Performing A Spiritual Audit At The End Of The Day !!

 

KMSRAJ51की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

Brahma Kumaris – Soul Sustenance and Message for the day

—————————————-
Soul Sustenance 24-04-2014
—————————————-

Performing A Spiritual Audit At The End Of The Day – Part 2 

Yesterday we had explained how self evaluation at the end of the day is extremely vital to one’s progress and development. A useful exercise in this regard is keeping a daily chart for about 3 personality traits or pointsand filling it up every night (lesser than 3 is also fine, but not more , because then you might feel lazy in keeping the chart after a few days and also you might lose focus and the personality traits may not transform as much as you want). You could either evaluate yourself with a yes or no or perform a percentage wise evaluation like 50% or 90% for e.g. We have mentioned below, some of the common traits from which you could select the traits to keep a daily chart for. You could incorporate some other specific traits (not mentioned in this list), which you want to change or develop, depending on your personality: 

In the entire day, today; not only in my words and actions, but also in my thoughts: 
* Did I see everyone’s specialties and keep good wishes for each one, in spite of obvious weaknesses being visible? 
* Did I remain free from all forms of anger, like irritation, frustration, grudge, revenge, etc.? 
* Did I ensure that I neither give nor take sorrow, hurt, pain from anyone? 
* Did I remain free from waste and negative? 
* Did I remain ego less? 
* Did I remain untouched by name, fame, praise, insult? 
* Did I remain stable? 
* Did I remain free from judgments, criticism, jealousy, comparison, hatred, etc.? 
* Did I keep a conscious of serving each one whom I met? 
* Did I bring the 8 main powers into practice and experience being powerful? 
* Did I remain in self-respect and give respect to everyone? 
* Did I practice being soul-conscious in actions and interactions? 
* Did I take a one minute break every hour to reflect, meditate and control the traffic of thoughts in the mind?

———————————————
Message for the day 24-04-2014
———————————————

Humility is to respect everything that comes our way. 

Expression: To love simple things is humility. It teaches to respect all that life brings. That means there is an ability to appreciate and value everything appropriately. So one is able to use everything that comes one way to the fullest extent for the benefit of the self and that of others. 

Experience: When I am humble I am able to remain focused on my inner peace and not lose my sense of personal well-being. I am able to simply learn from everything that happens to my life and add on to this sense of well-being. No situation is difficult or impossible to work on, but I am able to overcome all challenges with ease. 


In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

brahmakumaris-kmsraj51

 

—————————————-
Soul Sustenance 23-04-2014
—————————————-

 

 

 

Performing A Spiritual Audit At The End Of The Day – Part 1 

Our normal day at the office or/and at home is filled with lots of actions and interactions. On a normal day, without realizing consciously, we create almost 30,000-40,000 thoughts. So, not only are we active physically but extremely active on a subtle or non-physical level also. Imagine sleeping with all this burden of thoughts, words and actions which have been created throughout the day, many of which have been waste and negative in nature. What would be the resulting quality of my sleep? So it is extremely important to perform a spiritual/emotional audit or evaluation at the end of each day. 

In a lot of professional sectors of life today, people recognize the need for reflection and audit, not only of financial records but also a general evaluation of the respective sector, to maintain and improve both the service to customers and the job satisfaction of people working in the sector. Checking my own behavior, as a daily exercise; not just checking, but also bringing about respective changes for the next day, enables me to continue to develop and grow, as a human being and in the quality of my work and personal and professional relationships. Have gone through the self-evaluation, it is also advised to become completely light by submitting the mistakes made and heaviness accumulated in the day to the Supreme Being. Doing this helps me put a full-stop to the same and settle all my spiritual accounts at the end of the day. I need to put an end to all commas (when looking at scenes that caused me to slow down and reduced the speed of my progress), question marks (when looking at scenes which caused a why, what, how, when, etc…. in my consciousness) and exclamation marks (when looking at negative or waste scenes, which were unexpected and surprising) which were created in the day’s activities. Along with remembering what all good happened during the day, what did I achieve and what good actions did I perform, there is lots to forget at the end of the day, which should not be carried into my sleep at any cost. Disturbed, thought-filled, unsound sleep, will result in a not so fresh body and mind the next morning, which will cause my mood to be disturbed, adversely affecting the following day. 


———————————————
Message for the day 23-04-2014
———————————————

To be clean at heart is to give happiness to others. 

Expression: The one who has a clean heart is the one who always tries to do the best for those with whom he comes in contact. Thus, the person develops the ability to accept others as they are and ignore anything wrong done by them. Instead, he is able to do the right action without losing the balance. So such a person brings happiness for himself and for others through every action he performs. 

Experience: When I have a clean heart I am able to have an experience of my inner qualities. I am able to enjoy the beauty of the different relationships, each relationship and each person being unique. Thus others are able to get in touch with their inner beauty too. So there is happiness experienced by all. 


In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

brahmakumaris-kmsraj51

Note::-

यदि आपके पास Hindi या English में कोई  article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Success Life_kmsraj51

 

 

Picture Quotes By- “तू न हो निराश कभी मन से” किताब से

Book-Red-kmsraj51

100 शब्द  या  10 शब्द – एक सफल जीवन के लिए – (100 Word “or” Ten Word For A Successful Life )

“तू न हो निराश कभी मन से” किताब => लेखक कृष्ण मोहन सिंह (kmsraj51)

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

95+ देश के पाठकों द्वारा पढ़ा जाने वाला हिन्दी वेबसाइट है,, –

https://kmsraj51.wordpress.com/

मैं अपने सभी प्रिय पाठकों का आभारी हूं…..  I am grateful to all my dear readers …..

——————– —– https://kmsraj51.wordpress.com/ —– ——————

 

 

 

महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक ~ Useful Internet Links !!


9-3-14 kmsraj51

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

 

 

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक ~ Useful Internet Links !!**


महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक
Useful Links
________________________________________
• परमाणु ऊर्जा विभाग
• भारत सरकार
• हिन्दी फोन्ट, हिन्दी साफ्टवेयर, राजभाषा विभाग
• विश्वविद्यालय
• केन्द्रीय विश्वविद्यालय
• फर्जी विश्वविद्यालयों की सूची
• स्कूल/विद्यालयीन शिक्षा
• तकनीकी शिक्षा विभाग
• छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
• राष्ट्रीय विज्ञान केन्द्र
• विज्ञान अकादमी
• हिन्दी भाषा में कार्यरत संस्थाएं
• शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाएं/गैर सरकारी संगठन (NGO)
• हिन्दी विज्ञान/साहित्यिक पत्रिकाएँ
• हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (Hindi Wikipedia)
• विविध रोचक एवं उपयोगी लिंक

परमाणु ऊर्जा विभाग
परमाणु ऊर्जा विभाग
http://www.dae.gov.in

भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र मुम्बई
http://www.barc.gov.in/

परमाणु ऊर्जा शिक्षण संस्था
http://www.aees.gov.in

टाटा मूलभूत अनुसंधान केंद्र मुम्बई
http://www.tifr.res.in

School of Mathematics, TIFR Mumbai
http://www.math.tifr.res.in

School of Natural Sciences, TIFR Mumbai
http://www.tifr.res.in/~vsrp/links/links.htm

School of Technology and Computer Science, TIFR Mumbai
http://www.tcs.tifr.res.in

Graduate Studies, TIFR Mumbai
http://univ.tifr.res.in

National Centre for Biological Science, Bangalore
http://www.ncbs.res.in

National Centre for Radio Astrophysics, Pune
http://ncra.tifr.res.in

International Centre for Theoretical Science, TIFR Mumbai
http://www.icts.res.in

होमी भाभा विज्ञान शिक्षा केन्द्र, मुम्बई
http://www.hbcse.tifr.res.in

National Initiative on Undergraduate Science (NIUS), HBCSE Mumbai
http://nius.hbcse.tifr.res.in/

होमी भाभा प्राथमिक विज्ञान पाठ्यक्रम
http://coglab.hbcse.tifr.res.in

विज्ञान ओलम्पियाड, मुम्बई
http://olympiads.hbcse.tifr.res.in/

भारत सरकार
भारत सरकार
http://goidirectory.nic.in/

anniversary-1x

भारत का राष्ट्रीय पोर्टल
http://india.gov.in

भारत विकास प्रवेशद्वार
http://www.indg.gov.in

विदेश मंत्रालय
http://meahindi.nic.in

हिन्दी फोन्ट, हिन्दी सॉफ्टवेयर, राजभाषा विभाग
राजभाषा विभाग भारत सरकार
http://rajbhasha.gov.in

भारतीय भाषाऔं के लिये प्रौद्योगिकी विकास (फोन्ट एवं साफ्टवेयर)
http://ildc.in

सूचना प्रौद्योगिकी विभाग
http://deity.gov.in/content/about-dit

प्रगत संगणन विकास केन्द्र
http://www.cdac.in/

डाउनलोड हिन्दी फोन्ट
http://www.wazu.jp/gallery/Fonts_Devanagari.html
http://www.ffonts.net/Hindi.html
http://devanaagarii.net/fonts/

डाउनलोड यूनिकोड हिन्दी फोन्ट
http://salrc.uchicago.edu/resources/fonts/available/hindi/
http://www.alanwood.net/unicode/fonts.html#devanagari

माईक्रोसॉफ्ट भाषा इण्डिया
http://www.bhashaindia.com/ilit/Hindi.aspx

फॉण्ट परिवर्तक
http://www.kavitakosh.org/convertfonts

वेबदुनिया का ‘डेटा कनवर्टर – यहाँ सैकड़ों फॉन्ट से यूनिकोड में बदलने की आनलाइन सुविधा है
http://utilities.webdunia.com/dataconversion.php

सम्पूर्ण फाइल (.txt) के फोण्ट को यूनिकोड फोण्ट में बदलने हेतु
http://uni.medhas.org/fileconverterindex.php5

