खुशीयाँ यूं ही नही मिलती किसी काे।

Kmsraj51 की कलम से…..
Kmsraj51-CYMT-JUNE-15

ϒ खुशीयाँ यूं ही नही मिलती किसी काे। ϒ

खुशीयाँ यूं ही नही मिलती किसी काे।
जब तक ना जीवन में कड़ी मेहनत हाे॥

खुशीयाें से भरा हर पल हाेता है।
जिंदगी में सुनहरा हर कल हाेता है॥

मिलती है कामयाबी उन लाेगाे काे।
जिनमें मेहनत करने का जज़्बा हाेता है॥

जिंदगी भी उनके आगे सर झुकाती है।
जिनकी मेहनत में दम हाेता है॥

डरते नही वाे मुश्किलों से ना ही,
राह की अडचनाे से॥

मुसकरा कर आगे बढ़ते है।
सामना करते है हर मुशकिलाे का, अडचनाे का॥

भविष्य खुद ही सुनहरा बनाते है।
बिना किसी की मदद के बिना॥

©- विमल गांधी ∇
Vimal Gandhi-kmsraj51

विमल गांधी जी।

हम दिल से आभारी हैं विमल गांधी जी के प्रेरणादायक हिन्दी कविता साझा करने के लिए।

पढ़ेंविमल गांधी जी कि शिक्षाप्रद कविताओं का विशाल संग्रह।

Please Share your comment`s.

आप सभी का प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

सकारात्मक सोच + निरंतर कार्य = सफलता।

स्वयं पर और स्व-कर्माे पर विश्वास माना सफलता का आधार(नींव) मज़बूत।

 ~KMSRAJ51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

CYMT-KMS-KMSRAJ51

 

Moving From Action Consciousness To Spiritual Consciousness

Kmsraj51 की कलम से…..

Kmsraj51-CYMT-JUNE-15

 Moving From Action Consciousness To Spiritual Consciousness 

As the name suggests, to be a rajayogi means to be a practitioner of meditation, who with the practice of meditation is able become a ruler of the self. But on the other hand, rajayoga is not restricted to learning to discipline the physical sense organs only but more importantly, of redirecting the energy of my thoughts, feelings, emotions, intellect and sanskaras in a positive and constructive way. When these energies become positive, my karmas start becoming elevated. And how do I make these energies positive? By performing actions while having a mental connection with the Supreme Being or by having a meditative consciousness while walking, interacting, cooking, driving or working – in fact, while doing anything. After all, meditation is specifically related to the use of the mind and intellect and does not require the use of the physical sense organs and so can be done alongside each karma in the day – only the form of meditation changes depending on the karma being performed. Just as we can remember other things and people while being involved in various activities throughout the day, we can keep our minds on our true spiritual self, the Supreme Being, churn different aspects of spiritual knowledge, remain focused on a single aspect of spiritual knowledge, etc. while performing karmas – these are all some of the different forms of meditation – there are more that can be practiced. Thus, rajayoga can also be called karmayoga.Karmayoga meaning the one who maintains the balance of meditation and karmas while being involved or busy in karmas.

Θ Message Θ

True help is to help people discover their own specialities.

Thought to ponder: When others’ negativities or weaknesses are perceived, it is essential to look at their positivity or specialities too. This will naturally bring love and positivity in the relationship and there will be an encouragement of that positivity. So even if that person has no recognition or has not been using his speciality, an encouragement of it by others will naturally enable him to begin to use it.

Point to practice: Making others aware of their specialities and subtly encouraging them to use these specialities is a great help that I can do for others. When I am able to give this unique help and cooperation, I not only find benefit for others, but I am also able to get the good wishes of others. Even others naturally become positive with my positive attitude.

Watch Peace of Mind TV on following DTH
TATA(Sky # 192 | Airtel Digital TV # 686 | Videocon d2h # 497 | Reliance BigTV # 171 |

online www.pmtv.in

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

-KMSRAJ51

CYMT-KMS-KMSRAJ51

 

____Copyright © 2013 – 2015 Kmsraj51.com All Rights Reserved.____

Transforming (Changing) My Thought Patterns

Kmsraj51 की कलम से…..

