Overcoming The Fear Of Communication

Kmsraj51 की कलम से…..

Kmsraj51-CYMT08

ϒ Overcoming The Fear Of Communication ϒ

When the fear of communicating effectively exists inside you e.g. when appearing for a work interview, it may be due to personal insecurity. You have to work on it in order to have more security, confidence and authoritativeness. Being secure and full of authority in the moment of communicating and expressing yourself requires practice and effort. Most importantly, to feel secure in such situations, when the person whom you are faced with is in a position of power, you have to value yourself. Self-value brings self-security and a feeling of fearlessness. When someone is normally asked to talk about what his/her personality is like or what is his/her basic character traits are, they normally speak about their weaknesses. Very rarely does one speak of his/her strengths or positive personality traits. Realizing your strengths requires introspection. Meditation, based on the complete spiritual knowledge about the self, is one of the simplest methods to do this. Once you realize your own strengths, you are able to value yourself immensely. If you value yourself, it does not matter so much to you whether another values you or not. However, if you aren’t able to value yourself, then doubts exist: Let’s see if this person values or respects me; perhaps this job is not for me; perhaps my communication skills are not very good. Then you need recognition and appreciation. Since you cannot give it to yourself (because you have not realized your strengths), you depend on others giving it to you.

You need to know that you are unique and that you are worth a great deal. If the other person does not value you it is their loss; they are losing something precious. If you are established in that self esteem of Who am I, a very elevated consciousness and that awareness – here comes a treasure whom you will be interviewing; your words and your body language will be sharp, secure and stable. Within you, you value yourself; and if you value yourself, it will be easier for people to value you. On the other hand, if you do not like and respect yourself, you will cause the same energy, which you radiate, to come back to you from others.

Message 

Fortune is in one’s own hands.

Expression: It is said that fortune is in the lines of our hands. It is true that it is in our hands, but not just in the lines. We create a fortune for ourselves with every action that we do. When we go on paying attention to doing actions which are positive, they become like strong seeds that help quick fruition.

Experience: Today I will be aware of the lines of fortune that I am creating with my hands. I will do at least one action that will consciously create a positive fortune and for today I will not do anything that erases these lines of fortune.

Watch Peace of Mind TV on following DTH
TATA(Sky # 192 | Airtel Digital TV # 686 | Videocon d2h # 497 | Reliance BigTV # 171 |

online www.pmtv.in

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

-KMSRAJ51

 

 

 

 

_______Copyright © 2015 kmsraj51.com All Rights Reserved._______

Advertisements

Test Network Connection with Ping and PathPing

Kmsraj51 की कलम से…..

KMSRAJ51-CYMT

 Test Network Connection with Ping and Path-Ping 

Ping is a tool that helps to verify IP-level connectivity; PathPing is a tool that detects packet loss over multiple-hop trips. When troubleshooting, the ping command is used to send an ICMP Echo Request to a target host name or IP address. Use Ping whenever you want to verify that a host computer can send IP packets to a destination host. You can also use the Ping tool to isolate network hardware problems and incompatible configurations.

Note ≈>

If you call ipconfig /all and receive a response, there is no need to ping the loopback address and your own IP address — Ipconfig has already done so in order to generate the report.

It is best to verify that a route exists between the local computer and a network host by first using ping and the IP address of the network host to which you want to connect. The command syntax is:

ping < IP address >

Perform the following steps when using Ping:

  1. Ping the loopback address to verify that TCP/IP is installed and configured correctly on the local computer.ping 127.0.0.1

    If the loopback step fails, the IP stack is not responding. This might be because the TCP drivers are corrupted, the network adapter might not be working, or another service is interfering with IP.

  2. Ping the IP address of the local computer to verify that it was added to the network correctly. Note that if the routing table is correct, this simply forwards the packet to the loopback address of 127.0.0.1.ping < IP address of local host >
  3. Ping the IP address of the default gateway to verify that the default gateway is functioning and that you can communicate with a local host on the local network.ping < IP address of default gateway >
  4. Ping the IP address of a remote host to verify that you can communicate through a router.ping < IP address of remote host >
  5. Ping the host name of a remote host to verify that you can resolve a remote host name.ping < Host name of remote host >
  6. Run a PathPing analysis to a remote host to verify that the routers on the way to the destination are operating correctly.pathping < IP address of remote host >

     

If your local address is returned as 169.254.y.z, you have been assigned an IP address by the Automatic Private IP Addressing (APIPA) feature of Windows 2000. This means that the local DHCP server is not configured properly or cannot be reached from your computer, and an IP address has been assigned automatically with a subnet mask of 255.255.0.0. Enable or correct the DHCP server, restart the local computer, and see if the networking problem persists.

