यह रिश्ता है-मित्रता का।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

यह रिश्ता है-मित्रता का।

साथी का शाब्दिक अर्थ होता है साथ देने वाला। ऐसे साथ की आस भी हर कोई करता है। क्योंकि जीवन के सुख-दु:ख में किसी का साथ राहत देने वाला होता है। ऐसा साथ अनेक रिश्तों के रूप में व्यक्ति को मिलता है। चाहे वह माता-पिता, पत्नी, भाई या बहन। किंतु पारिवारिक रिश्तों के अलावा एक ऐसा रिश्ता भी है, जो वैसे ही विश्वास, प्रेम, सहयोग के साथ सुख-दु:ख के अवसरों पर परिजनों की तरह ही आस-पास ही होता है। यह रिश्ता है-मित्रता का।

एक अच्छा दोस्त आपके सभी कहानियों को जानता है, आैर सबसे अच्छा दोस्त हमेशा आप की मदद करता हैं।

एक अच्छा दोस्त आपकी अनुपस्थिति में भी आपका हर कार्य अच्छे से करता हैं।

यह सच है सच्ची दोस्ती दिल के माध्यम से देखा जाता है,न की आँखों के माध्यम से।

सच्ची दोस्ती दिल को दिल से जाेडता है, दूरी और समय उन्हें अलग नहीं तोड़ सकते हैं।

यह सच है की जीवन में काेई भी समस्या आने पर एक सच्चा दोस्त हमेशा कंधे से कंधा मिलाकर चलता रहता हैं।

एक सच्चा दोस्त एक सच्चे गाइड की तरह हमेशा आपका मार्गदर्शन करता रहता हैं।

बड़े भाग्य से एक सच्चा दोस्त जीवन में मिलता है, और एक सच्चा दोस्त जीवनभर आपका साथ निभाता हैं।

प्रश्न :- दोस्त क्या है?\मित्र क्या है?

उत्तर :- “एक आत्मा जाे दाे शरीराें में निवास करती है”

एक सच्चे दोस्त का जीवन में कभी परीक्षा न लें।

एक छोटी सी कहानी एक बाग में एक फूल पर एक भँवरा और एक तितली दोनों एक साथ बैठते थे। कुछ समय बाद वो दोनों एक दूसरे से मोहब्बत करने लगे। वक्त के साथ उनकी मोहब्बत इतनी गहरी हो गई की अगरउनमें से एक को दूसरा दिखाई नहीं देता तो पहला बेचैन होने लगता था। एक दिन तितली ने भँवरे से कहा कि वह उस से जितना प्यार करती है भँवरा उस से उतना प्यार नहीं करता। इस बात को लेकर दोनों में शर्त लग. गयी कि जो ज्यादा प्यार करता है वह कल सुबह इस फूल पर पहले आकर बैठेगा। शाम को इस शर्त के साथ दोनो अपने अपने घर चले गए। जबरदस्त ठण्ड होने के बावजूद भी अगले दिन सुबह जल्दी ही तितली फूल पर आकर बैठ गई। लेकिन भंवरा अभी तक नहीं आया था। तितली बहुत खुश थी। क्योंकि वह शर्त जीत चुकी थी। कुछ देर बाद जैसे ही धूप से फूल खिला। तो तितली ने देखा कि भंवरा फूल के अन्दर।मरा पड़ा है। क्योंकि की वह शाम को घर गया ही नहीं था और रात को ठण्ड से मर गया।

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

http://wp.me/p3gkW6-1dk

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

http://wp.me/p3gkW6-mn

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

http://wp.me/p3gkW6-1dD

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

http://wp.me/p3gkW6-Ig

* चांदी की छड़ी।

http://wp.me/p3gkW6-1ep

 

 

_______Copyright © 2014 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

Happy Anniversary!!

Happy Anniversary!!
anniversary-1x


Happy Anniversary!!
09-March-2013 to 09-March-2014
Completed ONE (1) Year Successfully Journey
KMSRAJ51 –ALWAYS POSITIVE THINKER
https://kmsraj51.wordpress.com/

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

जीवन में सबसे कठिन दौर यह नहीं है जब कोई तुम्हें समझता नहीं है, बल्कि यह तब होता है जब तुम अपने आप को नहीं समझ पाते.