Kmsraj51-CYMT-JUNE-15

Transforming (Changing) My Thought Patterns 

Why is it that we can’t change the pattern of our thoughts so easily? Imagine a bird being so comfortable in its nest that, though perhaps sometimes it stands on the branch of the tree to inflate its chest and adjust its feathers, it never wants to fly and does not even realize it could fly. It never knows the blissful freedom of flight, never feels the wind through its wings. It thinks the other birds that are flying around are unwise or foolish. In much the same way, we never really leave our nests of old thought patterns. Our habitual thoughts become our comfort zone and each repetitive thought pattern is like a twig in the nest, which makes the nest stronger and our stay in the nest seemingly comfortable and permanent. We never experience our true spiritual freedom or flight or feel the breeze of our inner beautiful nature. Even the thought, I am a soul has to be realized eventually, so that we can actually experience its deepest truth.

In the world of spirituality, thoughts are like the map, but they are not the territory nor the reality of the experience. Thinking I am a peaceful soul or I am a loveful soul or I am a powerful soul is not being soul-conscious, it is only theory or knowledge, but it is definitely an essential start. Maps are important and necessary, until we know the way home to experience. Reaching this final destination of experience makes it easier for us and empowers us to transform or change our old thought patterns.

Θ Message Θ

An elevated consciousness brings speciality to the task being done.

Expression: As is the consciousness, so is the feeling behind the task, and therefore its quality. Just to perform action and finish the tasks at hand does not bring speciality and accuracy as much as it should. When the consciousness is special, that means before a task is performed there is a thought given both to the task and to the self, there is speciality revealed in the task.

Experience: When I am able to start each task with a special consciousness, like “I am victorious”, or “I am powerful” or “this task is for the benefit of all”, I am able to experience the speciality of doing the task. I am also able to increase my state of self-respect, whatever the task or however simple it maybe.

Watch Peace of Mind TV on following DTH
TATA(Sky # 192 | Airtel Digital TV # 686 | Videocon d2h # 497 | Reliance BigTV # 171 |

online www.pmtv.in

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

-KMSRAJ51

 

 

____Copyright © 2013 – 2015 Kmsraj51.com All Rights Reserved.____

The Relationship Between The Soul And The Body

Kmsraj51 की कलम से…..

Kmsraj51-CYMT-JUNE-15

The Relationship Between The Soul And The Body 

Human being means the consciousness, the soul or being (living energy), experiencing life through the physical body, the human (non-living). The body is perishable and temporary, whereas the soul is eternal and without physical dimension. • The soul is the driver; the body is the car. • The soul is the actor; the body is its costume. • The soul is a diamond; the body is the jewelry box. • The soul is the musician; the body is the instrument. • The soul is the guest; the body is the hotel. • The soul is the deity; the body is the temple. I can use a knife to chop vegetables. I can use the same knife to kill someone. The knife neither decides (outwards) nor experiences (inwards), but can be washed easily under water. Now look at the fingers which held the knife. They neither decide nor experience the actions. They too can be washed under water. It’s easy to realize that the knife is an instrument, but it is more difficult to realize that the fingers as well as the arms are instruments too. The legs are instruments for walking, the eyes for seeing, the ears for hearing, the mouth for speaking, the tongue for tasting, the heart for pumping food and oxygen (via blood) around the body, and so on. Even the brain is an instrument used like a computer to express all thought, word and action programs through the body and to experience the results. If every physical part of the body is an instrument, who or what is it that is using this instrument? Very simply it is I, the self, the soul. The soul uses the word I for itself and the word my when referring to the body; my hands, my eyes, my brain, etc. I am different from my body.

Θ Message Θ

To have tolerance means to be stable.

Expression: When one is faced with defamation or insult, tolerance gives the power to be stable and cool. And so there is the ability to smile even when there is negativity that comes. Tolerance means to see beyond the insults because of being stable in the stage of self-respect.

Experience: When faced with criticism, if I am able to be stable in my stage of self-respect, I am able to learn from every negative remark that comes my way. I will never become defensive, but will be able to see clearly what new learning I could take.