If your local address is returned as 0.0.0.0, the Microsoft MediaSense software override started because the network adapter detects that it is not connected to a network. To correct this problem, turn off MediaSense by making sure that the network adapter and network cable are connected to a hub. If the connection is solid, reinstall the network adapter’s drivers or a new network adapter.

Ping uses host name resolution to resolve a computer name to an IP address, so if pinging by address succeeds, but fails by name, then the problem lies in host name resolution, not network connectivity. For more information about troubleshooting host name resolution, see “Unable to Reach a Host or NetBIOS Name” earlier in this chapter.

If you cannot use Ping successfully at any point, check the following:

  • The local computer’s IP address is valid and appears correctly in the IP Address tab of the Internet Protocol ( TCP/IP) Properties dialog box or when using the Ipconfig tool.
  • A default gateway is configured and the link between the host and the default gateway is operational. For troubleshooting purposes, make sure that only one default gateway is configured. While it is possible to configure more than one default gateway, gateways beyond the first are only used if the IP stack determines that the original gateway is not functioning. Since the point of troubleshooting is to determine the status of the first configured gateway, delete all others to simplify your troubleshooting.

♥ Important 

If the remote system being pinged is across a high-delay link such as a satellite link, responses might take longer to be returned. The -w (wait) switch can be used to specify a longer time-out. The following example shows a set of two pings, each 1450 bytes in size, that wait two seconds (2000 milliseconds) for a response before timing out.

C:\>ping -w 2000 -n 2 -l 1450 172.16.48.10

Pinging 172.16.48.10 with 1450 bytes of data:

Reply from 172.16.48.10: bytes=1450 time=1542ms TTL=32

Reply from 172.16.48.10: bytes=1450 time=1787ms TTL=32

Ping statistics for 172.16.48.10:

Packets: Sent = 2, Received = 2, Lost = 0 (0% loss),

Approximate round trip times in milli-seconds:

Minimum = 0ms, Maximum = 10ms, Average = 1664ms

♥ Clear ARP Cache 

If you can ping both the loopback address and your own IP address, the next step is to clear out the ARP cache and reload it. This can be done by using the Arp utility, first to display the cache entries with arp -a or arp -g . Delete the entries with arp -d < IP address >.

 Verify Default Gateway 

Next, look at the default gateway. The gateway address must be on the same network as the local host; if not, no messages from the host computer can be forwarded to any location outside the local network. Next, check to make sure that the default gateway address is correct as entered. Finally, check to see that the default gateway is a router, not just a host, and that it is enabled to forward IP datagrams.

♥ Ping Remote Host 

If the default gateway responds correctly, ping a remote host to ensure that network-to-network communications are operating as expected. If this fails, use Tracert to examine the path to the destination. For IP routers that are Windows NT or Windows 2000 computers, use the route utility or the Routing and Remote Access administrative tool on those computers to examine the IP routing table. For IP routers that are not Windows NT or Windows 2000 computers, use the appropriate utility or facility to examine the IP routing table.

Four error messages are commonly returned by Ping during troubleshooting. They are:

TTL Expired in Transit 

The number of hops required to reach the destination exceeds the TTL set by the sending host to forward the packets. The default TTL value for ICMP Echo Requests sent by Ping is 32. In some cases, this is not enough to travel the required number of links to a destination. You can increase the TTL using the -i switch, up to a maximum of 255 links.

If increasing the TTL value fails to resolve the problem, the packets are being forwarded in a routing loop, a circular path among routers. Use Tracert to track down the source of the routing loop, which appears as a repeated series of the same IP addresses in the Tracert report. Next, make an appropriate change to the routing tables, or inform the administrator of a remote router of the problem.

♥ Destination Host Unreachable 

This message indicates one of two problems: either the local system has no route to the desired destination, or a remote router reports that it has no route to the destination. The two problems can be distinguished by the form of the message. If the message is simply “Destination Host Unreachable,” then there is no route from the local system, and the packets to be sent were never put on the wire. Use the Route utility to check the local routing table.

