Meditation For Personality Transformation

Kmsraj51 की कलम से…..

Kmsraj51-CYMT08

Meditation For Personality Transformation

At the heart of every human being or soul there is a spiritual energy, pure, of peace, love, truth and happiness without dependence. Being aware and experiencing this energy provides you with the inner strength necessary for change. Meditation is the method of access in order to allow that energy to come to the surface of your consciousness and in your mind in order to color your thoughts and feelings. In a way very similar to that of a volcano whose melted lava, hot, flows from the centre of the Earth to the surface, we, on meditating, can create volcanoes of power (which emerge in our conscious minds) required for personality transformation.

You can do an exercise, a meditation whereby you choose a habit or sanskar that you don’t want, and you will replace it with a characteristic that you would like to incorporate, like a thread, into the cloth of your personality. For example, replace impatience with patience.

Decide on a habit that you want to change e.g. impatience. We will focus this meditation on changing impatience. You can apply it to other habits also:

I relax and prepare to look inwards…
I am aware of the unwanted habit of becoming impatient…
As I sit in meditation, I relax my body.
I become the observer of my own thoughts and feelings…
Realizing my true identity as soul – a subtle point of light situated at the center of my forehead, just above my eyebrows, I remember my real nature is one of calmness, peace and power…
I focus on the power of peace, inviting it in and welcoming it into my thoughts and feelings from deep within…. enjoying the calm contentment which it brings…
On the screen of my mind, I begin to visualize patience…
I see myself in a situation where I normally become impatient…
I now see myself as being completely full with the virtue of patience…
I shape my feelings around the idea and image of patience…. unhurried and relaxed… calm and watchful…
If necessary, I can wait… forever…. with patience
I am free of the desire for certain outcomes…
I see how I respond with patience…
I see the effect of my patience in others within the situation…
I now know how I will speak with patience, walk with patience and act patiently in the real life situations…
I maintain this peace, which generates serenity and patience in me…

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

best hindi website-kmsraj51

 

 

 

_______Copyright © 2014 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

 

 

 

 

 

 

जीवन वृक्ष की शाखाओं को जाने!!

kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

Letting Go Of The Branches Of The Life Tree

Colorful Carnations

 

 

 

 

A very common habit that has become deeply embedded inside us is the habit of possessing, to which we succumb repeatedly. We come in contact with different people, material comforts, roles, positions, experiences, achievements and of course our own physical body etc. on an external level and our own thoughts, viewpoints, beliefs, memories, etc. on an internal level etc. throughout our life. All of these are like branches that make up our life tree. Possession is like clinging on to one or the other of these different branches from time to time, as we fly from one branch to another, while covering our life journey. The spiritual point of view on this habit is clear and very straight forward. It is not possible to possess anything. If we do try to do so, we lose our freedom. To experience the freedom, we need to dare to let go of the branches, which does not mean to lose or leave them because the branches are always going to be there. We can return to any of them to rest or pause whenever we want. But, it is about being aware and alert, because the moment a pause on a branch turns into a stop, the stop turns into a brake and, after that, the brake turns into a blockage. As a result, like the bird whose flying agility degrades on a physical level if it does the same; our intellectual and emotional agility starts to degrade.

When we learn to let go of one branch at a time, we are always welcoming new positive and empowering experiences in our life, one at a time. Like the birds, by letting go of one branch, we are then able to spend the rest of your lives trying and discovering many other branches, one branch at a time, and so we can enjoy the view from each new vantage point.We can choose between a life of flying and soaring or be stuck on one or the other branch, seeing others as they fly past and enjoy a life of freedom where they do visit their life tree from time to time and their life does revolve around the tree but they don’t try and possess it or any of its branches.

 

Message for the day 18-05-2014

To recognize the uniqueness of one’s own role is to be free from negativity. Expression: When we find things going wrong with us, we sometimes wish for a change in our role. We begin to compare ourselves with others or wish for something better in our life, which makes us lose all our enthusiasm. We, then, make no effort to better our role.

Experience: We need to recognize the importance of our own role. Like an actor who doesn’t make effort to change his role but brings perfection to his own role, we, too, need to concentrate on our own role. The recognition of the importance of our own role and the desire to bring excellence to it makes us free from negativity.