Watch Peace of Mind TV on following DTH
TATA(Sky # 192 | Airtel Digital TV # 686 | Videocon d2h # 497 | Reliance BigTV # 171 |

online www.pmtv.in

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

-KMSRAJ51

 

 

 

____Copyright © 2013 – 2015 Kmsraj51.com All Rights Reserved.____

क्या ढूँढ रहा रे बन्दें।

Kmsraj51 की कलम से…..
Kmsraj51-CYMT-JUNE-15

ϒ क्या ढूँढ रहा रे बन्दें। ϒ

क्या ढूँढ रहा रे बन्दें।
सब कुछ तेरे पास है॥

चाराे तरफ़ से घिरा है तूँ।
रिश्ते नाताे के झंजाल में॥

पैसा गाड़ी बंगला सब है तेरे पास।
फिर क्याे तूं रहे उदास॥

फिर क्या नही जिसके लिये तू।
इतना परेशान है॥

ढूँढता रहता है तूँ उसे हर जगह।
पर मिल ना पाता वाे तुझे कही भी॥

हर पल तलाश रहती है।
साेच अपने मन से कभी॥

कि क्या तुझे चाहिये क्या नही।
साेचने से तुझे मिलेगा ज़रूर,

एक रास्ता मिलेगी ज़रूर मंज़िल॥

©- विमल गांधी ∇
Vimal Gandhi-kmsraj51

विमल गांधी जी।

हम दिल से आभारी हैं विमल गांधी जी के प्रेरणादायक हिन्दी कविता साझा करने के लिए।

पढ़ेंविमल गांधी जी कि शिक्षाप्रद कविताओं का विशाल संग्रह।

Please Share your comment`s.

आप सभी का प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

सकारात्मक सोच + निरंतर कार्य = सफलता।

स्वयं पर और स्व-कर्माे पर विश्वास माना सफलता का आधार(नींव) मज़बूत।

 ~KMSRAJ51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

 

 

 

योगी जीवन-जीवन जीने का सार।

Kmsraj51 की कलम से…..
Kmsraj51-CYMT-JUNE-15

ϒ योगी जीवन- जीवन जीने का सार। ϒ

योग का सीमा – जाति, धर्म या मज़हब में नहीं बंधा हाेना चाहीऐं। जाति, धर्म या मज़हब का चश्मा उतार कर सभी योग करें।

मुख्यतः योग २ प्रकार के हाेते है।
प्रथम – शारीरिक योग और,
द्वितीय – मानसिक योग,

शारीरिक योग से शरीर(तन) स्वस्थ रहता है और मानसिक योग से मन व बुद्धि स्वस्थ रहता है। आज के समय में इंसान इतना व्यस्त हाे गया है कि ना ही वह अपने शारीरिक स्वास्थ का ध्यान रख पाता है और ना ही मानसिक स्वास्थ का।

आज का इंसान सत्यता से इतना दुर चला गया है जिसकी काेई सीमा नहीं। आज का इंसान सत्यता काे इंकार कर, जिस ड़ाल पर बैठा है स्वयं उसी ड़ाल काे काट रहा हैं।

चाहीऐ स्वस्थ शरीर(तन), मन व बुद्धि – अपनाये योगी जीवन।

आज 21 जून 2015 को प्रथम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस(First International Yoga Day) पूरी दुनिया में बड़े उत्साह के साथ मनाया जा रहा है।

मेरे सभी प्रिय पाठकों काे 21 जून – अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस ( International Yoga Day ) मुबारक हो।

Please Share your comment`s.

आप सभी का प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

सकारात्मक सोच + निरंतर कार्य = सफलता।

स्वयं पर और स्व-कर्माे पर विश्वास माना सफलता का आधार(नींव) मज़बूत।

 ~KMSRAJ51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

 

 

 

 