If the message is “Reply From < IP address >: Destination Host Unreachable,” then the routing problem occurred at a remote router, whose address is indicated by the “< IP address >” field. Use the appropriate utility or facility to check the IP routing table of the router assigned the IP address of < IP address >.

If you pinged using an IP address, retry it with a host name to ensure that the IP address you tried is correct.

♥ Request Timed Out 

This message indicates that no Echo Reply messages were received within the default time of 1 second. This can be due to many different causes; the most common include network congestion, failure of the ARP request, packet filtering, routing error, or a silent discard. Most often, it means that a route back to the sending host has failed. This might be because the destination host does not know the route back to the sending host, or one of the intermediary routers does not know the route back, or even that the destination host’s default gateway does not know the route back. Check the routing table of the destination host to see whether it has a route to the sending host before checking tables at the routers.

If the remote routing tables are correct and contain a valid route back to the sending host, to see if the ARP cache lacks the proper address, use the arp -a command to print the contents of the ARP cache. Also, check the subnet mask to be sure that a remote address has not been interpreted as local.

Next, use Tracert to follow the route to the destination. While Tracert does not record the address of the last hop or the path that the packet followed on the return path, it might show that the packet made it to the destination. If this is the case, the problem is probably a routing issue on the return path. If the trace doesn’t quite reach the destination, it might be because the target host is protected by a firewall. When a firewall protects the destination, ICMP packet filtering prevents the ping packets—or any other ICMP messages—from crossing the firewall and reaching their destination.

To check for network congestion, simply increase the allowed latency by setting a higher wait time with the -w switch, such as 5000 milliseconds. Try to ping the destination again. If the request still times out, congestion is not the problem; an address resolution problem or routing error is a more likely issue.

Unknown Host 

This error message indicates that the requested host name cannot be resolved to its IP address; check that the name is entered correctly and that the DNS servers can resolve it.

Source: https://technet.microsoft.com/

Please Share your comment`s.

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

CYMT-100-10 WORDS KMS

निश्चय ही आप विजयी होंगे, यदि आप अपनी दुर्बलता (Weakness) को अपनी ताकत में तब्दील करना सीख लें।

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

 

 

 

 

_______Copyright © 2015 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

 

क्या लडकियां ही करती है, सिर्फ़ मनमानी।

Kmsraj51 की कलम से…..

Kmsraj51-CYMT04

ϒ क्या लडकियां ही करती है, सिर्फ़ मनमानी। ϒ

क्या लडकियां ही करती है, सिर्फ़ मनमानी।
जो बन जाती है, वो देश की दामिनी॥

हक है तुम्हारा ऐ हर एक हिन्दुस्तानी।
जियो तुम अपनी तरह से अपनी ये जिंदयानी॥

दर्द है, सिसक है, एक खामोशी-सी उनकी कहानी।
क्यों शर्मसार कर शापित कर रहे हो,
हमसे हमारी जवानी॥

तुम्हें क्यों दिक्कत होती है जब होते है हम सयानी।
ऐ अनपढ़ अफसोस है आज हर उस मां को,
जो कह न सकती है, मैं हूं उस हैवान की जननी॥

हम तो है एक ऐसी धानी,
जिसकी चोट वो दरारें लाती है।

जो अगर खत्म न हुआ तो फट जायेगी ये धानी,
और…………
खत्म हो जायेगी सृष्टि से,
हैवानियत की ये कहानी………!!

-संदीप वर्मा – बीकानेर (राज.)

Sandeep Verma-kmsraj51

संदीप वर्मा।

Post share by Mr. Sandeep Verma, from Bikaner (Raj.).

We are grateful to Mr. Sandeep Verma, for sharing inspirational  Hindi Poetry.

We wish you a great & bright future. Thanks a lot dear Sandeep Verma.

Please Share your comment`s.

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

 ~KMSRAJ51

 

 

_______Copyright © 2015 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

नारी की इच्छा।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

नारी की इच्छा। ∗

असंभव के विरुद्ध:- “नारी की इच्छा” हम समझ क्यों नहीं पाते?