ओपन आफिस में हिन्दी वर्तनी जाँचक (Spell Check) संस्थापित करने हेतु मार्गदर्शन
http://raviratlami.blogspot.com/2006/10/blog-post_07.html

विश्वविद्यालय
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC)
http://www.ugc.ac.in

नकली विश्वविद्यालय की राज्यवार सूची
http://www.ugc.ac.in/page/Fake-Universities.aspx

भारतीय विश्वविद्यालय संघ (AIU)
http://www.aiuweb.org/Members/MembersA.asp

इंदिरा गाँधी राष्ट्रिय मुक्त विश्वविद्यालय
http://www.ignou.ac.in

मुक्त विश्वविद्यालयों/संस्थानों की सूची
http://www.dec.ac.in/Institutions.doc
http://mhrd.gov.in/state_open

दूरस्थ शिक्षा परिषद (Distance Education Council)
http://www.dec.ac.in

उच्चतर शिक्षा विभाग
http://mhrd.gov.in/higher_education

राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन विश्वविद्यालय
http://www.nuepa.org

केन्द्रीय विश्वविद्यालय
केन्द्रीय विश्व विद्यालय सूची
http://mhrd.gov.in/central_univ_eng_11

इलाहाबाद विश्वविद्यालय, इलाहाबाद, उ.प्र.
http://www.allduniv.ac.in

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़
http://www.amu.ac.in

असम विश्वविद्यालय, सिलचर
http://www.aus.ac.in/

अंग्रेजी एवं विदेशी भाषाऐं विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.efluniversity.ac.in

बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय, लखनऊ, उ.प्र.
http://www.bbau.ac.in/

बनारस (काशी) हिन्दु विश्वविद्यालय, बनारस, उ.प्र.
http://www.bhu.ac.in

दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली
http://www.du.ac.in

हैदराबाद विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.uohyd.ac.in/

जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
http://jmi.ac.in/

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
http://www.jnu.ac.in

महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा, महाराष्ट्र
http://www.hindivishwa.org

मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.manuu.ac.in

मणिपुर विश्वविद्यालय, इम्फाल, मणिपुर
http://manipuruniv.ac.in

मिजोरम विश्वविद्यालय, आइजॉल, मिजोरम
http://www.mzu.edu.in

नागालैण्ड विश्वविद्यालय, कोहिमा, नागालैण्ड
http://www.nagauniv.org.in

नोर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी, शिलांग, मेघालय
http://www.nehu.ac.in

पांडिचेरी विश्वविद्यालय, पांडिचेरी
http://www.pondiuni.edu.in/

राजीव गांधी विश्वविद्यालय, ईटानगर, अरूणाचल प्रदेश
http://www.rgu.ac.in

सिक्किम विश्वविद्यालय, गंगटोक, सिक्किम
http://www.sikkimuniversity.in/webforms/Index.aspx

तेजपुर विश्वविद्यालय, नापाम, तेजपुर, असम
http://www.tezu.ernet.in

त्रिपुरा विश्वविद्यालय, सूर्यमणिनगर, त्रिपुरा (पश्चिम)
http://www.tripurauniv.in/

विश्व भारती, बिरभुम, पश्चिम बंगाल
http://www.visva-bharati.ac.in

डॉ. हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर, म.प्र.
http://www.dhsgsu.ac.in/

गुरु घासीदास विश्वविद्यालय, बिलासपुर, छत्तीसगढ़
http://www.ggu.ac.in

हेमवती नन्दन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्रीनगर, उत्तराखण्ड
http://hnbgu.ac.in/

फर्जी विश्वविद्यालयों की सूची
नकली विश्वविद्यालय की राज्यवार सूची
http://www.ugc.ac.in/page/Fake-Universities.aspx

स्कूल/विद्यालयीन शिक्षा
स्कूल रिपोर्ट कार्ड
http://schoolreportcards.in

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग
http://mhrd.gov.in/schooleducation

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड
http://cbse.nic.in

केन्द्रीय विद्यालय संगठन
http://kvsangathan.nic.in

नवोदय विद्यालय समिति
http://www.navodaya.nic.in/

परमाणु ऊर्जा शिक्षण संस्था
http://www.aees.gov.in

तकनीकी शिक्षा विभाग
तकनीकी शिक्षा
http://mhrd.gov.in/technical_edu_hindi

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद
http://www.aicte-india.org/

छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
राष्ट्रीय प्रतिभा खोज (National Talent Search)
http://www.ncert.nic.in/programmes/talent_exam/index_talent.html

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (KVPY)
http://www.kvpy.org.in

छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
http://education.nic.in/scholarship/scholarship.asp

J N Tata Endowment (विदेश में उच्च शिक्षा के लिए)
http://www.dorabjitatatrust.org

CENTRE FOR THE STUDY OF CULTURE AND SOCIETY
http://cscs.res.in/fellowships

भारत की अन्य छात्रवृत्तियों की सूची
http://www.scholarshipsinindia.com/
http://www.dst.gov.in/whats_new/advertisements.htm

सर रतन टाटा ट्रस्ट
http://www.srtt.org

राष्ट्रीय विज्ञान केन्द्र
राष्ट्रीय विज्ञान संचार एवं सूचना स्रोत संस्थान (NISCAIR)
http://www.niscair.res.in

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST)
http://dst.gov.in

विज्ञान प्रसार
http://www.vigyanprasar.gov.in/sitenew/

विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी राष्ट्रीय परिषद (NCSTC)
http://dst.gov.in/scientific-programme/s-t_ncstc.htm

राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद (National Council of Science Museums)
http://www.ncsm.gov.in

विज्ञान अकादमी
भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, नई दिल्ली
http://insaindia.org/index.php

भारतीय विज्ञान अकादमी, बेंगलौर
http://www.ias.ac.in

राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, इलाहाबाद
http://nasi.nic.in

हिन्दी भाषा में कार्यरत संस्थाएं
केंद्रीय हिन्दी संस्थान, अगरा
http://www.hindisansthan.org/hi/index.htm

राष्ट्रीय अनुवाद मिशन, मैसूर
http://www.ntm.org.in

भारतीय भाषा संस्थान, मैसूर
http://www.ciil.org

शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाएं/गैर सरकारी संगठन (NGO)
एकलव्य
http://eklavya.in

नवनिर्मिति

http://www.navnirmiti.org

दिगंतर
http://www.digantar.org

विक्रम ए साराभाई कम्मुनिटी साइंस सेंटर
http://www.vascsc.org

सर दोराबजी टाटा ट्रस्ट
http://www.dorabjitatatrust.org/

ईस्ट एण्ड वेस्ट एजुकेशनल सोसायटी
http://www.eastwestindia.org

प्रथम
http://www.pratham.org/

अक्षरा
http://www.akshara.org.in/

अजीम प्रेमजी फॉउण्डेशन
http://www.azimpremjifoundation.org/

सेन्टर फॉर एन्वायरमेन्ट एजुकेशन
http://www.ceeindia.org/cee/index.html

मुस्कान
http://www.muskan.org/

idiscoveri
http://www.idiscoveri.com/

मराठी विज्ञान परिषद्
http://www.mavipamumbai.org/

कृष्णमूर्ती फॉउण्डेशन
http://www.kfionline.org/

सेन्टर फॉर लर्निंग
http://www.cfl.in/

Jidnyasa Trust Thane
http://www.jidnyasa.org.in/

ग्राम मंगल
http://www.grammangal.org/

EnviroVigil
http://envirovigil.org/Homepage.html

डोरस्टेप स्कूल
http://www.doorstepschool.org/

विज्ञान आश्रम
http://www.vigyanashram.com/

अगस्तय फॉउन्डेशन
http://www.agastya.org/

नवनिर्मिति
http://www.navnirmiti.org/

मुक्त आंगन विज्ञान शोधिका (पुलस्तय) IUCAA’s Children’s Science Centre
http://www.iucaa.ernet.in/~scipop/Pulastya/index.html

विनिमय
http://www.vinimaytrust.org/

हिन्दी विज्ञान/साहित्यिक पत्रिकाएँ
कविता कोश
http://www.kavitakosh.org/kk/index.php?title=कविता_कोश_मुखपृष्ठ

संदर्भ – शिक्षा की त्रैमासिक पत्रिका (एकलव्य)
http://www.eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=51&Itemid=72

स्रोत (एकलव्य)
http://eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=56&Itemid=81

चकमक (एकलव्य)
http://eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=57&Itemid=84

भारत-दर्शन, हिन्दी साहित्यिक पत्रिका
http://www.bharatdarshan.co.nz

वागर्थ हिन्दी मासिक पत्रिका
http://www.bharatiyabhashaparishad.com

अनुभूति
http://www.anubhuti-hindi.org

अभिव्यक्ति
http://www.abhivyakti-hindi.org

अन्यथा
http://www.anyatha.com

हिन्दी नेस्ट डॉट कॉम
http://hindinest.com

शिक्षा विमर्श
http://www.digantar.org/vimarsh

हिन्दी चेतना (कनाडा)
http://www.vibhom.com

गीता-कविता
http://www.geeta-kavita.com/Default.asp

हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (Hindi Wikipedia)
हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://hi.wikipedia.org/wiki/मुखपृष्ठ

हिन्दी विकि-शब्दकोश
http:hi.wiktionary.org/wiki/मुख्य_पृष्ठ

इंटरनेट पर हिन्दी के साधन
http://hi.wikipedia.org/wiki/इंटरनेट_पर_हिन्दी_के_साधन

हिन्दी वेब साइट की सूची
http://hi.wikipedia.org/wiki/हिन्दी_में_वैब_साइट्स_की_एक_सूची

देवनागरी में कैसे टाइप करें
http://hi.wikipedia.org/wiki/विकिपीडिया:देवनागरी_में_कैसे_टाइप_करें

इन्टरनेट पर स्थित हिन्दी पत्रिकाएँ
http://hi.wikipedia.org/wiki/अन्तरजाल_पर_स्थित_हिन्दी_पत्रिकाएँ