ये रंग बदलती दुनिया है, यहाँ।

Kmsraj51 की कलम से…..
Kmsraj51-CYMT-JUNE-15

ϒ ये रंग बदलती दुनिया है, यहाँ। ϒ

ये रंग बदलती दुनिया है, यहाँ।
कभी काेई असंभव काम, संभव हाे जाता है॥

कभी संभव काम असंभव, हाे जाता है।
कभी काेई ज़रूरी काम टल जाता है॥

गरीबाे काे यहाँ भटकते देखते है और,
पैसे से ईमान बदलते है यहाँ॥

कभी अपने पराये बन जाते है ताे कभी।
पराये अपना पन दिखाते है॥

रिश्ते नाताे में प्यार भी है और तक़रार भी है।
हर पल लाेग अलग – अलग रंग बदलते है॥

अलग – अलग रंग दिखाते है।
टूटते जज़्बात है और संवरते अरमान भी है॥

लाेगाे काे देख – देख हम खुद भी बदल से गये है।
यह रंग बदलती दुनिया है॥

©- विमल गांधी ∇
Vimal Gandhi-kmsraj51

विमल गांधी जी।

हम दिल से आभारी हैं विमल गांधी जी के प्रेरणादायक हिन्दी कविता साझा करने के लिए।

पढ़ेंविमल गांधी जी कि शिक्षाप्रद कविताओं का विशाल संग्रह।

Please Share your comment`s.

आप सभी का प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

सकारात्मक सोच + निरंतर कार्य = सफलता।

स्वयं पर और स्व-कर्माे पर विश्वास माना सफलता का आधार(नींव) मज़बूत।

 ~KMSRAJ51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

 

 

 

फूलों के साथ – साथ रहते है काँटे।

Kmsraj51 की कलम से…..
Kmsraj51-CYMT-JUNE-15

ϒ फूलों के साथ – साथ रहते है काँटे। ϒ

फूलों के साथ – साथ रहते है काँटे।
जीवन में हमारे साथ – साथ,

रहते है रिश्ते – नाते।
कुछ रिश्ते है फूलाे जैसे और,

कुछ है कांटाे जैसे।
कुछ साथ रह कर जीवन में॥

ख़ुशबू फैलाते है ताे कुछ।
कांटाे के जैसे हर पल चुभते जाते है॥

दाेनाे हमारे जीवन में रहते है साथ – साथ
….. और चलते है, साथ – साथ॥

दाेनाे तरह के रिश्ते निभाने ताे,
हम काे ही पड़ते है. राेकर निभाओ या हँस कर निभाओ॥

©- विमल गांधी ∇
Vimal Gandhi-kmsraj51

विमल गांधी जी।

हम दिल से आभारी हैं विमल गांधी जी के प्रेरणादायक हिन्दी कविता साझा करने के लिए।

पढ़ेंविमल गांधी जी कि शिक्षाप्रद कविताओं का विशाल संग्रह।

Please Share your comment`s.

आप सभी का प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

सकारात्मक सोच + निरंतर कार्य = सफलता।

स्वयं पर और स्व-कर्माे पर विश्वास माना सफलता का आधार(नींव) मज़बूत।

 ~KMSRAJ51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

 

 

 

 

किसी की बात दिल में लगाना ना।

Kmsraj51 की कलम से…..
Kmsraj51-CYMT-JUNE-15

ϒ किसी की बात दिल में लगाना ना। ϒ

किसी की बात दिल में लगाना ना।
किसी के लिये यूँ ही आँसू बहाना ना॥

यह दुनिया है सतरंगी, चलती रहेगी।
मगर यह आँसू है बहुत अनमाेल॥

यह है माेतियाे की बुंदे।
जाे आँखाे से छलकती है॥

इसे रखना हमेशा संभाल कर।
इसे यूँ ही गँवाना ना कभी, किसी पे॥

काेई समझेगा ना आपके दिल की बात।
ना ही काेई क़दर करेगा इन आँसुओ की॥

©- विमल गांधी ∇
Vimal Gandhi-kmsraj51

विमल गांधी जी।

हम दिल से आभारी हैं विमल गांधी जी के प्रेरणादायक हिन्दी कविता साझा करने के लिए।

पढ़ेंविमल गांधी जी कि शिक्षाप्रद कविताओं का विशाल संग्रह।

Please Share your comment`s.

