Understanding What Are Karmic Accounts

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-kmsraj51-New

Understanding What Are Karmic Accounts

Mera Baba

मेरा बाबा

We are not individuals acting alone in this world drama; we act in this extraordinary drama or play of life with other actors or souls who (along with us) play their different roles with different physical costumes at different times in the drama. During the process of interaction with other actors (souls) and according to the type of interaction with them, we create accounts of debit or credit that become the basis of our connections with others. The reasons for which a specific relationship goes well or not are in the so calledkarmic account that I have accumulated with the other person in the past. The past could be in this birth alone or in one or many previous births. The souls that play the parts of parents, children, husbands, wives, brothers, sisters, friends, office colleagues and others whom I know form a network for the giving and receiving of happiness and sorrow from accounts established in the past or being created in the present.

The strongest relationships that I have now were established previously. We knew each other in other lives and but in different roles. The daughter of some births ago returns now as the father, the best friend comes back as the sister etc. As long as the account exists, the interchange of actions between two souls continues. When there is nothing more to give or receive, the paths between the two souls separate by death, a break-up, a divorce or simply by the loss of contact. An e.g. of this is our school friends. Many of our friends whom we were close to in our school days, we are not in touch with today. Another e.g. is when we change jobs; we might lose complete contact with our old colleagues.

Message

To be free from waste questions is to save time.

Projection: When difficult situations come my way I usually have a lot of questions in my mind about it. I continue to ask myself why the situation has come and have no answers. These questions usually bring me no solution for the problems at hand but I continue to have waste thoughts.

Solution: I need to understand the importance of the time that is in my hands. When I recognize the value of my time I will not waste time in unnecessary thoughts but will try to find a solution for the problem. If there is no solution for the problem I at least just stop thinking unnecessarily and just accept it.

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@yahoo.inपसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

CYMT-KMSRAJ51

 

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51 

 

अगर जीवन में सफल हाेना हैं, ताे कभी भी काेई भी कार्य करें ताे पुरें मन से करे।

जीवन में सफलता आपकाे देर से ही सही लेकिन सफलता आपकाे जरुर मिलेगी॥

 ~KMSRAJ51

 

CYMT-TU NA HO NIRASH K M S

 

_____ all @rights reserve under Kmsraj51-2013-2014 ______

Bringing Your Dreams Alive

kmsraj51 की कलम से …..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M TBringing Your Dreams Alive

believe_in_your_dreams_kmsraj51

 

 

 

 

Each one of us has dreams that we nourish right through our lives. Some are short-term dreams and some long term ones. Dreams keep changing as we progress through different phases of our life. Some are achieved, some are not. Some of us possess the ability to realize our dreams more than the rest. The most important and influential factor in this process is how much we believe in our dream and believe that it will be realized. Some of the factors that hamper this belief are:

* The influence of the past – the memories of our past failures, which sow seeds of doubt in our mind; as well as successes, which keep us in an illusionary consciousness and distance us from the present moment and our present actions. Also, sometimes we associate present temporary failures or ups and downs which may come in our way, with failures of the past.
* Lack of inner strength or power, when faced with obstacles in your path. Tendency to get dejected very easily and creating weak thoughts like we do not deserve it or we are not capable of it or are we not lucky enough or it is not in our destiny or maybe it is our negative past actions which are influencing our dream realization process adversely, etc.
* The opinions or comments of people surrounding you who sometimes, are not in tune with your consciousness and are not able to empathize with your purpose. Their comments easily de-focus you from your purpose.
* Lack of ability to mould or adjust during the dream realization journey. Any journey is always full of twists, turns and sudden changes. A rigid state of mind, which is not able to change its tactics as required, may make the path seem more difficult than it actually is.

* It is very good to dream but excessive attachment to the dream also may make the journey towards the dream stressful and bring down your self-belief at times.

brahmakumaris-kmsraj51In Spiritual Service,

Brahma Kumaris

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:kmsraj51@yahoo.in. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

also send me E-mail:

kmsraj51@yahoo.in 

&

 cymtkmsraj51@hotmail.com

love-rose-kmsraj51

जाे आपका आैर आपके समय के वैल्यू काे ना समझे।

उसके लिए कभी भी कार्य (Work) ना कराे॥

-Kmsraj51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

kmsraj51- C Y M T

kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

95 + देश के पाठकों द्वारा पढ़ा जाने वाला वेबसाइट हैं॥

I am grateful to all of my dear readers.

 

https://kmsraj51.wordpress.com/

 

_________________ all rights reserve under kmsraj51-2013 _________________

 

बीती ताही बिसार दे, आगे की सुधि लेय।

Kmsraj51 की कलम से…..