ऑन लाइन हिन्दी समाचार पत्र
http://hi.wikipedia.org/wiki/अन्तरजालीय_हिन्दी_समाचार_स्थल

विविध रोचक एवं उपयोगी लिंक
सौर मण्डल का त्रि-आयामी एवं इन्टरैक्टिव मॉडल
http://www.solarsystemscope.com

भोजपुरी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://bh.wikipedia.org/wiki/पहिलका_पन्ना

मराठी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://mr.wikipedia.org/wiki/मुखपृष्ठ

ऑन लाइन हिन्दी कीबोर्ड
http://swecha.org/input/index.html

ऑन लाइन हिन्दी कीबोर्ड
http://www.google.com/intl/hi/inputtools/cloud/try/

ऑन स्क्रीन हिन्दी कीबोर्ड
http://labs.google.co.in/keyboards/hindi.html

ऑन लाइन अनुवाद के लिए
http://www.google.co.in/language_tools?hl=en
http://www.mantra-rajbhasha.cdac.in/mantrarajbhasha/

रोजगार समाचार
http://www.employmentnews.gov.in

राजभाषा.काम
http://www.rajbhasha.com

वेब दुनिया
http://hindi.webdunia.com

भारत कोश
http://hi.bharatdiscovery.org


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
kms1006

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

@@@@@ ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. @@@@@

Important Thoughts For Happiness !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51)…..

kmsraj51 की कलम से …..

kms-8

kms-8

खुशी के लिए जरूरी संकल्प …..


हेलो दोस्तो! नए वर्ष का स्वागत आप इतने उत्साह और शोर-शराबे के साथ हर बार इसलिए करते हैं कि आपके दिल में कुछ पाने की उम्मीद रहती है। वे खुशियां जिनकी अपने कामना और कोशिश की पर वे न मिलीं। नया साल शुरू होते ही वे सभी अधूरे ख्वाब पूरा करने की तमन्ना प्रबल हो जाती है। ऐसा लगता है मानो जीवन ने आपको एक और मौका दिया है खुशियों को अपने पक्ष में करने का।

आप इस नए वर्ष के पहले दिन पीछे मुड़कर देखना चाहते हैं कि आखिर आपसे किस-किस क्षेत्र में चूक हुई है जिसके कारण आप मंजिल से दूर रह गए। अपने स्मृति पटल पर जोर देने पर आपको अहसास होता है कि निहायत मामूली सी कमियों व कोताहियों के कारण आप वह हासिल नहीं कर सके जिसकी आपको चाह थी।

जब आप अपनी डायरी उठाकर देखते हैं तो पाते हैं कि ज्यादातर दुखों व कष्टों का जिम्मेदार कोई और नहीं, आप खुद ही थे। शक व संशय से किसी को तकलीफ या मजा चखाने जैसे विचार और प्रवृत्ति के कारण ही आपका मन ज्यादा विचलित व बेचैन हुआ था। अपनों पर भरोसा न कर किसी दुष्ट के बहकावे में आकर अपना सुख-चैन गंवाने का नतीजा हमेशा बुरा ही निकला। इस कारण न तो आपको शांति मिली और न ही स्वास्थ्य लाभ। आपकी मूल चाहत थी खुशी।

इन सारे विश्लेषणों के बाद आपके संकल्प की सूई अब कहां जाकर रुकनी चाहिए? जी हां, खुशी के लिए संकल्प का पहला सबक यही बनता है कि अपनों पर भरोसा किया जाए। अपने बच्चे, माता-पिता, साथी, दोस्त, रिश्ते, नातेदार पर भरोसा करना सीखें, न कि उन गैर चुगलखोरों की सुनें जो आपका सुकून चुराने में माहिर हैं। किसी अपने से कोई भूल हो गई है तो उसे जीवन भर का सच न मान लें। दोस्तनुमा दुश्मन के बहकावे में आकर अपनों पर निरंतर शक करने से आप उन्हें फिर गलत करने के लिए उकसाते हैं।

कुछ कारगर संकल्प इस प्रकार करें:

– बीते समय की चीर-फाड़ कर समय बर्बाद करने के बजाय भविष्य को सुधारने के बारे में आप विचार करेंगे।

– हर किसी को माफ कर देंगे ।

– बदला लेने के लिए कोई कितना भी उकसाए, ऐसा नहीं करेंगे।

– ज्यादा भावुक हुए बिना ही जिनसे प्यार है उनका साथ देंगे।

– यथार्थ व तर्क को अहमियत देते हुए भी दिल की भी सुनेंगे।

– कोशिश करें कि छोटे-मोटे अरमान पूरे करते चलें ताकि जीने का मजा मिलता रहे।

– ज्योतिष विद्या से मिली सूचनाओं पर केवल अच्छे पहलुओं पर यकीन करें और चिंता वाली बातों को झूठा मानें ताकि गंडे-तावीज के चक्कर में आपकी जेब खाली न हो।

– इंटरनेट, फेसबुक व फोन पर पूरी तरह निर्भर नहीं होकर रूबरू होकर संवाद का मजा लें।

– अपने चाहनेवालों के सीधे संपर्क में रहें ताकि हौसला बना रहे।

– नैतिकता का वही पैमाना अपने लिए भी तय करें जो दूसरों के लिए रखें।

– अपने जलनशील स्वभाव के कारण दूसरों का सुख चैन न लूटें।

– अपने को खाने-पीने से वंचित कर त्याग व बलिदान करने जैसी कसम या संकल्प न लें, यह मूलतः अपनों को प्यार नहीं सजा देने के लिए होता है।

– किसी भी प्रकार की अति से बचने की कोशिश करें।

– बार-बार अपना मन न बदलें, एक विचार पर टिककर रहें ताकि स्थिरता रहे।

मजे की बात यह है कि ज्यादातर संकल्प आप हर बार करते हैं और वे पहले ही दिन से टूटने लगते हैं। नहीं पीने या संतुलित खाने के संकल्प, आप यह कहकर तोड़ देते हैं कि अब आज तो नया वर्ष शुरू हुआ है, आज तो जश्न का दिन है, क्या सोचना। कल से देखा जाएगा और वह कल कभी नहीं आता। इसलिए कोई सख्त इरादा करना फायदेमंद नहीं होता है। केवल मोटी-मोटी बातों की गांठ अपने जीवन में बांध लेने भर से ही जीवन की नैय्या पार लग सकती है। खुद को खुश रखना। खुशी के लिए जरूरी है कि अपनी सेहत पर ध्यान दें। दूसरों का बुरा चाहने वालों की सेहत अमूमन थोड़ी नाजुक रहती है।

किसी भी घटना या बात को बहुत ज्यादा तूल न दें। खुशी हो या गम, संयम रखें और अति उत्तेजित न हों। सामाजिक मामला हो या पारीवारिक बहुत अधिक भावना में बहकर माहौल को खराब न करें। किसी पर हाथ उठाना या अपशब्द बोलना आपको अपरिपक्व साबित करता है। अपनी मस्ती, अपनी खुशी, अपनी सफलता का पैमाना खुद तय करें। जीवन के हर क्षेत्र में आपका लक्ष्य आपका अपना होना चाहिए न कि दूसरे क्या चाहते हैं। लालच से थोड़ा बचकर चलना ही सुकून देता है।

Note::-


यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

(((((::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..)))))

महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक ~ Useful Internet Links !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

KMS-2014-51

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक ~ Useful Internet Links !!**


महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक
Useful Links
________________________________________
• परमाणु ऊर्जा विभाग
• भारत सरकार
• हिन्दी फोन्ट, हिन्दी साफ्टवेयर, राजभाषा विभाग
• विश्वविद्यालय
• केन्द्रीय विश्वविद्यालय
• फर्जी विश्वविद्यालयों की सूची
• स्कूल/विद्यालयीन शिक्षा
• तकनीकी शिक्षा विभाग
• छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
• राष्ट्रीय विज्ञान केन्द्र
• विज्ञान अकादमी
• हिन्दी भाषा में कार्यरत संस्थाएं
• शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाएं/गैर सरकारी संगठन (NGO)
• हिन्दी विज्ञान/साहित्यिक पत्रिकाएँ
• हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (Hindi Wikipedia)
• विविध रोचक एवं उपयोगी लिंक

परमाणु ऊर्जा विभाग
परमाणु ऊर्जा विभाग
http://www.dae.gov.in

भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र मुम्बई
http://www.barc.gov.in/

परमाणु ऊर्जा शिक्षण संस्था
http://www.aees.gov.in

टाटा मूलभूत अनुसंधान केंद्र मुम्बई
http://www.tifr.res.in

School of Mathematics, TIFR Mumbai
http://www.math.tifr.res.in

School of Natural Sciences, TIFR Mumbai
http://www.tifr.res.in/~vsrp/links/links.htm

School of Technology and Computer Science, TIFR Mumbai
http://www.tcs.tifr.res.in

Graduate Studies, TIFR Mumbai
http://univ.tifr.res.in

National Centre for Biological Science, Bangalore
http://www.ncbs.res.in

National Centre for Radio Astrophysics, Pune
http://ncra.tifr.res.in

International Centre for Theoretical Science, TIFR Mumbai
http://www.icts.res.in

होमी भाभा विज्ञान शिक्षा केन्द्र, मुम्बई
http://www.hbcse.tifr.res.in

National Initiative on Undergraduate Science (NIUS), HBCSE Mumbai
http://nius.hbcse.tifr.res.in/

होमी भाभा प्राथमिक विज्ञान पाठ्यक्रम
http://coglab.hbcse.tifr.res.in

विज्ञान ओलम्पियाड, मुम्बई
http://olympiads.hbcse.tifr.res.in/

भारत सरकार
भारत सरकार
http://goidirectory.nic.in/

भारत का राष्ट्रीय पोर्टल
http://india.gov.in

भारत विकास प्रवेशद्वार
http://www.indg.gov.in

विदेश मंत्रालय
http://meahindi.nic.in

हिन्दी फोन्ट, हिन्दी सॉफ्टवेयर, राजभाषा विभाग
राजभाषा विभाग भारत सरकार
http://rajbhasha.gov.in