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

brahmakumaris-kmsraj51

Note::-

यदि आपके पास Hindi या English में कोई  article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

love-rose-kmsraj51Picture Quotes By- “तू न हो निराश कभी मन से” किताब से

Book-Red-kmsraj51

100 शब्द  या  10 शब्द – एक सफल जीवन के लिए –

 

(100 Word “or” Ten Word For A Successful Life )

 

“तू न हो निराश कभी मन से” किताब => लेखक कृष्ण मोहन सिंह (kmsraj51)

 

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

“सफल लोग अपने मस्तिष्क को इस तरह का बना लेते हैं कि उन्हें हर चीज सकारात्मक व खूबसूरत लगती है।”
-KMSRAJ51

“हमारी सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि हम अपने जीवन का कुछ सेकंड, प्रतिघंटा और प्रतिदिन कैसे बिताते हैं”
-KMSRAJ51

-A Message To All-

मत करो हतोत्साहित अपने शब्दों से ……आने वाली नयी पीढ़ी को ,
वो भी करेंगे कुछ ऐसा एक दिन…. जिसे देखेगा ज़माना ….पकड़ती हुई नयी सीढ़ी को ॥

कुछ भी आप के लिए संभव है ॥

जीवन मंदिर सा पावन हाे, बाताें में सुंदर सावन हाे।

स्वाथ॔ ना भटके पास ज़रा भी, हर दिन मानो वृंदावन हाे॥

~kmsraj51

95+ देश के पाठकों द्वारा पढ़ा जाने वाला हिन्दी वेबसाइट है,, –

https://kmsraj51.wordpress.com/

मैं अपने सभी प्रिय पाठकों का आभारी हूं…..  I am grateful to all my dear readers …..

“तू न हो निराश कभी मन से” book

~Change your mind thoughts~

@2014-all rights reserve under kmsraj51.

——————– —– https://kmsraj51.wordpress.com/ —– ——————

 

मन के हारे हार है मन के जीते जीत !!

kmsraj51 की कलम से …..
nature_KMSRAJ51

“मन के हारे हार है मन के जीते जीत”

दोस्तों ,

बहुत दिनों से आप अपने आपको थका हुआ और कमजोर महसूस कर रहे हैं! मन में भी नकारात्मक भाव आ रहे हैं ,कोई उमंग महसूस नहीं हो रही है ! जिंदगी बोझिल सी हो रही है! ऐसे में आप किसी डॉक्टर के पास जाते हैं! वो आपकी पूरी जांच करने के बाद गंभीर स्वर में आपसे कहता है,–‘माफ़ कीजिएगा! लेकिन आपकी reports देख कर मुझे लगता है की अगले एक साल में आपको diabetes और heart problem होने वाली है,थोडा अपना ध्यान रखिए!!

आप ये सुन कर shocked हो जाते हैं! लेकिन अब इसके बाद जो आपकी प्रतिक्रिया होती है,वो महत्वपूर्ण है!

इस खबर को सुनने के बाद आप दो तरह से प्रतिक्रिया कर सकते हैं!

पहला, ये सुनते ही आपका मन कहता है, देखा, मैं तो पहले ही कह रहा था कुछ तो गड़बड़ है! तुम बीमार होने वाले हो! आप तुरंत doctor के prediction के आगे हथियार डाल देते हैं! आपकी नकारात्मक सोच आपकी उम्र को 10 साल आगे की स्थिति में पहुंचा देती है!!

आप हताश और निराश से कुर्सी से उठते हैं! किसी पराजित आदमी की तरह अपने कंधे झुका कर clinic से बाहर निकलते हैं! घर आकर चुपचाप या तो बिस्तर या TV के आगे बैठ जाते हैं!

आपके मन में ये prediction मजबूती से बैठ गई है की ये तो होना ही है तो क्यों मैं सुबह जल्दी उठूं ,व्यायाम करूँ, सही आहार लूँ, मेहनत करूँ! ये विचार आपके मनोमस्तिक्ष पर इतनी बुरी तरह हावी हो जाते हैं की सोते, जागते खाते-पीते आप बस ये ही सोचते रहते हैं की अब तो मुझे diabetes और heart problem होने वाली है आखिर अब तो doctor ने भी ये कह दिया है!

आप निरुत्साहित से अपने काम करते हैं! चिंता में TV के सामने बैठ कुछ ना कुछ खाते रहते हैं! आप अपनी चिंता को खाने की आड़ में दबाने की कोशिश करते हैं! फिर ऐसे ही हताशा, निराशा और आलस से भरी आपकी दिनचर्या हो जाती है!!