Kmsraj51-CYMT09

बीती ताही बिसार दे, आगे की सुधि लेय।

http://kmsraj51.com/

बीती ताही बिसार दे, आगे की सुधि लेय।

तारीखें बदलती हैं, साल बदलते हैं, किन्तु वक्त के इस बदलाव में सपने नही बदलते, आशाएं नही बदलती। आगे बढने की चाह कभी कमजोर नही होती। यही सोच विकास को मजबूती देती है। गतिमान समय के साथ अक्सर धूप के बीच बादल रूपी परेशानियाँ या असफलताएं भी अपने होने का एहसास करा देती हैं। कई बार ऐसा देखा जाता है कि इन क्षणिंक असफलताओं से हम में से कई लोग घबङा जाते हैं, जिसका असर आने वाले पल पर भी पढता है।

सच तो ये है कि, सभी परिस्थितियाँ कुछ न कुछ सबक दे कर जाती हैं। बदलती तारीखों के साथ प्रत्येक क्षेत्र में कुछ न कुछ बदलाव भी होता रहता है। जो समाज के विकास में भी जरूरी हैं। बहुत पहले डार्विन ने एक सिद्धान्त प्रतिपादित किया था कि, जो जीव परिस्थिती के अनुरूप अपने को ढाल लिये वही सरवाइव किये। ये सिद्धान्त आज की भागदौङ और तनाव भरी जिंदगी में अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि आज वही सरवाइव कर सकता है जो नए माहौल के अनुरूप स्वंय को ढाल लेता है। जिंदगी की इस रेस में हम कई बार जीतते हैं तो कई बार हार भी जाते हैं। लेकिन यदि हम अपना दिमाग खुला रखें तो हर अनुभव हमें समृद्ध बनाता है।

आजकल एक बङी समस्या ये भी है कि, प्रेम में असफल युवा अपनी इस असफलता को जिंदगी की हार समझ लेते हैं। जबकि उनके पास अनेक ऐसी क्षमताएं होती हैं, जिससे वे नया इतिहास रच सकते हैं। उन युवकों को ये समझना चाहिए कि आधुनिक तकनिकों से लैस 21वीं सदी हीर-रांझा या लैला-मजनू का समय नही है। आज ‘टू मिनट नूडल्स’ की दुनिया में प्रेम भी शार्ट टर्म कोर्स की तरह हो गया है। फेसबुक, ट्यूटर, वाट्सअप जैसे नवीन संचार साधनो के जमाने में भावनात्मक ताने-बाने को ढूंढना किसी मूर्खता से कम नही है। आज दोस्ती, कल ब्रेकअप वाले रिश्तों की यादों में स्वंय को समेटना और जिंदगी के किमती पलों को दुश्वर बनाना किसी आत्महत्या से कम नही है।

तारीखों के बदलते ही जो यादें या डर विकास की राह में बाधा पहुँचाए उन्हे अपनी मेमोरीकार्ड से डीलिट कर देना चाहिए। अर्थात “बीती ताही बिसार दे आगे की सुधि लेय”। खाली हुए स्पेस में सकारात्मक विचारों को सेव(Save) कर लेना चाहिए। इन सकारात्मक विचारों से ही डर पे जीत हासिल होती है। मन में ये संकल्प करें कि सकारात्मक हौसले की उङान से मंजिल तय करेंगे। दोस्तों, यकीनन किसी हाई वे पर हँसती खेलती जिंदगी आप का इंतजार करती मिल जायेगी।

धन्यवाद,
अनीता शर्मा जी।

श्रीमती -अनीता शर्मा जी। (http://roshansavera.blogspot.in/)

I am grateful to Mrs. Anita Sharma Ji, for sharing inspirational thoughts in Hindi with Kmsraj51 readers.

एक अपील –

आज कई दृष्टीबाधित बच्चे अपने हौसले से एवं ज्ञान के बल पर अपने भविष्य को सुनहरा बनाने का प्रयास कर रहे हैं। कई दृष्टीबाधित बच्चे तो शिक्षा के माधय्म से अध्यापक पद पर कार्यरत हैं। उनके आत्मनिर्भर बनने में शिक्षा का एवं आज की आधुनिक तकनिक का विशेष योगदान है। आपका साथ एवं नेत्रदान का संकल्प कई दृष्टीबाधित बच्चों के जीवन को रौशन कर सकता है। मेरा प्रयास शिक्षा के माध्यम से दृष्टीबाधित बच्चों को आत्मनिर्भर बनाना है। इस प्रयोजन हेतु, ईश कृपा से एवं परिवार के सहयोग से कुछ कार्य करने की कोशिश कर रहे हैं जिसको YouTube पर “audio for blind by Anita Sharma” लिख कर देखा जा सकता है।

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

 

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

http://wp.me/p3gkW6-1dk

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

http://wp.me/p3gkW6-mn

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

http://wp.me/p3gkW6-1dD

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

http://wp.me/p3gkW6-Ig

* चांदी की छड़ी।

http://wp.me/p3gkW6-1ep

 

 

_______Copyright © 2014 kmsraj51.com All Rights Reserved.________