आप सभी का प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

सकारात्मक सोच + निरंतर कार्य = सफलता।

स्वयं पर और स्व-कर्माे पर विश्वास माना सफलता का आधार(नींव) मज़बूत।

 ~KMSRAJ51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

 

 

 

 

सूरज चाँद सितारे सब आसमान पर।

Kmsraj51 की कलम से…..
Kmsraj51-CYMT-JUNE-15

ϒ सूरज चाँद सितारे सब आसमान पर। ϒ

सूरज चाँद सितारे सब आसमान पर।
घूम – घूम कर करते निस्वार्थ,
अपना – अपना काम॥

सूरज करता उजाला चहुँ-ओर।
शक्ति देता हर किसी काे जीवन मे॥

चाँद देता शीतलता हर प्राणी काे ताकि।
मिले हर किसी काे सूकुन और आराम॥

बरखा बादल, पेड – पाैधे, नदियाँ पहाड़।
सब कर रहे है अपना-अपना काम॥

ये देते हमें भी एक सुंदर सा पैग़ाम।
कि जब सब अपना – अपना काम करते है ताे॥

हम क्यों बैठे है खाली और उदास
हमें भी जीवन मे निस्वार्थ॥

कुछ ना कुछ करना चाहिये।
अपने चाराे ओर भला हर,

किसी का करना चाहिये।
हर किसी के बीच प्यार काे,
बढ़ाना चाहिये, ज़मीं पर॥

अटूट प्रेम का संसार बनाना चाहिये।
जीवन सफल बनाना चाहिये॥

©- विमल गांधी ∇
Vimal Gandhi-kmsraj51

विमल गांधी जी।

हम दिल से आभारी हैं विमल गांधी जी के प्रेरणादायक हिन्दी कविता साझा करने के लिए।

पढ़ेंविमल गांधी जी कि शिक्षाप्रद कविताओं का विशाल संग्रह।

Please Share your comment`s.

आप सभी का प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

सकारात्मक सोच + निरंतर कार्य = सफलता।

स्वयं पर और स्व-कर्माे पर विश्वास माना सफलता का आधार(नींव) मज़बूत।

 ~KMSRAJ51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

 

 

 

विश्व योग दिवस 21 जून।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

ϒ विश्व योग दिवस 21 जून। ϒ

© योग दिवस ®
ब्रह्म मुहूर्त में उठ कर, करना हर दम योग।
बन जाये निर्मल मन, स्वस्थ शरीर का सुन्दर योग।

21st June-International Yoga Day-kmsraj51 copy
©- विश्व योग दिवस 21 जून।

योग एक ऐसी विद्या है जो प्राचीन समय से चली आ रही है, और अब यह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर योग दिवस के रूप में २१ जून को अपनाई जायेगी। इसकी व्यापकता और सफलता इसी बात में निहित तथा झलक पड़ती है कि लोग विदेशो में भी योग को महत्व देने लगे हैं। २१ जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस घोषित करने में हमारे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी की भूमिका रही है। उन्होंने ऐसा करने पर विशेष ज़ोर दिया जिसके परिणाम स्वरुप बहुत से देशों ने योग दिवस मनाने का समर्थन भी किया।

यदि योग को अपने जीवन का आवश्यक अंग मानकर कुछ पल नियमित रूप से इसे किया जाये तो इसके लाभ प्राप्त करने से हमे कोई नहीं रोक सकता। इससे न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक रोगों से भी मुक्ति मिलती है।

चिंता, अवसाद, मोटापा, शुगर, चर्म रोग तथा अन्य बीमारियों को भी दूर भगाने का प्रयास करते हुए योग मानसिक शान्ति भी प्रदान करता है।

यदि योग की बात की जाये तो बाबा रामदेव का नाम सर्वोपरि आता है। वह योग गुरु हैं। उनका हरदम यही प्रयास रहा है कि योग द्वारा सभी लाभान्वित होकर समस्त खुशियाँ बटोर सकें।

उनकी सफलता इसी बात से उजागर हो जाती है कि यदि हम सुबह उठ कर जाएं तो जगह-जगह अथवा घरों में भी लोग योग करते हुए दिखलायी पड़ते हैं और इसी तरह प्राणायाम करना उनके जीवन का महत्वपूर्ण अंग कहलाता है।

यह एक ऐसा प्रयास है जिसे विश्व स्तर पर यदि किया जाए तो एक स्वस्थ विश्व का निर्माण हो सकता है।

अतः हम सबको चाहिए कि हम एक अटूट संकल्प करें कि योग को अपनाकर एक स्वस्थ विश्व के निर्माण में अपना छोटा सा सहयोग प्रदान करें। यह हमारा कर्तव्य भी बनता है।

©- नंदिता शर्मा। (नोएडा, उत्तर प्रदेश)®

Nandita-Kmsraj51

नंदिता शर्मा जी।

हम दिल से आभारी हैं नंदिता शर्मा जी के प्रेरणादायक “विश्व योग दिवस” पर विचार हिन्दी में साझा करने के लिए।

Please Share your comment`s.

