Special diets according to age !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** आयु अनुसार विशेष आहार – Special diets according to age !! **

kms-6

kms-6


शरीर को स्वस्थ व मजबूत बनाने के लिए प्रोटीन्स, विटामिन्स व खनिज (minerals) युक्त पोषक पदार्थो की आवश्यकता जीवनभर होती है | विभिन्न आयुवर्गो हेतु विभिन्न पोषक तत्त्व जरुर्री होते है, किस उम्र में कौन-सा तत्त्व सर्वाधिक आवश्यक है यह दिया जा रहा है :

१) जन्म से लेकर ५ वर्ष की आयु तक : इस उम्र में बच्चों के स्वस्थ शरीर तथा मजबूत हड्डियों के लिए विटामिन ‘डी’ जो कैल्शियम ग्रहण करने में मदद करता है व लोह तत्त्व अत्यावश्यक होता है | विटामिन ‘डी’ की पूर्ति में दूध, घी, मक्खन, गेंहूँ, मक्का जैसे पोषक पदार्थ तथा प्रात:कालीन सूर्य की किरणें दोनों अत्यंत मददरूप होते है | किसी एक की भी कमी होने से बच्चों को हड्डियाँ कमजोर व पतली रह जाती है, वे सुखा रोग से ग्रस्त हो जाते है, अत: स्तनपान छुड़ाने के बाद बच्चों के आहार में लोह व विटामिन ‘डी’ युक्त पदार्थ जरुर शामिल करने चाहिए |

२) ६ से १९ वर्ष की आयु तक : ६ से १२ वर्ष की आयु बाल्यावस्था और १३ से १९ वर्ष की आयु किशोरवस्था है | इस आयु में शरीर तथा हड्डियों का तेजी से विकास होता है इसलिए कैल्शियम की परम आवश्यकता होती है | बड़ी उम्र में हड्डियों की मजबूती इस आयु में लिए गये कैल्शियम की मात्रा पर निर्भर रहती है | दूध, दही, छाछ, मक्खन, तिल, मूंगफली, अरहर, मुंग, पत्तागोभी, गाजर, गन्ना. संतरा, शलजम, सूखे मेवों व अश्वगंधा में कैल्शियम खूब होता है | आहार – विशेषज्ञों के अनुसार इस आयुवर्ग को कैल्शियम की आपूर्ति के लिए प्रतिदिन एक गिलास दूध अवश्य पीना चाहिए |

इस उम्र में लौह की कमी से बौद्धिक व शारीरिक विकास में रुकावट आती है | राजगिरा, पालक,मेथी, पुदीना, चौलाई, आदि हरी सब्जियों एवं खजूर, किशमिश, मनुक्का, अंजीर, काजू, खुरमानी आदि सूखे मेवों तथा करेले, गाजर, टमाटर, नारियल, अंगूर, अनार, अरहर, चना, उड़द, सोयाबीन आदि पदार्थो के उपयोग से लौह तत्त्व की आपूर्ति सहजता से की जा सकती है |
किशोरावस्था में प्रजनन क्षमता के विकास हेतु जस्ता (zinc) एक महत्त्वपूर्ण खनिज है | सभी अनाजों में यह पाया जाता है | इस आयु में खनिज की कमी से बालकों का स्वभाव हिंसक व क्रोधी हो जाता है तथा बालिकाओं में भूख की कमी एवं मानसिक तनाव पैदा होता है | अनाज, दालों, सब्जियों व कन्दमुलों (गाजर, शकरकंद, मुली, चुकंदर आदि) में खनिज विपुल माता में होते है |

३) २० से ३० वर्ष की आयु तक : इस युवावस्था में सर्वाधिक आवश्यकता होती है लौह तत्त्व, एंटी-ऑक्सीडेटस, फ़ॉलिक एसिड तथा विटामिन ‘ई’ व ‘सी’ की |

(क) लौह तत्त्व : मासिक धर्म के कारण पुरुषो की अपेक्षा स्त्रियों को लौह तत्त्व की दोगुनी जरूरत होती है |