फिर एक दिन अचानक आपकी तबियत ज्यादा खराब हो जाती है! आप डॉक्टर के यहाँ जाते हैं! आपका सारा checkup करने के बाद doctor बड़े ही निराशा भरे स्वर में कहता है,– ‘मुझे अफ़सोस है! लेकिन मैं आपको ये बताना चाहता हूँ की आपको high BP, diabetes और heart problem हो चुका है! अगर अब भी आप अपना अच्छे से ख्याल नहीं रखेंगे तो गाडी ज्यादा देर और दूर तक नहीं चल पाएगी! आप shocked से सामने दिवार पर लगा कैलेंडर देखते हैं! अरे अभी तो केवल 5 महीने ही गुजरे हैं, डॉक्टर ने तो 1 साल की कहा था! आपकी सोच और मन की हार ने उस भविष्यवाणी को समय से पहले ही सच साबित कर दिया! आप फिर पहले से भी ज्यादा हताश, निराश और झुके हुए कन्धों के साथ clinic से बाहर निकलते हैं! और ये कहानी दोस्तों फिर ज्यादा लम्बी नहीं चलती है ……..!!

वहीं दूसरी तरफ doctor के ये कहते ही, की अगले एक साल में आपको diabetes और heart problem होने वाली है, आपको आपकी अंतरात्मा को एक झटका सा लगता है! आप इस बात को एक चुनोती की तरह लेते हैं! तुरंत आपका मन और आत्मबल एक निर्णय लेते हैं, की अरे ये सिर्फ एक prediction ही तो है, हकीकत नहीं है, और मैं इसे हकीकत बनने भी नहीं दूंगा! आप मन ही मन संकल्पित होते हैं, अपनी पिछली जिंदगी की कमियों, लापरवाहियों और आलस पर एक नजर डालते हैं और तुरंत निर्णय लेते हैं, बस अब और नहीं! अब मेरी जिंदगी, मेरी सेहत मेरे हाथ में है! आपकी सोच पूरा u-turn ले लेती है! आप ये ठान लेते हैं की आज से बल्कि अभी से मैं अपने आप को, अपनी आदतों को बदल दूंगा! इस prediction को मैं झूठा साबित कर के रहूँगा! आप एक संकल्प और मन के विश्वास के साथ कुर्सी से उठते हैं और clinic से बाहर निकलते हैं!!

आप अपनी दिनचर्या को पूरी तरह से बदल देते हैं! जल्दी उठना, ध्यान, व्यायाम, सही आहार, सकारात्मक सोच, श्रद्धा, आशावादिता, उमंग ,उत्साह और पर्याप्त मेहनत को अपने जीवन का अभिन्न अंग बना लेते हैं! कुछ दिनों के बाद जब मन में निराशा के भाव आने लगते हैं, आलस पुनः आप पर हावी होना चाहता है! तो डॉक्टर की भविष्यवाणी को याद कर आप अपनी हताशा को पीछे धकेल देते हैं!

आपका ये संकल्प की इस prediction को मैं सही साबित नहीं होने दूंगा, आप को वापस अपने सेहत के रास्ते पर अग्रसर कर देता है!!

फिर आप कई साल बाद ऐसे ही अपने routine checkup के लिए डॉक्टर के पास जाते हैं! डॉक्टर बड़ी गर्मजोशी और उमंग से कहता है, -क्या बात है! आपने तो अपना कायाकल्प ही कर लिया है! आप तो पहले से भी ज्यादा सेहतमंद और जवान हो गए हैं! आप मुस्कुरा कर डॉक्टर से हाथ मिलाते हैं और सीटी बजाते हुए क्लिनिक से बाहर आ जाते हैं! और ये कहानी बहुत अच्छे तरीके से बहुत लम्बी चलती है!!

=====================================================

तो दोस्तों ,
कहानी कैसी लगी? वैसे ये कहानी है ही नहीं! हकीकत है! हम लोगों में से 90 से 95 % लोग पहले वाली सोच के होते हैं, है ना? केवल 5 या 10 % लोग ही दूसरे नजरिये वाले होते हैं! जो अपने पुरुषार्थ, मनोबल और मेहनत से भविष्यवाणी को भी बदल देते हैं! आपके मन की नकारात्मक सोच आपको समय से पहले डूबा भी सकती हैं और सकारात्मक सोच अनेकों ऊँचाइयों तक उठा भी सकती है! इसलिए जिंदगी के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण और तदुपरांत सार्थक प्रयत्न आपकी सफल, सेहत भरी जिंदगी और उज्जवल भविष्य के लिए अति आवश्यक है! है ना?