आप सभी का प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

सकारात्मक सोच + निरंतर कार्य = सफलता।

स्वयं पर और स्व-कर्माे पर विश्वास माना सफलता का आधार(नींव) मज़बूत।

 ~KMSRAJ51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

 

 

 

 

यह दुनिया है मुसाफ़िर खाना।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

ϒ यह दुनिया है मुसाफ़िर खाना। ϒ

यह दुनिया है मुसाफ़िर खाना।
अलग – अलग मुसाफ़िर यहाँ॥

अलग – अलग बाेली यहाँ।
अलग – अलग पहनावा है यहाँ॥

इक दिन सब उड़ जायेंगे।
बाेल के अपनी – अपनी बाेली॥

याद वही आयेंगे जिन की।
हाेगी मीठी – मीठी बाेली॥

जाे करेंगे भला इस संसार में नाम।
आयेगा उनका इतिहास में॥

याद करेगी दुनिया उन्हे।
बडे इज़्ज़त और सम्मान से॥

©- विमल गांधी ∇
Vimal Gandhi-kmsraj51

विमल गांधी जी।

हम दिल से आभारी हैं विमल गांधी जी के प्रेरणादायक हिन्दी कविता साझा करने के लिए।

पढ़ेंविमल गांधी जी कि शिक्षाप्रद कविताओं का विशाल संग्रह।

Please Share your comment`s.

आप सभी का प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

सकारात्मक सोच + निरंतर कार्य = सफलता।

स्वयं पर और स्व-कर्माे पर विश्वास माना सफलता का आधार(नींव) मज़बूत।

 ~KMSRAJ51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

 

 

 

Experiencing And Maintaining A State Of Contentment

Kmsraj51 की कलम से…..

cymt-kmsraj51-1

Experiencing And Maintaining A State Of Contentment

To reach, experience and maintain a state of contentment or fulfillment you have to first realize what true freedom is and then learn how to use it so that it strengthens you and also helps you to achieve the full potential of your individual self. Freedom is the key to contentment. You also need to check what brings you close to the state of fulfillment and what takes you away from it. Fears of different kinds are one of the main obstacles in experiencing contentment. Any weakness, inability to apply any virtue or spiritual power required in any situation, lack of focus, inner instability, etc. will cause a leakage of the energy of positivity that is required to feel content. Free yourself of any personality trait that hinders your progress and does not allow your inner being to manifest itself and express itself with all its potential. To live in contentment, you should be in charge of your inner mental and emotional world. If not, you will only be able to experience temporary periods of fulfillment.

To achieve fulfillment you not only have to have inner control, but you also need to check whether there is any door open to allow any weakness to enter the room of your personality. Because if you strengthen yourself on the one hand and on the other you are weakened, you will never reach the desired state of inner power. E.g. you keep a bucket of water under a tap of water. If it has even a single crack, however much water you pour into the bucket, it will never get filled completely. In the same way, this can happen to you. Because of this, you need to check, which cracks are present in your personality through which there are leaks of energy, because of which your efforts to become content do not give you the results you hope for.

Θ Message Θ

The one who has self-respect is the one who is free from aggression.

Thought to ponder: When the situation seems out of control, there is naturally a feeling of helplessness. This helplessness further creates tension, which gets expressed in the form of aggression. Such a kind of aggression cannot be suppressed or controlled. To be in the state of one’s own self-respect is to be confident and the one who is confident will be assertive but can never be aggressive.

Point to practice: I am able to keep my mind cool, when I am in my state of self-respect. So I never react to situations negatively but I am able to understand the situation and respond in the right way. I take decisions in a calm and composed state of mind, so I find myself relaxed and easy even in the most difficult situations.