(ख) एंटी-ऑक्सीडेटस : कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त होने से बचाने हेतु तथा स्त्री-पुरुषों के प्रजनन-संस्थान को स्वस्थ बनाये रखने के लिए एंटी-ऑक्सीडेटस आवश्यक होते है | आँवला, मुनक्का, अंगूर, अनार, सेवफल, जामुन, बेर, नारंगी, आलूबुखारा, स्ट्रोबेरी, रसभरी, पालक, टमाटर में एंटी-ऑक्सीडेटस अधिक मात्रा में पाये जाते है | फलों के छिलके व बिना पकाये पदार्थ जैसे सलाद, चटनी आदि में भी ये विपुल मात्रा में होते है | अन्न को अधिक पकाने से वे घट जाते है |

(ग) फ़ॉलिक एसिड : महिलाओं में युवावस्था व प्रारम्भिक गर्भावस्था में फ़ॉलिक एसिड की भी आवश्यकता होती है | यह फूलगोभी, केला, संतरा, सेम, पत्तेदार हरी सब्जियों, खट्टे-रसदार फलों, आडू, मटर, पालक, फलियों व शतावरी आदि में पाया जाता है |

(घ) विटामिन ‘ई’ : पुरुषों में पुंसत्वशक्ति व स्त्रियों में गर्भधारण क्षमता बनाये रखने के लिए इसकी आवश्यकता होती है | यह ह्रदय व रक्तवाहिनियों को स्वस्थ रखकर रक्तदाब नियंत्रित रखता है | इससे गम्भीर ह्रदयरोगों में रक्षा होती है | अंकुरित अनाज, वनस्पतिजन्य तेल (तिल, मूंगफली, सोयाबीन, नारियल तेल आदि) व सुकहे मेवे विटामिन ‘ई’ के अच्छे स्त्रोत है | एक चुटकी तुलसी के बीज रात का भिगोकर सुबह सेवन करने से भी विटामिन ‘ई’ प्राप्त होता है |

(ड) विटामिन ‘सी’ : रक्त को शुद्ध व रक्तवाहिनियों को लचीला बनाये रखने तथा हड्डियों की मजबूती के लिए यह आवश्यक है | संतरा, आँवला, नींबू, अनन्नास आदि खट्टे व रसदार फल, टमाटर, मुली, पपीता, केला, अमरुद, चुकंदर आदि में यह अच्छी मात्रा में पाया जाता है |


facts-about-healthy-food1

Fruit-Vegetables-Healthy-Food

(४) ३१ से ५० वर्ष की आयु तक : इस प्रोढ़ावस्था के दौरान कैल्शियम, विटामिन ‘ई’ और फ़ॉलिक एसिड की आवश्यकता अधिक होती है | फ़ॉलिक एसिड व विटामिन ‘ई’ ह्रदयरोगों की संभावनाओं को कम करते है |
महिलाओ में रजोनिवृत्ति के बाद इस्ट्रोजन हार्मोन स्त्रावित होना बंद हो जाता है, जिसके आभाव में कैल्शियम का अवशोषण मंद पड जाता है, अत: रजोनिवृत्ति के बाद हड्डियों को कमजोर होने से बचाने के लिए कैल्शियमयुक्त पदार्थों की जरूरत अधिक होती है |

(५) ५१ से ७० वर्ष या इससे ऊपर की आयु : इस उम्र के दौरान कोशिकाओं में होनेवाले वार्धक्यजन्य परिवर्तनों को रोकने के लिए एंटी-ऑक्सीडेटस सहायक तत्त्व है | इनके अभाव में लकबा, ह्रदयरोग तथा ज्ञानतंतु व ज्ञानेंद्रियों की दुर्बलता (neurodegenerative changes) एवं कैंसर होने की सम्भावना अधिक होती है | वृद्धावस्था में रक्तचाप को सामान्य रखने में पोटेशियमयुक्त पदार्थ लाभदायी हैं | फलों और सब्जियों, खुरमानी, आलूबुखारा, आडू, मुनक्का, खजूर, सूखे नारियल आदि में पोटेशियम समुचित मात्रा में मौजूद होता है | इस आयु में दूध, फल और सब्जियों पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए |
इस प्रकार आयु अनुसार आहार लेने से व्यक्ति स्वस्थ व रोगमुक्त रहता है |

~ IN-ENGLISH ~

Nutritional requirements by life Stage Group
Nutritious diet rich in proteins, vitamins & minerals is essential to keep the body strong and healthy all throughout the life. Nutrient needs vary throughout the life cycle. Various age groups need different nutrients. The requirement of nutrients during different life stage groups is given below:

1) Life stage group: 1 through 5 years : Children of this age group need, particularly vitamin D which helps in mineralization of bones for development of bones, and iron for optimum growth of the body, Adequate exposure to ultraviolet light of morning sun and foods like milk, ghee, butter, wheat, maize are very helpful in providing vitamin D. deficiency of vitamin D can result in insufficient mineralization of the growing bones and they tend to develop rickets in children characterized by imperfect calcification, softening and distortion of the bones. Deficiency of iron may have an effect on mental development and may result in cognitive and behavioral problems. So after weaning the baby must be given substances rich in vitamin D and iron in their diet.