भारतीय भाषाऔं के लिये प्रौद्योगिकी विकास (फोन्ट एवं साफ्टवेयर)
http://ildc.in

सूचना प्रौद्योगिकी विभाग
http://deity.gov.in/content/about-dit

प्रगत संगणन विकास केन्द्र
http://www.cdac.in/

डाउनलोड हिन्दी फोन्ट
http://www.wazu.jp/gallery/Fonts_Devanagari.html
http://www.ffonts.net/Hindi.html
http://devanaagarii.net/fonts/

डाउनलोड यूनिकोड हिन्दी फोन्ट
http://salrc.uchicago.edu/resources/fonts/available/hindi/
http://www.alanwood.net/unicode/fonts.html#devanagari

माईक्रोसॉफ्ट भाषा इण्डिया
http://www.bhashaindia.com/ilit/Hindi.aspx

फॉण्ट परिवर्तक
http://www.kavitakosh.org/convertfonts

वेबदुनिया का ‘डेटा कनवर्टर – यहाँ सैकड़ों फॉन्ट से यूनिकोड में बदलने की आनलाइन सुविधा है
http://utilities.webdunia.com/dataconversion.php

सम्पूर्ण फाइल (.txt) के फोण्ट को यूनिकोड फोण्ट में बदलने हेतु
http://uni.medhas.org/fileconverterindex.php5

ओपन आफिस में हिन्दी वर्तनी जाँचक (Spell Check) संस्थापित करने हेतु मार्गदर्शन
http://raviratlami.blogspot.com/2006/10/blog-post_07.html

विश्वविद्यालय
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC)
http://www.ugc.ac.in

नकली विश्वविद्यालय की राज्यवार सूची
http://www.ugc.ac.in/page/Fake-Universities.aspx

भारतीय विश्वविद्यालय संघ (AIU)
http://www.aiuweb.org/Members/MembersA.asp

इंदिरा गाँधी राष्ट्रिय मुक्त विश्वविद्यालय
http://www.ignou.ac.in

मुक्त विश्वविद्यालयों/संस्थानों की सूची
http://www.dec.ac.in/Institutions.doc
http://mhrd.gov.in/state_open

दूरस्थ शिक्षा परिषद (Distance Education Council)
http://www.dec.ac.in

उच्चतर शिक्षा विभाग
http://mhrd.gov.in/higher_education

राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन विश्वविद्यालय
http://www.nuepa.org

केन्द्रीय विश्वविद्यालय
केन्द्रीय विश्व विद्यालय सूची
http://mhrd.gov.in/central_univ_eng_11

इलाहाबाद विश्वविद्यालय, इलाहाबाद, उ.प्र.
http://www.allduniv.ac.in

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़
http://www.amu.ac.in

असम विश्वविद्यालय, सिलचर
http://www.aus.ac.in/

अंग्रेजी एवं विदेशी भाषाऐं विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.efluniversity.ac.in

बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय, लखनऊ, उ.प्र.
http://www.bbau.ac.in/

बनारस (काशी) हिन्दु विश्वविद्यालय, बनारस, उ.प्र.
http://www.bhu.ac.in

दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली
http://www.du.ac.in

हैदराबाद विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.uohyd.ac.in/

जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
http://jmi.ac.in/

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
http://www.jnu.ac.in

महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा, महाराष्ट्र
http://www.hindivishwa.org

मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.manuu.ac.in

मणिपुर विश्वविद्यालय, इम्फाल, मणिपुर
http://manipuruniv.ac.in

मिजोरम विश्वविद्यालय, आइजॉल, मिजोरम
http://www.mzu.edu.in

नागालैण्ड विश्वविद्यालय, कोहिमा, नागालैण्ड
http://www.nagauniv.org.in

नोर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी, शिलांग, मेघालय
http://www.nehu.ac.in

पांडिचेरी विश्वविद्यालय, पांडिचेरी
http://www.pondiuni.edu.in/

राजीव गांधी विश्वविद्यालय, ईटानगर, अरूणाचल प्रदेश
http://www.rgu.ac.in

सिक्किम विश्वविद्यालय, गंगटोक, सिक्किम
http://www.sikkimuniversity.in/webforms/Index.aspx

तेजपुर विश्वविद्यालय, नापाम, तेजपुर, असम
http://www.tezu.ernet.in

त्रिपुरा विश्वविद्यालय, सूर्यमणिनगर, त्रिपुरा (पश्चिम)
http://www.tripurauniv.in/

विश्व भारती, बिरभुम, पश्चिम बंगाल
http://www.visva-bharati.ac.in

डॉ. हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर, म.प्र.
http://www.dhsgsu.ac.in/

गुरु घासीदास विश्वविद्यालय, बिलासपुर, छत्तीसगढ़
http://www.ggu.ac.in

हेमवती नन्दन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्रीनगर, उत्तराखण्ड
http://hnbgu.ac.in/

फर्जी विश्वविद्यालयों की सूची
नकली विश्वविद्यालय की राज्यवार सूची
http://www.ugc.ac.in/page/Fake-Universities.aspx

स्कूल/विद्यालयीन शिक्षा
स्कूल रिपोर्ट कार्ड
http://schoolreportcards.in

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग
http://mhrd.gov.in/schooleducation

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड
http://cbse.nic.in

केन्द्रीय विद्यालय संगठन
http://kvsangathan.nic.in

नवोदय विद्यालय समिति
http://www.navodaya.nic.in/

परमाणु ऊर्जा शिक्षण संस्था
http://www.aees.gov.in

तकनीकी शिक्षा विभाग
तकनीकी शिक्षा
http://mhrd.gov.in/technical_edu_hindi

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद
http://www.aicte-india.org/

छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
राष्ट्रीय प्रतिभा खोज (National Talent Search)
http://www.ncert.nic.in/programmes/talent_exam/index_talent.html

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (KVPY)
http://www.kvpy.org.in

छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
http://education.nic.in/scholarship/scholarship.asp

J N Tata Endowment (विदेश में उच्च शिक्षा के लिए)
http://www.dorabjitatatrust.org

CENTRE FOR THE STUDY OF CULTURE AND SOCIETY
http://cscs.res.in/fellowships

भारत की अन्य छात्रवृत्तियों की सूची
http://www.scholarshipsinindia.com/
http://www.dst.gov.in/whats_new/advertisements.htm

सर रतन टाटा ट्रस्ट
http://www.srtt.org

राष्ट्रीय विज्ञान केन्द्र
राष्ट्रीय विज्ञान संचार एवं सूचना स्रोत संस्थान (NISCAIR)
http://www.niscair.res.in

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST)
http://dst.gov.in

विज्ञान प्रसार
http://www.vigyanprasar.gov.in/sitenew/

विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी राष्ट्रीय परिषद (NCSTC)
http://dst.gov.in/scientific-programme/s-t_ncstc.htm

राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद (National Council of Science Museums)
http://www.ncsm.gov.in

विज्ञान अकादमी
भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, नई दिल्ली
http://insaindia.org/index.php

भारतीय विज्ञान अकादमी, बेंगलौर
http://www.ias.ac.in

राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, इलाहाबाद
http://nasi.nic.in

हिन्दी भाषा में कार्यरत संस्थाएं
केंद्रीय हिन्दी संस्थान, अगरा
http://www.hindisansthan.org/hi/index.htm

राष्ट्रीय अनुवाद मिशन, मैसूर
http://www.ntm.org.in

भारतीय भाषा संस्थान, मैसूर
http://www.ciil.org

शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाएं/गैर सरकारी संगठन (NGO)
एकलव्य
http://eklavya.in

नवनिर्मिति

http://www.navnirmiti.org

दिगंतर
http://www.digantar.org

विक्रम ए साराभाई कम्मुनिटी साइंस सेंटर
http://www.vascsc.org

सर दोराबजी टाटा ट्रस्ट
http://www.dorabjitatatrust.org/

ईस्ट एण्ड वेस्ट एजुकेशनल सोसायटी
http://www.eastwestindia.org

प्रथम
http://www.pratham.org/

अक्षरा
http://www.akshara.org.in/

अजीम प्रेमजी फॉउण्डेशन
http://www.azimpremjifoundation.org/

सेन्टर फॉर एन्वायरमेन्ट एजुकेशन
http://www.ceeindia.org/cee/index.html

मुस्कान
http://www.muskan.org/

idiscoveri
http://www.idiscoveri.com/

मराठी विज्ञान परिषद्
http://www.mavipamumbai.org/

कृष्णमूर्ती फॉउण्डेशन
http://www.kfionline.org/

सेन्टर फॉर लर्निंग
http://www.cfl.in/

Jidnyasa Trust Thane
http://www.jidnyasa.org.in/

ग्राम मंगल
http://www.grammangal.org/

EnviroVigil
http://envirovigil.org/Homepage.html

डोरस्टेप स्कूल
http://www.doorstepschool.org/

विज्ञान आश्रम
http://www.vigyanashram.com/

अगस्तय फॉउन्डेशन
http://www.agastya.org/

नवनिर्मिति
http://www.navnirmiti.org/

मुक्त आंगन विज्ञान शोधिका (पुलस्तय) IUCAA’s Children’s Science Centre
http://www.iucaa.ernet.in/~scipop/Pulastya/index.html

विनिमय
http://www.vinimaytrust.org/

हिन्दी विज्ञान/साहित्यिक पत्रिकाएँ
कविता कोश
http://www.kavitakosh.org/kk/index.php?title=कविता_कोश_मुखपृष्ठ

संदर्भ – शिक्षा की त्रैमासिक पत्रिका (एकलव्य)
http://www.eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=51&Itemid=72