“तुम तो नदी की धारा के साथ दौड़ रहे हो।
उस सुख को कैसे समझोगे, जो हमें नदी को देखकर मिलता है।”

– रामधारी सिंह ‘दिनकर’

मैं जब बच्ची थी।
पेड़ पर चढ़ने को मचलती, मां डांटती
कहती ये लड़कों जैसी गलत मस्तियां हैं।

उछलना, कूदना, दौड़ना, चढ़ना, गिरना,
उड़ना।

पिता हंसते, शाम को कंधे पर बिठाकर ले जाते।
अमरूद के पेड़ पर चढ़ना सिखाते, समझाते – शरीर
सब कुछ कर सकता है।
अगर “तुम्हारी इच्छा हो”

मैं जब कुछ बड़ी हुई।
दादी को जैसे बस एक ही काम था।
काम सीख लो, कल ससुराल में बदनामी होगी।

दादा न जाने क्या-क्या खिलाते,
मेरे खेलने- खाने के दिन होने का विश्वास दिलाते।
बस करो। कोशिश करो। देखो। सुनो। करो।
नहीं आया तो फिर करो।

सब होगा – अगर “तुम्हारी इच्छा हो”

एक नाज़ुक समय आया।
हर बात पर रोकना, हर काम पर पूछना, हर साथ
पर संदेह।

जीवन लगने लगा बोझ, अपने लगने लगे फांस घुटन।

छटपटाहट। घबराहट।

कहां गए वो खेलने-खाने के दिन?
पिता का लाड़, लगने लगा लताड़। भाई की
शरारत, देने लगी हरारत।

“मेरी इच्छा”? क्यों नहीं चलती?
मैं कहां जाती हूं, कब लौटती हूं, क्या पहनकर
जाती हूं,
किसके साथ बैठती हूं, किससे हंसती-बोलती
हूं।

इस पर घरवाले पहरा बिठा देना चाहते हैं?
आखिर क्यों?
“मेरी इच्छा”का क्या? और वे होते कौन हैं?
और समझते क्यों नहीं
कि मैं बड़ी हो चुकी हूं। पढ़ी-लिखी हूं।

अपना अच्छा-बुरा समझती हूं।
बेटा, जमाना ठीक नहीं है। आजकल किसी
का भरोसा नहीं।

कॉलेज के बाद सीधे घर आना। दिल्ली का पता है न?
क्यों? “मेरी इच्छा”का क्या?
लड़की हूं न, इसलिए इतनी रोक।
यह उम्र ही ऐसी होती है। बंधन तोड़ने की उग्र इच्छा होती है।
बंधन।

पढ़ाई करो। और पढ़ो। शादी के बाद,
आत्मनिर्भर रहना चाहिए।
अपने पैरों पर खड़े होना, संसार की सबसे बड़ी
चुनौती, सबसे अच्छा उपाय।

“मेरी इच्छा”क्या है?
उनके इस प्रश्न ने मानो मुझे नींद से जगाया
आपको, किसी को “मेरी इच्छा”का क्या?
उन्होंने लाड़ से हाथ फेरा। बच्ची है। बड़ी कब होगी।
कल शादी होगी। कितनी जिम्मेदारियां निभानी हैं।
अरे…। मैं तो खुश हुई थी कि आज “मेरी इच्छा” जानी जाएगी।
ये तो फिर।

और एक पल में मैं बच्ची हूं। दूसरे ही पल में मेरी शादी।
मां, कभी तो मुझे मेरी इच्छा से कुछ करने दो…
सबको तुम पर नाज़ है बच्चा।
तो इतने बंधन क्यों है?
तू नहीं समझेगी। ये प्यार होता है!
फिर नैराश्य भरी बातें।

अब शादी के बाद बंधन टूटने चाहिए
या कि अपने पैरों पर खड़े रहने वाली नई बेड़ियों की चिंता करें?
मैं तो ढेर सारी मस्ती करना चाहती हूं। ढेर सारे दोस्त बनाना चाहती हूं,आज़ाद होना चाहती हूं।
ये हैं कि फिर फंसाना चाहते हैं। होते कौन हैं,ये?
“मेरी इच्छा”।

रात को मां से मुलाकात हुई, कई दिनों बाद, उन्हें ध्यान से देखा
पापा की तबीयत को लेकर, भारी चिंता में थी वह
भाई की नौकरी का किस्सा, कई तरह की घर की समस्याएं
लेकिन मुझे न जाने क्या-क्या सिखाने की कोशिश करती रहीं
मैं अपनी ज़िंदगी जीना चाहती हूं। मैं शादी करना ही न चाहूं …
पागल हो गई हो क्या – ऐसे गन्दे शब्द …