All of my dear reader`s & friend`s lots of thanks’
Coverage 95+ Country Reader`s
India Top Hindi Website =>
https://kmsraj51.wordpress.com/

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

तुम्हारे न रहने पर
थोड़ा-थोड़ा करके
सचमुच हमने पूरा खो दिया तुम्हें
पछतावा है हमें
तुम्हें खोते देखकर भी
कुछ भी नहीं कर पाये हम,
अब हमारी ऑंखें सूनी हैं,
जिन्हें नहीं भर सकतीं
असंख्य तारों की रोशनी भी
और न ही है कोई हवा
मौजूद इस दुनिया में
जो महसूस करा सके
उपस्‍थिति तुम्हारी,
एक भार जो दबाये रखता था
हर पल हमारे प्रेम के अंग
उठ गया है, तुम्हारे न रहने से
अब कितने हल्के हो गये हैं हम
तिनके की तरह पानी में बहते हुए ।

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

anniversary-1x

Thank`s & Regard`s

anniversary-1x

Krishna Mohan Singh51(कृष्ण मोहन सिंह51)
Spiritual Author Cum Spiritual Guru
Always Positive Thinker Cum Motivator
Sr.Administrator (IT-Software, Hardware & Networking)
ID: kmsraj51@yahoo.in
Founder & CEO

Of: https://kmsraj51.wordpress.com/

9-3-14 kmsraj51

5-kms0005

ladali

 

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

———————————————————————————-

——————– —– https://kmsraj51.wordpress.com/ —– ——————

Happy Anniversary!!

Happy Anniversary!!
anniversary-1x


Happy Anniversary!!
09-March-2013 to 09-March-2014
Completed ONE (1) Year Successfully Journey
KMSRAJ51 –ALWAYS POSITIVE THINKER
https://kmsraj51.wordpress.com/

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

जीवन में सबसे कठिन दौर यह नहीं है जब कोई तुम्हें समझता नहीं है, बल्कि यह तब होता है जब तुम अपने आप को नहीं समझ पाते.

All of my dear reader`s & friend`s lots of thanks’
Coverage 95+ Country Reader`s
India Top Hindi Website =>
https://kmsraj51.wordpress.com/

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

तुम्हारे न रहने पर
थोड़ा-थोड़ा करके
सचमुच हमने पूरा खो दिया तुम्हें
पछतावा है हमें
तुम्हें खोते देखकर भी
कुछ भी नहीं कर पाये हम,
अब हमारी ऑंखें सूनी हैं,
जिन्हें नहीं भर सकतीं
असंख्य तारों की रोशनी भी
और न ही है कोई हवा
मौजूद इस दुनिया में
जो महसूस करा सके
उपस्‍थिति तुम्हारी,
एक भार जो दबाये रखता था
हर पल हमारे प्रेम के अंग
उठ गया है, तुम्हारे न रहने से
अब कितने हल्के हो गये हैं हम
तिनके की तरह पानी में बहते हुए ।

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

anniversary-1x

Thank`s & Regard`s

anniversary-1x

Krishna Mohan Singh51(कृष्ण मोहन सिंह51)
Spiritual Author Cum Spiritual Guru
Always Positive Thinker Cum Motivator
Sr.Administrator (IT-Software, Hardware & Networking)
ID: kmsraj51@yahoo.in
Founder & CEO

Of: https://kmsraj51.wordpress.com/

9-3-14 kmsraj51

5-kms0005

ladali

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!! —– Happy Anniversary!!

———————————————————————————-

——————– —– https://kmsraj51.wordpress.com/ —– ——————

मित्रता – Friendship !!

Happy Anniversary!!
anniversary-1x

kmsraj51 की कलम से …..

f r shFriendship

तुम्हारा साथ

तुम्हारा साथ होता है
बसंत की तरह
जिसमे मुस्कराती हैं कलियाँ
लहलहाते हैं खेत
मचलती हैं हवायें
इठलाते है बादल और
उन्ही में से झांकता है सूरज….

तुम्हारा साथ होता है
बारिश की तरह
जो पुलकित कर देता है
तन-मन को,
एक पल के लिए
इनकी छोटी बूंदों पर
होते है हमारे सपने,
जो टूट कर, बिखरकर मिल जाते हैं
और बनाते है आशाओं की नदियाँ….

तुम्हारा साथ होता है
बचपने की तरह,
जिसकी हर किलकारी पर
उमड़ पड़ता ‘माँ’ का मातृत्व
देखते है कौतुहल भरे नेत्रों से
हर किसी के प्यार को…
जो थाम लेना चाहता है
नन्हीं-नन्हीं अँगुलियों से
पूरा का पूरा संसार,
घूम लेना चाहता है
लड़खड़ाते कदम से
पूरा का पूरा जहाँ
जिसकी चाँद जैसी मुख-भंगिमा पर मुग्ध हो
हिलोरे लेने लगता है
पूरा का पूरा समुद्र….

तुम्हारा साथ होता है
झरनों की तरह,
जिससे फिसलकर गिरता है वक्त
निश्च्छल, कान्त और पवित्र,
जो सिंचित करता है आत्मा को
मधुर, मलय, शीतलता
उद्धेलित कर जाती तन-मन को……….

तुम्हारा साथ होता है
भावनाओं का सम्प्रेषण,
मुश्किल होता है
जज्बातों को लफ्जों में बांधना,
कहाँ है वो
वाक्यों की सुन्दरतम वाय परिसीमा
जो शब्दों की लड़ियों से
परिभाषित कर सके
हमारे-तुम्हारे साथ को…..