स्रोत (एकलव्य)
http://eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=56&Itemid=81

चकमक (एकलव्य)
http://eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=57&Itemid=84

भारत-दर्शन, हिन्दी साहित्यिक पत्रिका
http://www.bharatdarshan.co.nz

वागर्थ हिन्दी मासिक पत्रिका
http://www.bharatiyabhashaparishad.com

अनुभूति
http://www.anubhuti-hindi.org

अभिव्यक्ति
http://www.abhivyakti-hindi.org

अन्यथा
http://www.anyatha.com

हिन्दी नेस्ट डॉट कॉम
http://hindinest.com

शिक्षा विमर्श
http://www.digantar.org/vimarsh

हिन्दी चेतना (कनाडा)
http://www.vibhom.com

गीता-कविता
http://www.geeta-kavita.com/Default.asp

हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (Hindi Wikipedia)
हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://hi.wikipedia.org/wiki/मुखपृष्ठ

हिन्दी विकि-शब्दकोश
http:hi.wiktionary.org/wiki/मुख्य_पृष्ठ

इंटरनेट पर हिन्दी के साधन
http://hi.wikipedia.org/wiki/इंटरनेट_पर_हिन्दी_के_साधन

हिन्दी वेब साइट की सूची
http://hi.wikipedia.org/wiki/हिन्दी_में_वैब_साइट्स_की_एक_सूची

देवनागरी में कैसे टाइप करें
http://hi.wikipedia.org/wiki/विकिपीडिया:देवनागरी_में_कैसे_टाइप_करें

इन्टरनेट पर स्थित हिन्दी पत्रिकाएँ
http://hi.wikipedia.org/wiki/अन्तरजाल_पर_स्थित_हिन्दी_पत्रिकाएँ

ऑन लाइन हिन्दी समाचार पत्र
http://hi.wikipedia.org/wiki/अन्तरजालीय_हिन्दी_समाचार_स्थल

विविध रोचक एवं उपयोगी लिंक
सौर मण्डल का त्रि-आयामी एवं इन्टरैक्टिव मॉडल
http://www.solarsystemscope.com

भोजपुरी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://bh.wikipedia.org/wiki/पहिलका_पन्ना

मराठी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://mr.wikipedia.org/wiki/मुखपृष्ठ

ऑन लाइन हिन्दी कीबोर्ड
http://swecha.org/input/index.html

ऑन लाइन हिन्दी कीबोर्ड
http://www.google.com/intl/hi/inputtools/cloud/try/

ऑन स्क्रीन हिन्दी कीबोर्ड
http://labs.google.co.in/keyboards/hindi.html

ऑन लाइन अनुवाद के लिए
http://www.google.co.in/language_tools?hl=en
http://www.mantra-rajbhasha.cdac.in/mantrarajbhasha/

रोजगार समाचार
http://www.employmentnews.gov.in

राजभाषा.काम
http://www.rajbhasha.com

वेब दुनिया
http://hindi.webdunia.com

भारत कोश
http://hi.bharatdiscovery.org


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
kms1006

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

@@@@@ ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. @@@@@

बोर्ड परीक्षा की तैयारी ~ Board Exam preparation methods !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

कुछ छात्रों में बोर्ड परीक्षा को लेकर एक अजीब सा डर रहता है। पूरी तैयारी के बावजूद भी उन्हें मुश्किलें आती हैं। बोर्ड परीक्षा के लिए अच्छी तैयारी के अलावा जरूरी है कि इसे पूर्ण रूप से नियोजित बनाएँ।

व्यवस्थित रूप से की गई पढ़ाई द्वारा कोई भी विद्यार्थी परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सकता है। यह आवश्यक है कि पहले अपेक्षाकृत आसान अध्यायों का अध्ययन करके, उसके पश्चात उत्तीर्ण होने के लिए न्यूनतम अंक प्राप्त कर सकें। तत्पश्चात अपेक्षाकृत कठिन अध्यायों की ओर जाना चाहिए। परीक्षा में अच्छे अंकों से उत्तीर्ण होने के लिए निम्न बिंदुओं पर ध्यान देना आवश्यक है-

cropped-kms_0-1052.jpg

* हमेशा लिखकर याद करें। इससे गलतियों की संभावना कम होगी।

* रटकर याद करने से बचें। इससे आशंका पूरी तरह नहीं समाप्त होती है। किसी भी विषय के मूल को पहले समझने का प्रयास करें।
कुछ छात्रों में बोर्ड परीक्षा को लेकर एक अजीब सा डर रहता है। पूरी तैयारी के बावजूद भी उन्हें मुश्किलें आती हैं।
बोर्ड परीक्षा के लिए अच्छी तैयारी के अलावा जरूरी है कि इसे पूर्ण रूप से नियोजित बनाएँ।

* समय-समय पर अपने पाठ को दोहराते रहें और प्रतिदिन इसके लिए कम से कम आधे घंटे का समय निकालें।

* सैंपल पेपर में से पहले उन प्रश्नों को छाँटकर निकाल लें, जिसके उत्तर आपको नहीं आ रहे हैं।

* अंकों के प्रश्न हल करते वक्त हमेशा फार्मूला लिखें, उसके बाद प्रश्न को इस फार्मूले के आधार पर हल करें।

* हल हो चुके प्रश्नों का महत्व समझें और प्रश्न करने के पश्चात अपने उत्तर को हल से अवश्य मिलाएँ।

* लॉग व एंटीलॉग प्रश्नों का अधिक अभ्यास करें।

* भौतिक शास्त्र, रसायन शास्त्र आदि विषयों के फार्मूले बनाकर उन्हें अपने कमरे की दीवार पर लगा लें, जिससे चलते-फिरते आप उन्हें दोहरा सकें।

Note::-

यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!


cropped-kms10060.jpg

(((((::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..)))))


cropped-kms_0-1052.jpg

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

The Life and Times of Gautama Buddha in Hindi

Kmsraj51 की कलम से…..

Kmsraj51-CYMT09

हिन्दी में गौतम बुद्ध के जीवन और समय का विस्तार

 सामान्य व्यक्ति से महापुरुष तक का सफर – महात्मा बुद्ध 

भारत की पवित्र भूमि पर ऐसे कई महापुरुषों ने जन्म लिया है, जिन्होंने अपने कृत्यों और सिद्धांतों के बल पर मानव जीवन के भीतर छिपे गूढ़ रहस्यों को उजागर किया. इन्हीं में से एक हैं महात्मा बुद्ध, जिन्होंने सामान्य मनुष्य के रूप में जन्म लेकर अध्यात्म की उस ऊंचाई को छुआ जहां तक पहुंचना किसी आम व्यक्ति के लिए मुमकिन नहीं है. ऐसे महान पुरुष के दिखलाए गए मार्ग को लोगों ने एक धर्म के रूप में ग्रहण किया जिसके परिणामस्वरूप भारत समेत सभी बड़े देशों में बौद्ध धर्म एक प्रमुख धर्म के रूप में स्वीकृत कर लिया गया.

महात्मा बुद्ध का वास्तविक नाम सिद्धार्थ था किंतु गौतमी द्वारा पाले जाने के कारण उन्हें गौतम भी कहा गया. बुद्धत्व की प्राप्ति के बाद उनके नाम के आगे बुद्ध उपसर्ग जोड़ दिया गया और धीरे-धीरे वे महात्मा बुद्ध के तौर पर प्रख्यात हो गए. गौतम बुद्ध के आदर्शों और बौद्ध धर्म में आस्था रखने वाले लोगों के लिए आज का दिन बेहद खास है. मान्यताओं के अनुसार बैसाख मास की पूर्णिमा के दिन महात्मा बुद्ध पृथ्वी पर अवतरित हुए थे और इसी दिन उन्हें बुद्धत्व के साथ-साथ महापरिनिर्वाण की भी प्राप्ति हुई थी.

महात्मा बुद्ध का जीवन

सिद्धार्थ का जन्म शाक्य गणराज्य की राजधानी कपिलवस्तु के राजा शुद्धोधन के घर हुआ था. जन्म के सात दिन के भीतर ही सिद्धार्थ की मां का निधन हो गया था. उनका पालन पोषण शुद्धोधन की दूसरी रानी महाप्रजावती ने किया. सिद्धार्थ के जन्म के समय ही एक महान साधु नेब यह घोषणा कर दी थी कि यह बच्चा या तो एक महान राजा बनेगा या फिर एक बेहद पवित्र मनुष्य के रूप में अपनी पहचान स्थापित करेगा.

इस भविष्यवाणी को सुनकर राजा शुद्धोधन ने अपनी सामर्थ्य की हद तक सिद्धार्थ को दुःख से दूर रखने की कोशिश की. लेकिन छोटी सी आयु में ही सिद्धार्थ जीवन और मृत्यु की सच्चाई को समझ गए. उन्होंने यह जान लिया कि जिस प्रकार मनुष्य का जन्म लेना एक सच्चाई है उसी प्रकार बुढ़ापा और निधन भी जीवन की कभी ना टलने वाली हकीकत है. संसार की सबसे बड़ी सच्चाई जानने के बाद महात्मा बुद्ध सांसारिक खुशियों और विलासिता भरे जीवन से पूरी तरह विमुख हो गए. राज पाठ के साथ, पत्नी और पुत्र को छोड़कर उन्होंने एक साधु का जीवन अपना लिया !!