हम तो, संगीत में क्या होगा, जोड़ा कैसा होगा और फेरे कहां करवाएंगे
यह सोच भी चुके हैं।

ये क्या कह रहे हैं।
आंखों में आंसू, गालों पर गढ्ढे और ओठों पर
थरथराहट
घर पर हुआ निर्णय।
लेकिन मैं शादी नहीं करूंगी।
फिर बना दृश्य विचित्र
झड़प। समझ। सलाह। तड़प।
तय हुआ जो वे चाहते थे।
“मेरी इच्छा”का क्या?

पढ़ाई का चक्र चलता ही रहता है।
मैंने वहां पूरी की। एक दूर की बहन थी उसने यहां,
चिंता का चक्र भी निरन्तर है,
बड़ी होती लड़कियों पर चलता ही रहता है।

मैं इतना पढ़ ली कि लड़का मिलना मुश्किल।
वो बहन पढ़ी। लेकिन लड़के वालों ने कहा और पढ़ी होती तो कमाती।
नानी के बगल वाले घर में थी एक लड़की। पढ़ न सकी।

सबको है डर। कौन होगा इसका वर।
पिता कहते, होगा सब अच्छा । हुआ ।
चाचा जानते थे मिलेगा समझदार। मिला ।
पढ़ न सकने का अर्थ नहीं है अनपढ़। उसके दूल्हे ने
कहा।

घरवालों का सपना हुआ साकार। था उनका
आधार :
बुद्धि चलानी है। विद्या चलेगी पीछे-पीछे।
दक्षता। क्षमता। योग्यता। लड़कियों में गुण
होते ही हैं, बहुत अच्छा चलेगा
अगर “तुम्हारी इच्छा”हो।

और लोग? समाज? पुरुष? वो क्या समझते हैं मुझे?
कि वो मेरे साथ दुर्व्यवहार करेंगे? अत्याचार
करेंगे?

नहीं मैं उनसे भयभीत, नहीं मैं उनसे निराश
नहीं मेरा किसी पुरुष में विश्वास।
शिक्षा ली है मैंने घटनाओं से। सीखा है मैंने
दुर्घटनाओं से।

रहा होगा सफल दादी, नानी, मां, दीदी
का जीवन
मैं उसे कहूंगी विफल, क्योंकि संभवत: वे परम्परा
ही निभा रही थीं
निश्चित ही वे जिम्मेदारियां ढो रही थीं
वे “स्वयं’ कुछ, क्या थीं?
पिता, भाई, श्वसुर, पति और परिवार इन्हीं से
उनके विचारों का आकार
सहानुभूति पर जीती रहीं वे, प्रेम बांटती,
करती रहीं वे।

पुरुष तो पुरुष, बच्चों से भी डरती रहीं वे।
मैं अपनी इच्छा से जीऊंगी, क्योंकि मैं “अलग’
हूं, क्योंकि मुझे चुनना आता है
क्योंकि मैं ब्रह्मांड हूं,
मैं यूनिवर्स हूं।

मेरा शरीर। मेरा दिमाग। मेरी इच्छा। माय चॉइस।
“मेरी इच्छा सब समझेंगे, असंभव है। किन्तु समझनी ही होगी।”

 क्योंकि संसार की जननी, जब एक मुट्ठी
भर पापियों से त्रस्त होकर, रुष्ट होकर,
कुंठित होकर, क्रुद्ध होकर परिवार की
जगह “मैं’ को चुनने की घोषणा करने पर
विवश हो जाए, तो हमारे पालन-पोषण
और संस्कार देने में भारी कमी हो गई है।

वह जीवन के सबसे सुंदर भाव “प्रेम” को भी
ठुकरा रही है। यह सबसे बड़ी चिंता है।
क्योंकि नारी ने ही हमें प्रेम सिखाया है।

©- (लेखक – कल्पेश याग्निक) दैनिक भास्कर के ग्रुप एडिटर हैं।

-संदीप वर्मा – बीकानेर (राज.)

Sandeep Verma-kmsraj51

संदीप वर्मा।

Post share by Mr. Sandeep Verma, from Bikaner (Raj.).

