com/
A forum for both ESL teachers and students around the world. Includes quizzes, grammar explanations, and discussion forums for students. For teachers, includes classroom ideas on all subjects as well as discussion forums.

The California Distance Learning Project
http://www.cdlponline.org/
Read and listen to a news stories on topics including working, housing, money and health, then work on activities based on the stories including matching pairs, vocabulary, and quiz questions. Some stories also include videos.

BBC Learning English
http://www.bbc.co.uk/worldservice/learningenglish/
An array of wonderful activities for practice, some relating to current events. Includes videos, quizzes, vocabulary practice, idioms, crosswords, and much more, though all with British accents.

Activities for ESL Students
http://a4esl.org/
Grammar and vocabulary practice for all levels, including many bilingual quizzes for beginners. Also includes a link for teachers, with conversation questions, games, and many other ideas to put to use in the classroom.

ABCYa
http://www.abcya.com/
This is a website for kids, but who says adults can’t use it, too? The site includes educational games organized by grade level, from 1st to 5th, and is particularly good for spelling and phonics. There are games to practice vowels, uppercase and lowercase letters, Dolch sight words, synonyms and antonyms and more.

TV 411
http://www.tv411.org/
This site includes videos with native speakers explaining key reading concepts like critical reading, summarizing and scanning, and key life skills like signing a lease and reading a medicine label. Following each video is a comprehension quiz. Click on the blue tabs across the top lead for lessons on reading, writing, vocabulary and finance.

GCF Learn Free
http://www.gcflearnfree.org/everydaylife
A well-designed site with interactive tutorials for everything from operating an ATM machine to reading food labels. If you click on the main page icon and then click on reading, the site has resources for English language learners as well, including stories to listen to and read along, and picture dictionaries.

Language Guide
http://www.languageguide.org/english/
This is an online picture dictionary, with everything from the alphabet to parts of the body to farm animals.

Oxford University Press
http://elt.oup.com/learning_resources/?cc=global&selLanguage=en&mode=hub
This site from Oxford University Press has activities to practice spelling, grammar, pronunciation, and listening. A bit difficult to navigate, so more suitable for advanced learners and savvy internet users.

Source:

 http://www.nypl.org/blog/2012/11/28/11-great-free-websites-practice-english

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Idहै: kmsraj51@yahoo.inपसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

 

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51 

 

kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

__________ all rights reserve under kmsraj51-2013-2014 ___________