बुद्धत्व की प्राप्ति 

दो अन्य ब्राह्मणों के साथ सिद्धार्थ ने अपने भीतर उपज रहे प्रश्नों के हल ढूंढ़ने शुरू किए. लेकिन समुचित ध्यान लगाने और कड़े परिश्रम के बाद भी उन्हें अपने प्रश्नों के हल नहीं मिले. हर बार असफलता हाथ लगने के बाद उन्होंने अपने कुछ साथियों के साथ कठोर तप करने का निर्णय लिया. छ: वर्षों के कठोर तप के बाद भी वह अपने उद्देश्यों को पूरा नहीं कर पाए. इसके बाद उन्होंने कठोर तपस्या छोड़कर आर्य अष्टांग मार्ग, जिसे मध्यम मार्ग भी कहां जाता है, ढूंढ़ निकाला. वह एक पीपल के पेड़ के नीचे बैठ गए और निश्चय किया कि अपने प्रश्नों के उत्तर जाने बिना वह यहां से उठेंगे नहीं. लगभग 49 दिनों तक ध्यान में रहने के बाद उन्हें सर्वोच्च ज्ञान की प्राप्ति हुई और मात्र 35 वर्ष की उम्र में ही वह सिद्धार्थ से महात्मा बुद्ध बन गए!!

ज्ञान की प्राप्ति होने के बाद महात्मा बुद्ध दो व्यापारियों, तपुसा और भलिका, से मिले जो उनके पहले अनुयायी भी बने. वाराणसी के समीप स्थित सारनाथ में उन्होंने अपना पहला धर्मोपदेश दिया !!

बुद्ध का महापरिनिर्वाण 

बौद्ध धर्म से जुड़े साहित्य के अनुसार 80 वर्ष की आयु में महात्मा बुद्ध ने यह घोषित कर दिया था कि बहुत ही जल्द वह महापरिनिर्वाण की अवस्था में पहुंच जाएंगे. इस कथन के बाद महात्मा बुद्ध ने एक लुहार के हाथ से आखिरी निवाला खाया. इसके बाद वह बहुत ज्यादा बीमार हो गए. लुहार को लगा कि उसके हाथ से खाने के कारण महात्मा बुद्ध की यह हालत हुई है इसीलिए महात्मा बुद्ध ने अपने एक अनुयायी को कुंडा नामक लुहार को समझाने भेजा. वैद्य ने भी यह प्रमाणित कर दिया था कि उनका निधन वृद्धावस्था के कारण हुआ है ना कि विशाक्त खाद्य के कारण!!

बौद्ध धर्म की मुख्य-शिक्षा 

सम्यक दृष्टि – सम्यक दृष्टि का अर्थ है कि जीवन में हमेशा सुख-दुख आता रहता है हमें अपने नजरिये को सही रखना चाहिए. अगर दुख है तो उसे दूर भी किया जा सकता है!!

सम्यक संकल्प – इसका अर्थ है कि जीवन में जो काम करने योग्य है, जिससे दूसरों का भला होता है हमें उसे करने का संकल्प लेना चाहिए और ऐसे काम कभी नहीं करने चाहिए जो अन्य लोगों के लिए हानिकारक साबित हो!!

सम्यक वचन – इसका अर्थ यह है कि मनुष्य को अपनी वाणी का सदैव सदुपयोग ही करना चाहिए. असत्य, निंदा और अनावश्यक बातों से बचना चाहिए!!

सम्यक कर्मांत – मनुष्य को किसी भी प्राणी के प्रति मन, वचन, कर्म से हिंसक व्यवहार नहीं करना चाहिए. उसे दुराचार और भोग विलास से दूर रहना चाहिए!!

सम्यक आजीविका – गलत, अनैतिक या अधार्मिक तरीकों से आजीविका प्राप्त नहीं करना!!

सम्यक व्यायाम – बुरी और अनैतिक आदतों को छोडऩे का सच्चे मन से प्रयास करना चाहिए. मनुष्य को सदगुणों को ग्रहण करने के लिए हमेशा तत्पर रहना चाहिए!!

सम्यक स्मृति – इसका अर्थ यह है कि हमें कभी भी यह नहीं भूलना चाहिए कि सांसारिक जीवन क्षणिक और नाशवान है!!

सम्यक समाधि – ध्यान की वह अवस्था जिसमें मन की अस्थिरता, चंचलता, शांत होती है तथा विचारों का अनावश्यक भटकाव रुकता है!!

 

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

 

 

_______Copyright © 2014 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

The Life and Times of Gautama Buddha in Hindi ~ हिन्दी में गौतम बुद्ध के जीवन और समय का विस्तार !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
KMS-2014-51


kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** हिन्दी में गौतम बुद्ध के जीवन और समय का विस्तार **


BUDDHA - KMSRAJ51


gautam-buddha

** सामान्य व्यक्ति से महापुरुष तक का सफर – महात्मा बुद्ध **

buddha --

भारत की पवित्र भूमि पर ऐसे कई महापुरुषों ने जन्म लिया है, जिन्होंने अपने कृत्यों और सिद्धांतों के बल पर मानव जीवन के भीतर छिपे गूढ़ रहस्यों को उजागर किया. इन्हीं में से एक हैं महात्मा बुद्ध, जिन्होंने सामान्य मनुष्य के रूप में जन्म लेकर अध्यात्म की उस ऊंचाई को छुआ जहां तक पहुंचना किसी आम व्यक्ति के लिए मुमकिन नहीं है. ऐसे महान पुरुष के दिखलाए गए मार्ग को लोगों ने एक धर्म के रूप में ग्रहण किया जिसके परिणामस्वरूप भारत समेत सभी बड़े देशों में बौद्ध धर्म एक प्रमुख धर्म के रूप में स्वीकृत कर लिया गया.

महात्मा बुद्ध का वास्तविक नाम सिद्धार्थ था किंतु गौतमी द्वारा पाले जाने के कारण उन्हें गौतम भी कहा गया. बुद्धत्व की प्राप्ति के बाद उनके नाम के आगे बुद्ध उपसर्ग जोड़ दिया गया और धीरे-धीरे वे महात्मा बुद्ध के तौर पर प्रख्यात हो गए. गौतम बुद्ध के आदर्शों और बौद्ध धर्म में आस्था रखने वाले लोगों के लिए आज का दिन बेहद खास है. मान्यताओं के अनुसार बैसाख मास की पूर्णिमा के दिन महात्मा बुद्ध पृथ्वी पर अवतरित हुए थे और इसी दिन उन्हें बुद्धत्व के साथ-साथ महापरिनिर्वाण की भी प्राप्ति हुई थी.


buddha_nature

** महात्मा बुद्ध का जीवन **

सिद्धार्थ का जन्म शाक्य गणराज्य की राजधानी कपिलवस्तु के राजा शुद्धोधन के घर हुआ था. जन्म के सात दिन के भीतर ही सिद्धार्थ की मां का निधन हो गया था. उनका पालन पोषण शुद्धोधन की दूसरी रानी महाप्रजावती ने किया. सिद्धार्थ के जन्म के समय ही एक महान साधु नेब यह घोषणा कर दी थी कि यह बच्चा या तो एक महान राजा बनेगा या फिर एक बेहद पवित्र मनुष्य के रूप में अपनी पहचान स्थापित करेगा.

इस भविष्यवाणी को सुनकर राजा शुद्धोधन ने अपनी सामर्थ्य की हद तक सिद्धार्थ को दुःख से दूर रखने की कोशिश की. लेकिन छोटी सी आयु में ही सिद्धार्थ जीवन और मृत्यु की सच्चाई को समझ गए. उन्होंने यह जान लिया कि जिस प्रकार मनुष्य का जन्म लेना एक सच्चाई है उसी प्रकार बुढ़ापा और निधन भी जीवन की कभी ना टलने वाली हकीकत है. संसार की सबसे बड़ी सच्चाई जानने के बाद महात्मा बुद्ध सांसारिक खुशियों और विलासिता भरे जीवन से पूरी तरह विमुख हो गए. राज पाठ के साथ, पत्नी और पुत्र को छोड़कर उन्होंने एक साधु का जीवन अपना लिया !!


Cosmic_Buddha

** बुद्धत्व की प्राप्ति **

दो अन्य ब्राह्मणों के साथ सिद्धार्थ ने अपने भीतर उपज रहे प्रश्नों के हल ढूंढ़ने शुरू किए. लेकिन समुचित ध्यान लगाने और कड़े परिश्रम के बाद भी उन्हें अपने प्रश्नों के हल नहीं मिले. हर बार असफलता हाथ लगने के बाद उन्होंने अपने कुछ साथियों के साथ कठोर तप करने का निर्णय लिया. छ: वर्षों के कठोर तप के बाद भी वह अपने उद्देश्यों को पूरा नहीं कर पाए. इसके बाद उन्होंने कठोर तपस्या छोड़कर आर्य अष्टांग मार्ग, जिसे मध्यम मार्ग भी कहां जाता है, ढूंढ़ निकाला. वह एक पीपल के पेड़ के नीचे बैठ गए और निश्चय किया कि अपने प्रश्नों के उत्तर जाने बिना वह यहां से उठेंगे नहीं. लगभग 49 दिनों तक ध्यान में रहने के बाद उन्हें सर्वोच्च ज्ञान की प्राप्ति हुई और मात्र 35 वर्ष की उम्र में ही वह सिद्धार्थ से महात्मा बुद्ध बन गए!!

ज्ञान की प्राप्ति होने के बाद महात्मा बुद्ध दो व्यापारियों, तपुसा और भलिका, से मिले जो उनके पहले अनुयायी भी बने. वाराणसी के समीप स्थित सारनाथ में उन्होंने अपना पहला धर्मोपदेश दिया !!


** बुद्ध का महापरिनिर्वाण **

बौद्ध धर्म से जुड़े साहित्य के अनुसार 80 वर्ष की आयु में महात्मा बुद्ध ने यह घोषित कर दिया था कि बहुत ही जल्द वह महापरिनिर्वाण की अवस्था में पहुंच जाएंगे. इस कथन के बाद महात्मा बुद्ध ने एक लुहार के हाथ से आखिरी निवाला खाया. इसके बाद वह बहुत ज्यादा बीमार हो गए. लुहार को लगा कि उसके हाथ से खाने के कारण महात्मा बुद्ध की यह हालत हुई है इसीलिए महात्मा बुद्ध ने अपने एक अनुयायी को कुंडा नामक लुहार को समझाने भेजा. वैद्य ने भी यह प्रमाणित कर दिया था कि उनका निधन वृद्धावस्था के कारण हुआ है ना कि विशाक्त खाद्य के कारण!!

bbuddha

** बौद्ध धर्म की मुख्य-शिक्षा **

=> सम्यक दृष्टि – सम्यक दृष्टि का अर्थ है कि जीवन में हमेशा सुख-दुख आता रहता है हमें अपने नजरिये को सही रखना चाहिए. अगर दुख है तो उसे दूर भी किया जा सकता है!!