We are grateful to Mr. Sandeep Verma, for sharing inspirational “Woman’s desire” Hindi Thoughts.

We wish you a great & bright future. Thanks a lot dear Sandeep Verma.

Please Share your comment`s.

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

-KMSRAJ51

 

 

_______Copyright © 2015 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

Accessing Spiritual Power

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

ϒ Accessing Spiritual Power ϒ

In the inner depths of the soul there is pure, spiritual power of peace, love, wisdom and un-conditional joy. This power provides us with the inner strength needed to change. But how do we access this power? Meditation is the method – it allows this power to come to the surface of our consciousness and into our minds and influence our thoughts, feelings and personality. In the same way as lava flows from the inner depths of the Earth to the surface through a volcano, we can also create volcanoes of spiritual power when we meditate. Note, though, that we want to use our power in a positive way: we are not seeking the kind of power that is physical in nature and may cause damage, we are seeking spiritual power.

When we get access to our own personal source of the power of peace, love and happiness, we essentially become free of any dependency on external sources for feelings of the same. When we generate our own feelings of love and self-respect, we stop being dependent on others and our addiction to their acceptance and approval reduces and finally disappears. When we generate our own feelings of contentment and joy within ourselves, we become free from the need for substances, places or physical experiences in order to be happy.

Using this inner power in the right way allows us to uproot or remove completely the old negative habits within our personality.Any unwanted habit can be changed and the scars of all the negative habits, which have developed within the soul over a long period of time, during the journey of birth and rebirth, can be healed in a short time span.

 Message 

You will be truly successful when you are loving and detached with the ones you come into contact with.

Expression: With all the people that you come into contact with throughout the day, check if you are able to have a balance between being loving and detached. Detachment doesn’t mean to stay away from people, but to be with them and yet be detached.

Experience: Make the practice of seeing only specialities, your own and that of others. This will enable you to maintain your self-respect and you will be able to find yourself both loving and detached.

Watch Peace of Mind TV on following DTH
TATA(Sky # 192 | Airtel Digital TV # 686 | Videocon d2h # 497 | Reliance BigTV # 171 |

online www.pmtv.in

Please Share your comment`s.

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

-KMSRAJ51

 

 

_______Copyright © 2015 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

आस्था और आशा

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

♥ “आस्था और आशा” 

एक साधु थे। बाल्यावस्था से ही उन्होनें  घर छोड़  दिया था और ईश्वर से लौ लगा ली थी। दिन-रात भर प्रभु का भजन करते। जब भूख लगती तो आस-पास के घरों के सामने खड़े हो जाते और भजन गाने लगते। उनका कंठ अत्यंत मधुर था, इसलिए लोग उन्हें तन्मयता से सुनते और जो बन करता दे देते।

साधु को वैसे भी दो रोटी से ज्यादा की दरकार होती ही नहीं थी। एक दिन साधु भजन गाते-गाते जरा दूर निकल गये। जब दिन चढ़ आया तो खाने की सुध आई। निकट ही एक हवेली नजर आई। साधु वहीं खड़े होकर मग्न हो गए भजन गाने में।

हवेली थी एक धनिक व्यापारी की। रसोई के भीतर व्यापारी की पत्नी खाना बना रही थी। उसने साधु का भजन सुना तो मुग्ध हो गई । साधु को देने के लिए हाथ में भोजन भी ले लिया, लेकिन वो बाहर नहीं गई।

भीतर से ही कहा – रूको बाबा ! आ रही हूँ। साधु भी मस्त भाव से भजन गाते रहे। व्यापारी ने जब ये दृश्य देखा तो बोला – तुम भोजन हाथ में लिए खड़ी हो बाबा को दे नहीं रही, क्या वजह है?