तो मन का कैसा नजरिया रखना चाहेंगे आप? आखिर ………..

जैसा नजरिया है आपका, वैसी जिंदगी है आपकी ……………

Note::-
यदि आपके पास Hindi या English में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

HD - KMSRAJ51

——————– —– https://kmsraj51.wordpress.com/ —– ——————

“Soul Sustenance & Message for the day 27-01-2014”

kmsraj51 की कलम से …..
baby-TU NA HO NIRASH KABHI MAN SE

————————————–
Soul Sustenance 27-03-2014
————————————–

Forgive To Forget

A key principle to remain light and stable in relationships is – forgive and forget – it’s a well-known principle – one that we sometimes find difficult to practice. It can be modified to forgive to forget. Sometimes we spend many years with so much bitterness inside us for a particular person, with an inner violence of wanting to make the other pay (emotions of revenge), the one who has supposedly hurt you. If you don’t strike back immediately, you at least want to keep this guilt card in your pocket, to be pulled out at a later date: “Oh yes, well what about the time when you….” We keep this bitterness inside us because we haven’t forgiven. It does not resolve the situation; the only thing it does is increase our pain, makes us heavy and does not let us remain in peace. So the key is that if we do not forgive, we cannot forget. When someone has offended or insulted us, the last thing we want to do is to let it go. And yet, if our desire is to have a healthy, lasting relationship, that is exactly what we’ve got to do.

Sometimes, when it is a question of a broken relationship, it is not only a matter of forgiving the other, but of forgiving yourself for having allowed yourself to enter that experience. It was you that took the step to allow that experience to be entered into. If you hadn’t taken that step, you wouldn’t have had that experience. You accepted that challenge, that relationship, and what might happen in it – you were aware of the possibilities when you entered in the relationship. So not only do you have to learn to forgive the other, but also to forgive yourself in such situations. Only then will you be able to forget.

—————————————–
Message for the day 27-03-2014
—————————————–

Contentment makes one virtuous.

Expression: The one who is content is free from selfishness, yet is concerned about filling the self with inner treasures. Such a person finds his stock of treasures always full and overflowing. So his thoughts, words and actions are those that are constantly bringing benefit to those around.

Experience: When I am always content, I always experience myself to be victorious. I am easily able to learn from all situations and use all my experiences to move forward. Also I become a giver. I thus get the love and good wishes of those around me and am also able to experience constant progress.

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

95 kmsraj51 readers

——————– —– https://kmsraj51.wordpress.com/ —– ——————

“Soul Sustenance & Message for the day 24-01-2014”

———————————————–
KMSRAJ51 Celebrate ~ Happy Anniversary!! Month
KMSRAJ51 Celebrate ~ Happy Anniversary!! Month
———————————————–

kmsraj51 की कलम से …..
95 kmsraj51 readers

————————————–
Soul Sustenance 24-03-2014
————————————–

The Two Close Companions Of Peace (A Meditation)

Sit comfortably and relax… Remind yourself of your spiritual form as a soul – a point of subtle light (non-physical light), a sparkling star, situated between the two eyebrows… Now visualize your star-like form and emerge the feelings of peace looking at this form with your mind’s eye… experience stability and contentment in this inner value of peace, peace is your own treasure… Fully let go off all your concerns, tensions and worries and allow all of yourself to become deeply peaceful… Now, feel the vibrations (energy waves) of your peaceful light form radiating outwards into the world… Be aware that the vibration of your peaceful form is like a gift… Consciously transmit this gift of peace with the pure desire of calming and relieving the stress and peacelessness of others…

As you radiate the power of your peace into the world, you do so with great love… As you give the gift of peace, with love, you are aware that you are able to serve others, reach out to others, in this invisible but extremely significant way… This awareness brings about a new sense of meaning in your life and you experience deep feelings of happiness within your heart… It is a happiness which takes the form of bliss, a bliss or satisfaction experienced as an invisible fruit received in return of unconditional serving… You realize that your peace does not live alone… True peace is that which is shared with others… it always has with it its closest companions… an experience of love and a feeling of pure happiness…

Our basic spiritual characteristics of peace, love and happiness are values that can be compared to the primary colors of the soul. While the soul can experience these values, it is only when they are mixed together (to give different shades) that they emerge though our attitudes and behaviors as virtue. Virtuous thoughts, words and actions restore balance and harmony to our inner life and to our external relationships.