=> सम्यक संकल्प – इसका अर्थ है कि जीवन में जो काम करने योग्य है, जिससे दूसरों का भला होता है हमें उसे करने का संकल्प लेना चाहिए और ऐसे काम कभी नहीं करने चाहिए जो अन्य लोगों के लिए हानिकारक साबित हो!!

=> सम्यक वचन – इसका अर्थ यह है कि मनुष्य को अपनी वाणी का सदैव सदुपयोग ही करना चाहिए. असत्य, निंदा और अनावश्यक बातों से बचना चाहिए!!

=> सम्यक कर्मांत – मनुष्य को किसी भी प्राणी के प्रति मन, वचन, कर्म से हिंसक व्यवहार नहीं करना चाहिए. उसे दुराचार और भोग विलास से दूर रहना चाहिए!!

=> सम्यक आजीविका – गलत, अनैतिक या अधार्मिक तरीकों से आजीविका प्राप्त नहीं करना!!

=> सम्यक व्यायाम – बुरी और अनैतिक आदतों को छोडऩे का सच्चे मन से प्रयास करना चाहिए. मनुष्य को सदगुणों को ग्रहण करने के लिए हमेशा तत्पर रहना चाहिए!!

=> सम्यक स्मृति – इसका अर्थ यह है कि हमें कभी भी यह नहीं भूलना चाहिए कि सांसारिक जीवन क्षणिक और नाशवान है!!

=> सम्यक समाधि – ध्यान की वह अवस्था जिसमें मन की अस्थिरता, चंचलता, शांत होती है तथा विचारों का अनावश्यक भटकाव रुकता है!!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
kms1006


Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

 

$===== ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. =====$

 

बीती ताही बिसार दे, आगे की सुधि लेय।

Kmsraj51 की कलम से…..

Kmsraj51-CYMT09

बीती ताही बिसार दे, आगे की सुधि लेय।

http://kmsraj51.com/

बीती ताही बिसार दे, आगे की सुधि लेय।

तारीखें बदलती हैं, साल बदलते हैं, किन्तु वक्त के इस बदलाव में सपने नही बदलते, आशाएं नही बदलती। आगे बढने की चाह कभी कमजोर नही होती। यही सोच विकास को मजबूती देती है। गतिमान समय के साथ अक्सर धूप के बीच बादल रूपी परेशानियाँ या असफलताएं भी अपने होने का एहसास करा देती हैं। कई बार ऐसा देखा जाता है कि इन क्षणिंक असफलताओं से हम में से कई लोग घबङा जाते हैं, जिसका असर आने वाले पल पर भी पढता है।

सच तो ये है कि, सभी परिस्थितियाँ कुछ न कुछ सबक दे कर जाती हैं। बदलती तारीखों के साथ प्रत्येक क्षेत्र में कुछ न कुछ बदलाव भी होता रहता है। जो समाज के विकास में भी जरूरी हैं। बहुत पहले डार्विन ने एक सिद्धान्त प्रतिपादित किया था कि, जो जीव परिस्थिती के अनुरूप अपने को ढाल लिये वही सरवाइव किये। ये सिद्धान्त आज की भागदौङ और तनाव भरी जिंदगी में अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि आज वही सरवाइव कर सकता है जो नए माहौल के अनुरूप स्वंय को ढाल लेता है। जिंदगी की इस रेस में हम कई बार जीतते हैं तो कई बार हार भी जाते हैं। लेकिन यदि हम अपना दिमाग खुला रखें तो हर अनुभव हमें समृद्ध बनाता है।

आजकल एक बङी समस्या ये भी है कि, प्रेम में असफल युवा अपनी इस असफलता को जिंदगी की हार समझ लेते हैं। जबकि उनके पास अनेक ऐसी क्षमताएं होती हैं, जिससे वे नया इतिहास रच सकते हैं। उन युवकों को ये समझना चाहिए कि आधुनिक तकनिकों से लैस 21वीं सदी हीर-रांझा या लैला-मजनू का समय नही है। आज ‘टू मिनट नूडल्स’ की दुनिया में प्रेम भी शार्ट टर्म कोर्स की तरह हो गया है। फेसबुक, ट्यूटर, वाट्सअप जैसे नवीन संचार साधनो के जमाने में भावनात्मक ताने-बाने को ढूंढना किसी मूर्खता से कम नही है। आज दोस्ती, कल ब्रेकअप वाले रिश्तों की यादों में स्वंय को समेटना और जिंदगी के किमती पलों को दुश्वर बनाना किसी आत्महत्या से कम नही है।

तारीखों के बदलते ही जो यादें या डर विकास की राह में बाधा पहुँचाए उन्हे अपनी मेमोरीकार्ड से डीलिट कर देना चाहिए। अर्थात “बीती ताही बिसार दे आगे की सुधि लेय”। खाली हुए स्पेस में सकारात्मक विचारों को सेव(Save) कर लेना चाहिए। इन सकारात्मक विचारों से ही डर पे जीत हासिल होती है। मन में ये संकल्प करें कि सकारात्मक हौसले की उङान से मंजिल तय करेंगे। दोस्तों, यकीनन किसी हाई वे पर हँसती खेलती जिंदगी आप का इंतजार करती मिल जायेगी।

धन्यवाद,
अनीता शर्मा जी।

श्रीमती -अनीता शर्मा जी। (http://roshansavera.blogspot.in/)

I am grateful to Mrs. Anita Sharma Ji, for sharing inspirational thoughts in Hindi with Kmsraj51 readers.

एक अपील –

आज कई दृष्टीबाधित बच्चे अपने हौसले से एवं ज्ञान के बल पर अपने भविष्य को सुनहरा बनाने का प्रयास कर रहे हैं। कई दृष्टीबाधित बच्चे तो शिक्षा के माधय्म से अध्यापक पद पर कार्यरत हैं। उनके आत्मनिर्भर बनने में शिक्षा का एवं आज की आधुनिक तकनिक का विशेष योगदान है। आपका साथ एवं नेत्रदान का संकल्प कई दृष्टीबाधित बच्चों के जीवन को रौशन कर सकता है। मेरा प्रयास शिक्षा के माध्यम से दृष्टीबाधित बच्चों को आत्मनिर्भर बनाना है। इस प्रयोजन हेतु, ईश कृपा से एवं परिवार के सहयोग से कुछ कार्य करने की कोशिश कर रहे हैं जिसको YouTube पर “audio for blind by Anita Sharma” लिख कर देखा जा सकता है।

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

 

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

http://wp.me/p3gkW6-1dk

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

http://wp.me/p3gkW6-mn

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

http://wp.me/p3gkW6-1dD

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

http://wp.me/p3gkW6-Ig

* चांदी की छड़ी।

http://wp.me/p3gkW6-1ep

 

 

_______Copyright © 2014 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

गौतम बुद्ध के जीवन और समय का विस्तार।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMY-KMSRAJ51-N

गौतम बुद्ध के जीवन और समय का विस्तार।

BUDDHA - KMSRAJ51


gautam-buddha

सामान्य व्यक्ति से महापुरुष तक का सफर – महात्मा बुद्ध।

buddha --

भारत की पवित्र भूमि पर ऐसे कई महापुरुषों ने जन्म लिया है, जिन्होंने अपने कृत्यों और सिद्धांतों के बल पर मानव जीवन के भीतर छिपे गूढ़ रहस्यों को उजागर किया। इन्हीं में से एक हैं महात्मा बुद्ध।

जिन्होंने सामान्य मनुष्य के रूप में जन्म लेकर अध्यात्म की उस ऊंचाई को छुआ जहां तक पहुंचना किसी आम व्यक्ति के लिए मुमकिन नहीं है। ऐसे महान पुरुष के दिखलाए गए मार्ग को लोगों ने एक धर्म के रूप में ग्रहण किया जिसके परिणामस्वरूप भारत समेत सभी बड़े देशों में बौद्ध धर्म एक प्रमुख धर्म के रूप में स्वीकृत कर लिया गया।

महात्मा बुद्ध का वास्तविक नाम सिद्धार्थ था, किंतु गौतमी द्वारा पाले जाने के कारण उन्हें गौतम भी कहा गया। बुद्धत्व की प्राप्ति के बाद उनके नाम के आगे बुद्ध उपसर्ग जोड़ दिया गया और धीरे-धीरे वे महात्मा बुद्ध के तौर पर प्रख्यात हो गए।

गौतम बुद्ध के आदर्शों और बौद्ध धर्म में आस्था रखने वाले लोगों के लिए आज का दिन बेहद खास है। मान्यताओं के अनुसार बैसाख मास की पूर्णिमा के दिन महात्मा बुद्ध पृथ्वी पर अवतरित हुए थे, और इसी दिन उन्हें बुद्धत्व के साथ-साथ महापरिनिर्वाण की भी प्राप्ति हुई थी।

buddha_nature

महात्मा बुद्ध का जीवन।

सिद्धार्थ का जन्म शाक्य गणराज्य की राजधानी कपिलवस्तु के राजा शुद्धोधन के घर हुआ था। जन्म के सात दिन के भीतर ही सिद्धार्थ की मां का निधन हो गया था। उनका पालन पोषण शुद्धोधन की दूसरी रानी महाप्रजावती ने किया।

सिद्धार्थ के जन्म के समय ही एक महान साधु नेब यह घोषणा कर दी थी कि यह बच्चा या तो एक महान राजा बनेगा या फिर एक बेहद पवित्र मनुष्य के रूप में अपनी पहचान स्थापित करेगा।