Watch Peace of Mind TV on following DTH
TATA(Sky # 192 | Airtel Digital TV # 686 | Videocon d2h # 497 | Reliance BigTV # 171 |

online www.pmtv.in

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

-KMSRAJ51

 

 

 

 

 

____Copyright © 2013 – 2015 Kmsraj51.com All Rights Reserved.____

ना ताेडाे किसी का घर।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

ϒ ना ताेडाे किसी का घर। ϒ

ना ताेडाे किसी का घर।
ना छिनाे किसी से राेटी॥

पक्षियाें काे उड़ने दाे।
खुले आसमान में॥

मछलियाे काे तैरने दाे पानी में।
नदी के बहाव काे ना राेकाे, कभी॥

जीने दाे सबकाे अपनी खुशी से।
जिंदगी है सबकी अपनी-अपनी॥

लगाओ ना काेई राेक-टाेक।
ना लगाओ काेई बंधन॥

खुद खुश रहाे और सबकाे,
खुश रहने दाे इस संसार में॥

जिंदगी है बहुत छाेटी फिर।
ना मिलेगी दुबारा कभी॥

©- विमल गांधी ∇
Vimal Gandhi-kmsraj51

विमल गांधी जी।

हम दिल से आभारी हैं विमल गांधी जी के प्रेरणादायक हिन्दी कविता साझा करने के लिए।

पढ़ेंविमल गांधी जी कि शिक्षाप्रद कविताओं का विशाल संग्रह।

Please Share your comment`s.

आप सभी का प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

सकारात्मक सोच + निरंतर कार्य = सफलता।

स्वयं पर और स्व-कर्माे पर विश्वास माना सफलता का आधार(नींव) मज़बूत।

 ~KMSRAJ51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

 

 

 

 

The Energy Of Give And Take In Relationships

Kmsraj51 की कलम से…..

cymt-kmsraj51-1

The Energy Of Give And Take In Relationships

Love, more than any other virtue, is an extremely positive energy; it is an invisible prime mover and foundation of each one of our lives, a source of motivation and inspiration. People lacking love in their lives are normally lesser motivated and happier than those who have positive and healthy relationships full of love and an immense amount of love in their lives. But when the same energy of love, possessing immense positive potential, is negatively focused and is not used correctly, it leads to many dependencies which are negative in nature. How?

When you love someone, that could be your parents, your spouse, your children, your siblings, your friends, any relationship for that matter; there is a invisible and positive emotional and mental attraction between you and that person which keeps you connected to him/her, but the moment the love turns into attachment and becomes a dependency, that person starts dominating and controlling your inner world of thoughts, feelings and emotions and your mental and emotional freedom is lost. It is as if your inner world succumbs to the influence of the other person and you are no longer yourself. Everything that goes on inside you and that comes out of you has an impression of the other. This kind of love is not empowering, energizing and healing, because in this kind of love, over a period of time, desires, wants and expectations from the other start emerging. All these emotions place you in a mental mode of taking instead of giving. Also in such a kind of love, where love is mixed with a desire to possess, over a period of time you start wanting to control the other. From this control, you start exercising a power to influence the other. At first you are under their influence. As more attachment builds up, this is followed shortly by your desire to bring them under your submission and influence them. That way, you feel that you have them and that they belong to you. This is love that wants to take and not give. In this kind of relationship of love, there is suffering and sorrow. Even if joy exists, it is extremely short lived. Unconditional love or love that only wants to give and not take or expect, strengthens and is healing, it never hurts or inflicts pain on the other.

Θ Message Θ

To be free from worry means to have the power to change negative into positive.

Thought to ponder: The ones who are free from worry change that which is bad into something good, because the state of mind is calm. The one with a calm state of mind is able to think creatively and see very clearly even beyond the situation. So there is the ability to transform the seemingly negative situation into something very positive. So there is clear decision-making and quick action. There is also no time wasted.

Point to practice: When I am free from worry, I constantly remain satisfied for having seen the positive and finding the solutions immediately instead of looking at the problem and worrying over it. This internal silence gives the feeling of power, which naturally enables transformation in a second and only the goodness is absorbed.

Watch Peace of Mind TV on following DTH
TATA(Sky # 192 | Airtel Digital TV # 686 | Videocon d2h # 497 | Reliance BigTV # 171 |

online www.pmtv.in

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

-KMSRAJ51

 

 

 

 

____Copyright © 2013 – 2015 Kmsraj51.com All Rights Reserved.____