—————————————–
Message for the day 24-03-2014
—————————————–

To be strong is to be free from the influence of the body.

Expression: To allow the body to influence the mind is to be doubly ill. The one who allows himself to be doubly ill is not able to deal with the illness of the body. On the other hand, the one who is powerful in the mind is able to maintain the inner strength in spite of the disease and so has the power to put in effort to finish it.

Experience: Instead of being conscious of the disease of the body, all I need to do is to maintain the consciousness of being powerful internally. Then I would not be afraid of the disease of the body but will have the courage to deal with it. I am able to see the disease as something temporary and will soon find myself rid of the illness, as I am powerful within.

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

KMSRAJ51 Celebrate ~ Happy Anniversary!! Month
KMSRAJ51 Celebrate ~ Happy Anniversary!! Month

——————– —– https://kmsraj51.wordpress.com/ —– ——————

Soul Sustenance ‘or’ Soul Voice !!


kmsraj51 की कलम से …..
PEN KMSRAJ51-PENkmsraj51

Experiencing Positive Thoughts

Positive thoughts emerge from your values and may be experienced as:

Confidence
Contentment
Cooperation
Enthusiasm
Generosity
Happiness
Harmony
Honesty
Hope
Love
Mercy
Peace
Respect
Solidarity
Tolerance
Trust

Let’s look at some examples of positive thoughts (with respect to the above values):

Happiness: Happiness raises the spirit of whoever possesses it, and brings out a smile in others.
Love: Be as enthusiastic with the success of others as you are with your own.
Honesty: If I am honest in all my actions, I will never be afraid.
Respect: The only way of receiving respect is to give it first.
Mercy: Do not lose hope in those that have lost hope.

—————————————–
Message for the day 08-03-2014
—————————————–

To make big things small is to remain in peace.

Expression: Many times life brings situations, which are difficult and seem impossible to work on. But there should be the ability to transform something as big as a mountain into something as small as a grain of sand. To do this means to look for solutions instead of looking at problems. It also means to make effort to find the right answers for the problems.

Experience: When I have the ability to look at things lightly, I will be able to make even big things as small. This gives me the courage to deal with situations with ease. Then I am able to remain in peace. Such a state of mind is naturally able to bring out the best solutions under all circumstances.

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

——————– —– https://kmsraj51.wordpress.com/ —– ——————

Strong Will Power ~ (दृण इच्छाशक्ति) !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** Strong Will Power(दृण इच्छाशक्ति) **

वर्तमान का समय प्रतियोगिता का समय है। आज हर कोई एक दूसरे से आगे बढना चाहता है। आगे बढने की प्रवृत्ति विकास के राह को आसान करती है। विद्यार्थी हो या व्यपारी, शोध-कर्ता हो या किसान हर कोई अपने-अपने क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रर्दशन करना चाहता है। परन्तु कुछ लोग अपनी इच्छा के अनुरूप परिणाम को प्राप्त कर लेते हैं, तो कुछ लोग चाहत के अनुसार अपने लक्ष्य को हासिल नही कर पाते। जो अपने कार्य को दृण इच्छा शक्ति से पूर्ण करता है वो लक्ष्य को निःसंदेह हासिल करता है। नेपोलियन बोनापार्ट का कहना था कि, असम्भव शब्द मेरे शब्दकोश में नही है। लाल बहादुर शास्त्री, गाँधी जी, सुभाष चन्द्र बोस, अब्राहम लिंकन, आइंस्टाइन, सरदार पटेल, ए.पी.जे. अब्दुल कलाम इत्यादि बङे-बङे महापुरूष अपनी दृण इच्छा शक्ति से ही उच्चतम शिखर पर पहुँचे और आज भी सभी के लिए प्रेरणा स्रोत हैं।