2) Life stage group: 6 through 19 years: The life-stage between 6-12 years is called childhood; and between 13-19 years is called adolescence. During this stage of life, the body and bones develop rapidly. Hence they need abundant quantity of calcium. The strength of bones during old age depends upon the intake of calcium taken during this stage of life Milk, buttermilk, curds, butter, sesame-seed, moong (green gram), cabbage, carrot, sugarcane, orange, turnip, dry fruits and ashwagandha (Withania somnifera) are rich dietary sources of calcium. According to dieticians the people of this age group must take a glass of milk everyday as a calcium supplement.
Deficiency of iron in the body during this stage of life retards physical and mental development. If we take these rich sources of iron in our diet we can easily get the needed amount of iron. They are : green leafy vegetables such as Rajgira (amaranthus paniculatus), spinach, fenugreek, mint, chaulai (amaranthus polygrmus), dry fruits like dates, currants, raisins, figs, cashew nut, apricots, etc. and certain other sources as bitter gourd, carrot, tomato, coconut, grapes, pomegranate, pigeon-pea (Cajanus Indicus), grams, urad (black gram) soya beans etc.
Zinc is an important mineral required for sexual maturation during adolescence which is easily obtained from all grains. Deficiency of zinc can cause aggressive and violent behavior in adolescent boys, and poor appetite and stress in adolescent girls. Food grains, pulses, vegetables and tuber roots (carrot, sugar potato, radish, beet root etc.) are rich sources of minerals.


greek-salad-close-up-concept-of-healthy-food

Healthy-Food-Pyramid

3) Life stage group: 20 through 30 years : Iron, anti-oxidants, folic acid, vitamin E and vitamin C are required in abundant amounts during youth. (a)Iron: On account of excessive losses of iron from menstruation, women need double the amount of iron than men. (b) Anti-Oxidants: Anti-oxidants are required to prevent cell damage and maintain the male and female reproductive systems in perfect health. Amla (the emblic myrobalan), currants, pomegranate, black plums, berries, oranges, plums, strawberry, raspberry, spinach and tomatoes are rich sources of anti-oxidants. The skins of fruits & uncooked foods such as salads, chutneys etc. Are also rich in anti-oxidants. They are lost significantly when the food is overcooked. (c) Folic Acid : Women need folic acid during youth and in the early stages of pregnancy. Important sources of folic acid are cauliflower, banana, orange, beans, dark green leafy vegetables, citrus fruits, peach, peas, spinach, pods, asparagus etc. (d) Vitamin ‘E’ : It is required for virility in men and fertility in women. It also reduces the risk of cardiovascular diseases. Sprouted grains, vegetable oils (sesame, groundnut, soya bean, coconut oils etc.) and dry fruits are rich sources of vitamin E. Soak a pinch of tulsi seeds at night. Take it in the morning to get vitamin ‘E’. (e) Vitamin ‘C’ : It purifies blood, keeps blood vessels resilient, and strengthens the bones. Orange, amla, lemon, pineapple, citrus fruits, tomato, radish, papaya, banana, guava, beet-root etc. are good sources of vitamin ‘C’.

(4) Life stage group: 31 through 50 years: During this mature stage of life calcium, vitamin E and folic acid are much required. Folic acid & vitamin E reduce the risk of developing heart diseases. After menopause there is less secretion of estrogen in females. It reduces the absorption of calcium. So they need foods rich in calcium to prevent osteoporosis.

(5) Life stage group: 51 through 70 years and above: Anti oxidants are much needed to prevent degenerative changes in the cells of the body associated with senility. Their deficiency can increase the chances of developing paralysis, heart disease, neuro-degenerative changes and cancer. In order to maintain the blood-pressure of the body, a diet rich in potassium is quite beneficial in old age. Fruits and vegetables, apricot, plums, peach, currents, dates, dry coconut are rich sources of potassium. During this age one should specifically take milk, vegetable & fruits.
Diet plan according to the life-stage group helps in maintaining the body hale & hearty and also in prevention of many diseases.