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

kids-KMSRAJ51


———————————————————————————-
——————– —– https://kmsraj51.wordpress.com/ —– ——————

Life Management in Hindi !!


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
KMS-2014-51

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms


अच्छे लोग और अपने हितैषियों को हम पहचान नहीं पाते और अपने विरोधियों के प्रति पूरी तरह शत्रुता, इन्कारने का भाव रख लेते हैं। इसे चिंतन दोष कहा जाएगा। न कोई पूरी तरह अच्छाई से भरा है और नहीं बुराइयों से भरपूर होगा। मनुष्य गुण-दुर्गुण का मिलाजुला रूप है। हमें इस संतुलन के विचार को सावधानी से उपयोग में लाना चाहिए। अपने विरोधियों के विचार जानते रहना चाहिए, खासतौर पर जब वे आपके लिए व्यक्तिगत टिप्पणी कर रहे हों।

यदि इसका निष्पक्ष विश्लेषण करें तो हमें बहुत सी काम की और हितकारी बातें हाथ लग सकती हैं। इस प्रयोग को झेन फकीरों ने बखूबी किया है। जब भी कोई शिष्य उनसे दीक्षित होता, तो गुरु कहते जाओ, हमने पा लिया, हमारे हो गए, अब कुछ दिन जरूरी रूप से हमारे विरोधी के पास जाकर रहो। हमारा दूसरा पक्ष वहां नजर आएगा, लेकिन जाना निष्पक्ष होकर। इस बात की पूरी संभावना रहेगी कि विरोधी कुछ मामले में सही भी हो।

हमारा और विरोधी का पक्ष मिलकर एक तीसरा नया पक्ष बन जाए जो और भी श्रेष्ठ हो सकता है। यदि तुम्हारा इरादा नेक होगा तो हमारे और हमारे विरोधी दोनों की गलत बात को नकार कर तुम एक नई सही बात प्राप्त कर लोगे। इसलिए विरोधी विचार या व्यक्ति से शत्रुता न पाली जाए। यदि नेक इरादे से चलेंगे तब जो आज शत्रु है कल मित्र हो सकता है। यदि अपने भीतर की आध्यात्मिक योग्यता को विकसित करना है तो विरोधी के विचार को सम्मान देना सीख जाएं। स्वयं के व्यक्तित्व को अपने ही विचारों में बांधें न बल्कि विरोधी के विचारों से खोलना भी सीखें।


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
cropped-kms10060.jpg

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!


~~~~~ ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..~~~~~~~~~

Life Management in Hindi !!


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
KMS-2014-51

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms


अच्छे लोग और अपने हितैषियों को हम पहचान नहीं पाते और अपने विरोधियों के प्रति पूरी तरह शत्रुता, इन्कारने का भाव रख लेते हैं। इसे चिंतन दोष कहा जाएगा। न कोई पूरी तरह अच्छाई से भरा है और नहीं बुराइयों से भरपूर होगा। मनुष्य गुण-दुर्गुण का मिलाजुला रूप है। हमें इस संतुलन के विचार को सावधानी से उपयोग में लाना चाहिए। अपने विरोधियों के विचार जानते रहना चाहिए, खासतौर पर जब वे आपके लिए व्यक्तिगत टिप्पणी कर रहे हों।

यदि इसका निष्पक्ष विश्लेषण करें तो हमें बहुत सी काम की और हितकारी बातें हाथ लग सकती हैं। इस प्रयोग को झेन फकीरों ने बखूबी किया है। जब भी कोई शिष्य उनसे दीक्षित होता, तो गुरु कहते जाओ, हमने पा लिया, हमारे हो गए, अब कुछ दिन जरूरी रूप से हमारे विरोधी के पास जाकर रहो। हमारा दूसरा पक्ष वहां नजर आएगा, लेकिन जाना निष्पक्ष होकर। इस बात की पूरी संभावना रहेगी कि विरोधी कुछ मामले में सही भी हो।

हमारा और विरोधी का पक्ष मिलकर एक तीसरा नया पक्ष बन जाए जो और भी श्रेष्ठ हो सकता है। यदि तुम्हारा इरादा नेक होगा तो हमारे और हमारे विरोधी दोनों की गलत बात को नकार कर तुम एक नई सही बात प्राप्त कर लोगे। इसलिए विरोधी विचार या व्यक्ति से शत्रुता न पाली जाए। यदि नेक इरादे से चलेंगे तब जो आज शत्रु है कल मित्र हो सकता है। यदि अपने भीतर की आध्यात्मिक योग्यता को विकसित करना है तो विरोधी के विचार को सम्मान देना सीख जाएं। स्वयं के व्यक्तित्व को अपने ही विचारों में बांधें न बल्कि विरोधी के विचारों से खोलना भी सीखें।


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
cropped-kms10060.jpg

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~ ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~