कहने का आशय ये है कि यदि मनुष्य चाहे तो सब कुछ सम्भव है। उसे अपने लक्ष्य तक पहुँचने के लिए कार्य को ईमानदारी से और दृण संकल्प के साथ करना चाहिए। मजबूत इच्छा विपरीत परिस्थीति में भी आगे बढने की प्रेरणा देती है। मनुष्य का मन बहुत चंचल होता है, नित नई इच्छाएं जन्म लेती रहती हैं।अतः मन की चंचलता को नियन्त्रित करने के लिए इच्छा शक्ति की दृणता अनिवार्य होती है। गीता में कहा गया है कि, “मन को वश में करना कठिन जरूर है पर असम्भव नही है।“
दृण इच्छा शक्ति के बल पर ही तेनसिहं और बछेन्द्री पाल जैसे पर्वतारोहियों ने एवरेस्ट पर विजय पताका फहराई। इंग्लिश चैनल और उत्तरी ध्रुव के बर्फिले सागर को दृण इच्छा शक्ति के बल पर ही पार किया गया। लक्ष्य के प्रति दृण इच्छा रखने वाले संकल्पवान लोग इतिहास की धारा बदल देते हैं।

सफलता के लिए दृण संकल्प का होना आवशयक है किन्तु आज आगे बढना तो हर कोई चाहता है परन्तु विषम परिस्थिती में संघर्ष करना नही चाहता। परिश्रम करने से भागता है और शार्टकट तरीके से सबकुछ पाना चाहता है। लक्ष्य के प्रति दृण इच्छाशक्ति का अभाव इंसान की सबसे बङी कमजोरी है। ये कहना अतिश्योक्ति न होगा कि, “गहरी इच्छा हर उपलब्धि का शुरूवाती बिन्दु होती है, जिस तरह आग की छोटी लपटें अधिक गर्मी नही दे सकती वैसे ही कमजोर इच्छा बङे नतीजे नही दे सकती।“ मजबूत इरादों से ही लक्ष्य की राह आसान होती है।

गाँधी जी ने कहा था कि, “Strength Dose not come from Physical capacity. It comes from an Indomitable will.”

अपनी दृण इच्छाशक्ति और अटूट विश्वास के बल पर भारत की पहली महिला आई. पी. एस. अधिकारी किरण बेदी ने अनेकों कठिनाईयों के बावजूद अपने लछ्य को हासिल किया। एशिया का सबसे बङा ‘मेग्सस पुरस्कार’ प्राप्त कर भारत को भी गौरवान्वित किया। अनेक लोगों की प्रेरणा स्रोत किरण बेदी को संयुक्त राष्ट्र संघ में पुलिस सलाहाकार नियुक्त किया गया। (Strong will power )दृण इच्छा शक्ति से कैंसर जैसी जानलेवा बिमारी से भी जीता जा सकता है। यदि इरादे मजबूत होते हैं तो उम्र की सीमा और विकलांगता भी बाधा नही बनती। प्रेमलता अग्रवाल 48 वर्ष की उम्र में एवरेस्ट पर फतह हासिल करने वाली सबसे अधिक उम्र की पहली महिला हैं। हेलेन केलर की दृण इच्छा शक्ति के आगे उनकी दृष्टीबाधिता नत्मस्तक हो गई।

स्वामी विवेकानंद जी का कहना था कि, “पवित्र और दृण इच्छा सर्वशक्तिमान है, अतः प्रबल इच्छा को कठिन अभ्यास एवं संकल्प शक्ति द्वारा प्राप्त करना चाहिए।“

सफलता की कामना करना उत्तम विचार है। उसकी पूर्णता के लिए कार्य के आरंभ में ही दृण इच्छा को अपने में समाहित कर लेना चाहिए। ईमानदारी के साथ कार्य पूर्ण करने में अपनी सारी शक्ति लगा देनी चाहिए। दृण इच्छाशक्ति मार्ग की बाधाओं को पार कर देती है और सफलता के शिखर पर पहुँचना आसान कर देती है। अतः अपनी सोच को साकार रूप देने के लिए दृण इच्छा शक्ति (Strong Will Power) को रग-रग में संचारित कर लें।

“कुछ कर गुजरने के लिए मौसम नही मन चाहिए, साधन सभी जुट जाएंगे, संकल्प का धन चाहिए, गहन संकल्प से ही संभव है पूर्ण सफलता।”

Note::- Post inspired by : http://roshansavera.blogspot.in/

Lots of thank to “Mrs.Anita Sharma”.
Anita Sharma


Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
cropped-kms10060.jpg


** Tu Na Ho Nirash Kabhi Man Se ….. **
Tu Na Ho Nirash Kabhi Man Se(kmsraj51)

** AUM SWEET AUM ** SUMREME SOUL GOD SHIVA **

supreme_soul_7_2kms

@@@@@ ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. @@@@@