व्यापारी की पत्नी भजन सुनते हुए फिर बोली – ठहरो, बाबा ! अभी आई। फिर पति को उत्तर दिया – भोजन साधु को दूंगी तो वह चले जायेंगें। मुझे उनका भजन बहुत प्रिय लग रहा है। उसे थोड़ा सुन लूं, फिर भोजन दूंगी।

इस प्रतीकात्मक का निहितार्थ यह है कि जब लंबे समय तक कोई मनोकामना पूर्ण न हो, तो निराश न हों, बल्कि यह मानना कि व्यापारी की पत्नी की भांति ईश्वर को आपकी प्रार्थना अच्छी लग रही है। वस्तुतः ईश्वर में विश्वास और स्वयं पर भरोसा रखते हुए आशावादी बने रहें तो अभिलक्षित लक्ष्य अवश्य पूर्ण होता है। ईश्वर की भक्ति में डूबे व्यक्ति को हर वस्तु में ईश्वर ही नजर आते हैं। जब ऐसी हालत हो जाती है, इतनी तड़प पैदा होती है तब जाकर ईश्वर की प्राप्ति संभव होती है।

                       -संदीप वर्मा – बीकानेर (राज.)

Sandeep Verma-kmsraj51

संदीप वर्मा।

Post share by Mr. Sandeep Verma, from Bikaner (Raj.).

We are grateful to Mr. Sandeep Verma, for sharing inspirational Hindi Story.

We wish you a great & bright future. Thanks a lot dear Sandeep Verma.

Please Share your comment`s.

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

-KMSRAJ51

 

 

_______Copyright © 2015 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

♥”जीवन दर्शन”♥

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

जीवन दर्शन

।। “ हम ईश्वर में भरोसा करते हैं ” ।।

(In God We Trust)

कहानी अमेरिका का है। किसी कम्पनी के मालिक ने अपने यहाँ काम करने वाले साधारण से दम्पति को एक दिन बिताने के लिए महलनुमा आवास पर आमंत्रित किया।

वह उनकी मेहनत व ईमानदारी का सम्मान करना चाहता था। महिला ज्यादा खुश थी कि उसे अत्यंत समृद्ध व जीवन का अनुभव लेने का मौका मिला है। बॉस ने अपनी मेहमान नवाजी पूरी तरह निभाई। उसने उन्हें अपना घर दिखाया और फिर वह उन्हें शहर के महंगे रेस्तरां में डिनर के लिए ले गया। वहां पहुंचने पर बॉस अचानक रुका और फर्श को देर तक मौन होकर देखता रहा।

फर्श पर एक पुराने, काले पड़ चुके सिक्के के अलावा कुछ नहीं था। बॉस ने सिक्का उठाकर जेब में इस तरह रखा मानो उन्हें तो कोई बड़ा खजाना मिल गया हो। महिला सोचने लगी कि इस बड़े आदमी को ऐसा करने की क्या जरूरत है?

आखिर महिला से रहा नहीं गया और उसने पूछा, ‘आपने जो सिक्का उठाया क्या वह कोई पुराना सिक्का है?”  मुस्कुराकर बॉस ने सिक्का निकालकर दिखाया और कहा, ‘ देखिए क्या लिखा है इस पर।’

महिला ने पढ़ा ‘यूनाइटिड स्टेट्स’।
बॉस ने और पढ़ने को कहा।
महिला ने पढ़ा ‘एक सेंट’।
उसने कहा और पढ़ो।

महिला ने पढ़ा, “इन गॉड वी ट्रस्ट ( हम ईश्वर में भरोसा करते हैं )।”

बॉस ने कहा, “ हां, ईश्वर का नाम पवित्र है। ईश्वर ने मुझे संदेश भेजा है कि मैं उन पर भरोसा रखूं। मैं कौन होता हूँ कि उसे नजर-अंदाज करूं? जब भी मुझे सिक्का दिखता है, मैं रुककर प्रार्थना करता हूँ और सिक्का उठाकर पुष्टि करता हूँ कि मुझे उस परमशक्ति पर भरोसा है। थोड़ी देर के लिए मैं इस भरोसा का आनंद लेता हूँ, जैसे यह भगवान की दी कोई खजाना है। सौभाग्य से ईश्वर के पास असीम धैर्य है और सिक्कों की अर्थात् खजानों की कोई कमी नहीं है।”
  -संदीप वर्मा, बीकानेर (राज.)

Sandeep Verma-kmsraj51

संदीप वर्मा।

Post share by Mr. Sandeep Verma, from Bikaner (Raj.).

We are grateful to Mr. Sandeep Verma, for sharing inspirational Hindi Story.

We wish you a great & bright future. Thanks a lot dear Sandeep Verma.

Please Share your comment`s.

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

-KMSRAJ51

 

 

_______Copyright © 2015 kmsraj51.com All Rights Reserved.________