Note::-


यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

ME-KMSME

(((((::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..)))))

Exam Tips in Hindi-परीक्षा की तैयारी कैसे करें।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

ϒ परीक्षा की तैयारी कैसे करें। ϒ

Exam Tips-kmsraj51

परीक्षा प्रारंभ होने के कुछ महीने पहले से ही पढ़ना शुरू कर देना चाहिए। पहली बार पढ़ने से भी ज्यादा महत्वपूर्ण होता है दोहरान करना इसलिए रिवीजन के लिए पर्याप्त समय दें।

जिन विषयों की परीक्षा बाद में है उन्हें पहले पढ़ना चाहिए ताकि आखिरी दिनों में वह विषय पढ़े जा सके जिनका एग्जाम सबसे पहले है। इसके लिए टाइम टेबल बना लें।

पूर्व वर्षों के प्रश्न पत्रों को हल करना चाहिए। इससे परीक्षा का पैटर्न समझने में मदद मिलती हैं।

स्टडी रूम व्यवस्थित होना चाहिए। कुर्सी आरामदायक होनी चाहिए। स्टडी टेबल पर अलार्म घड़ी रखी होनी चाहिए। स्टडी रूम में मोटिवेशनल चार्ट लगे होने चाहिए। रोशनी की उचित व्यवस्था होनी चाहिए।

परीक्षा के दिनों में तनाव का माहौल रहता है। तनाव को दूर करने और एकाग्रता बढ़ाने के लिए योग, व्यायाम आदि का सहारा लें और पर्याप्त मात्रा में नींद लें।

परीक्षा के दिनों में ऐसा भोजन लिया जाना चाहिए जो सात्विक हो और पोषण से भरपूर हो। रात का खाना जल्दी खा लेना चाहिए। थोड़े-थोड़े अंतराल में पानी पीते रहना चाहिए।

cartoon-success mantra of exam-kmsraj51

हाथ-पैर और मुंह धोकर पढ़ने बैठना चाहिए।

खुश और तनावमुक्त रहें। सकारात्मक सोच रखें। परीक्षा को हौवा ना बनाये और आत्मविश्वास बनाये रखें।

एग्जाम किट में पेंसिल और पेन के साथ रंगबिरंगे जेल पेन भी रखें। ये आपको जवाब को हाईलाइट करने और चित्र बनाने में मदद करेंगे।

एग्जाम हॉल में बिना किसी डर के पूरी ऊर्जा और पॉजिटिव सोच के साथ प्रवेश करें।

प्रश्न पत्र पढ़ने में जल्दबाजी ना करें। धैर्य से काम लें। पेपर और कॉपी पर लिखे गए निर्देशों को ध्यान से पढ़ें। अगर कोई संदेह है तो टीचर से पूछ लें।

साफ़-सुथरी राइटिंग में लिखने का प्रयास करें। ताकि परीक्षक को कॉपी पढ़ने में दिक्कत ना आये। कई बार गन्दी राइटिंग की वज़ह से भी नंबर कम आते हैं।

प्रश्नों के उत्तर में चित्रों, आंकड़ों और रेखांकन आदि का उपयोग करें। इससे उत्तर आकर्षक और प्रभावी बन जाता है।

पेज भरने की बजाय सभी प्रश्नों का स्पष्ट और सटीक जवाब लिखें।

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  https://kmsraj51.com/

जैसे शरीर के लिए भोजन जरूरी है वैसे ही मस्तिष्क के लिए भी सकारात्मक ज्ञान और ध्यान रुपी भोजन जरूरी हैं। ~ कृष्ण मोहन सिंह(KMS)

 ~Kmsraj51

———– © Best of Luck ® ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

* अपनी आदतों को कैसे बदलें।

निश्चित सफलता के २१ सूत्र।

क्या करें – क्या ना करें।

∗ जीवन परिवर्तक 51 सकारात्मक Quotes of KMSRAJ51

* विचारों का स्तर श्रेष्ठ व पवित्र हो।

* अच्छी आदतें कैसे डालें।

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

~KMSRAJ51