इस भविष्यवाणी को सुनकर राजा शुद्धोधन ने अपनी सामर्थ्य की हद तक सिद्धार्थ को दुःख से दूर रखने की कोशिश की। लेकिन छोटी सी आयु में ही सिद्धार्थ जीवन और मृत्यु की सच्चाई को समझ गए।

उन्होंने यह जान लिया कि जिस प्रकार मनुष्य का जन्म लेना एक सच्चाई है उसी प्रकार बुढ़ापा और निधन भी जीवन की कभी ना टलने वाली हकीकत है। संसार की सबसे बड़ी सच्चाई जानने के बाद महात्मा बुद्ध सांसारिक खुशियों और विलासिता भरे जीवन से पूरी तरह विमुख हो गए। राज पाठ के साथ, पत्नी और पुत्र को छोड़कर उन्होंने एक साधु का जीवन अपना लिया।

Cosmic_Buddha

बुद्धत्व की प्राप्ति।

दो अन्य ब्राह्मणों के साथ सिद्धार्थ ने अपने भीतर उपज रहे प्रश्नों के हल ढूंढ़ने शुरू किए। लेकिन समुचित ध्यान लगाने और कड़े परिश्रम के बाद भी उन्हें अपने प्रश्नों के हल नहीं मिले। हर बार असफलता हाथ लगने के बाद उन्होंने अपने कुछ साथियों के साथ कठोर तप करने का निर्णय लिया।

छ: वर्षों के कठोर तप के बाद भी वह अपने उद्देश्यों को पूरा नहीं कर पाए। इसके बाद उन्होंने कठोर तपस्या छोड़कर आर्य अष्टांग मार्ग, जिसे मध्यम मार्ग भी कहां जाता है, ढूंढ़ निकाला।

वह एक पीपल के पेड़ के नीचे बैठ गए और निश्चय किया कि अपने प्रश्नों के उत्तर जाने बिना वह यहां से उठेंगे नहीं। लगभग 49 दिनों तक ध्यान में रहने के बाद उन्हें सर्वोच्च ज्ञान की प्राप्ति हुई और मात्र 35 वर्ष की उम्र में ही वह सिद्धार्थ से महात्मा बुद्ध बन गए।

ज्ञान की प्राप्ति होने के बाद महात्मा बुद्ध दो व्यापारियों, तपुसा और भलिका, से मिले जो उनके पहले अनुयायी भी बने। वाराणसी के समीप स्थित सारनाथ में उन्होंने अपना पहला धर्मोपदेश दिया।

बुद्ध का महापरिनिर्वाण।

बौद्ध धर्म से जुड़े साहित्य के अनुसार 80 वर्ष की आयु में महात्मा बुद्ध ने यह घोषित कर दिया था कि बहुत ही जल्द वह महापरिनिर्वाण की अवस्था में पहुंच जाएंगे। इस कथन के बाद महात्मा बुद्ध ने एक लुहार के हाथ से आखिरी निवाला खाया।

इसके बाद वह बहुत ज्यादा बीमार हो गए। लुहार को लगा कि उसके हाथ से खाने के कारण महात्मा बुद्ध की यह हालत हुई है इसीलिए महात्मा बुद्ध ने अपने एक अनुयायी को कुंडा नामक लुहार को समझाने भेजा। वैद्य ने भी यह प्रमाणित कर दिया था कि उनका निधन वृद्धावस्था के कारण हुआ है ना कि विशाक्त खाद्य के कारण।

bbuddha

बौद्ध धर्म की मुख्य-शिक्षा।

सम्यक दृष्टि – सम्यक दृष्टि का अर्थ है कि जीवन में हमेशा सुख-दुख आता रहता है हमें अपने नजरिये को सही रखना चाहिए। अगर दुख है तो उसे दूर भी किया जा सकता है।

सम्यक संकल्प – इसका अर्थ है कि जीवन में जो काम करने योग्य है, जिससे दूसरों का भला होता है हमें उसे करने का संकल्प लेना चाहिए और ऐसे काम कभी नहीं करने चाहिए जो अन्य लोगों के लिए हानिकारक साबित हो।

सम्यक वचन – इसका अर्थ यह है कि मनुष्य को अपनी वाणी का सदैव सदुपयोग ही करना चाहिए। असत्य, निंदा और अनावश्यक बातों से बचना चाहिए।

सम्यक कर्मांत – मनुष्य को किसी भी प्राणी के प्रति मन, वचन, कर्म से हिंसक व्यवहार नहीं करना चाहिए। उसे दुराचार और भोग विलास से दूर रहना चाहिए।

सम्यक आजीविका – गलत, अनैतिक या अधार्मिक तरीकों से आजीविका प्राप्त नहीं करना।

सम्यक व्यायाम – बुरी और अनैतिक आदतों को छोडऩे का सच्चे मन से प्रयास करना चाहिए. मनुष्य को सदगुणों को ग्रहण करने के लिए हमेशा तत्पर रहना चाहिए।

सम्यक स्मृति – इसका अर्थ यह है कि हमें कभी भी यह नहीं भूलना चाहिए कि सांसारिक जीवन क्षणिक और नाशवान है।

सम्यक समाधि – ध्यान की वह अवस्था जिसमें मन की अस्थिरता, चंचलता, शांत होती है तथा विचारों का अनावश्यक भटकाव रुकता है।

Please Share your comment`s.

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

No-1 CYMT-KMSRAJ51

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

 ~KMSRAJ51

_______Copyright © 2015 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक ~ Useful Internet Links !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

KMS-2014-51

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक ~ Useful Internet Links !!**


महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक
Useful Links
________________________________________
• परमाणु ऊर्जा विभाग
• भारत सरकार
• हिन्दी फोन्ट, हिन्दी साफ्टवेयर, राजभाषा विभाग
• विश्वविद्यालय
• केन्द्रीय विश्वविद्यालय
• फर्जी विश्वविद्यालयों की सूची
• स्कूल/विद्यालयीन शिक्षा
• तकनीकी शिक्षा विभाग
• छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
• राष्ट्रीय विज्ञान केन्द्र
• विज्ञान अकादमी
• हिन्दी भाषा में कार्यरत संस्थाएं
• शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाएं/गैर सरकारी संगठन (NGO)
• हिन्दी विज्ञान/साहित्यिक पत्रिकाएँ
• हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (Hindi Wikipedia)
• विविध रोचक एवं उपयोगी लिंक

परमाणु ऊर्जा विभाग
परमाणु ऊर्जा विभाग
http://www.dae.gov.in

भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र मुम्बई
http://www.barc.gov.in/

परमाणु ऊर्जा शिक्षण संस्था
http://www.aees.gov.in

टाटा मूलभूत अनुसंधान केंद्र मुम्बई
http://www.tifr.res.in

School of Mathematics, TIFR Mumbai
http://www.math.tifr.res.in

School of Natural Sciences, TIFR Mumbai
http://www.tifr.res.in/~vsrp/links/links.htm

School of Technology and Computer Science, TIFR Mumbai
http://www.tcs.tifr.res.in

Graduate Studies, TIFR Mumbai
http://univ.tifr.res.in

National Centre for Biological Science, Bangalore
http://www.ncbs.res.in

National Centre for Radio Astrophysics, Pune
http://ncra.tifr.res.in

International Centre for Theoretical Science, TIFR Mumbai
http://www.icts.res.in

होमी भाभा विज्ञान शिक्षा केन्द्र, मुम्बई
http://www.hbcse.tifr.res.in

National Initiative on Undergraduate Science (NIUS), HBCSE Mumbai
http://nius.hbcse.tifr.res.in/

होमी भाभा प्राथमिक विज्ञान पाठ्यक्रम
http://coglab.hbcse.tifr.res.in

विज्ञान ओलम्पियाड, मुम्बई
http://olympiads.hbcse.tifr.res.in/

भारत सरकार
भारत सरकार
http://goidirectory.nic.in/

भारत का राष्ट्रीय पोर्टल
http://india.gov.in

भारत विकास प्रवेशद्वार
http://www.indg.gov.in

विदेश मंत्रालय
http://meahindi.nic.in

हिन्दी फोन्ट, हिन्दी सॉफ्टवेयर, राजभाषा विभाग
राजभाषा विभाग भारत सरकार
http://rajbhasha.gov.in

भारतीय भाषाऔं के लिये प्रौद्योगिकी विकास (फोन्ट एवं साफ्टवेयर)
http://ildc.in

सूचना प्रौद्योगिकी विभाग
http://deity.gov.in/content/about-dit

प्रगत संगणन विकास केन्द्र
http://www.cdac.in/

डाउनलोड हिन्दी फोन्ट
http://www.wazu.jp/gallery/Fonts_Devanagari.html
http://www.ffonts.net/Hindi.html
http://devanaagarii.net/fonts/

डाउनलोड यूनिकोड हिन्दी फोन्ट
http://salrc.uchicago.edu/resources/fonts/available/hindi/
http://www.alanwood.net/unicode/fonts.html#devanagari

माईक्रोसॉफ्ट भाषा इण्डिया
http://www.bhashaindia.com/ilit/Hindi.aspx

फॉण्ट परिवर्तक
http://www.kavitakosh.org/convertfonts

वेबदुनिया का ‘डेटा कनवर्टर – यहाँ सैकड़ों फॉन्ट से यूनिकोड में बदलने की आनलाइन सुविधा है
http://utilities.webdunia.com/dataconversion.php

सम्पूर्ण फाइल (.txt) के फोण्ट को यूनिकोड फोण्ट में बदलने हेतु
http://uni.medhas.org/fileconverterindex.php5

ओपन आफिस में हिन्दी वर्तनी जाँचक (Spell Check) संस्थापित करने हेतु मार्गदर्शन
http://raviratlami.blogspot.com/2006/10/blog-post_07.html

विश्वविद्यालय
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC)
http://www.ugc.ac.in

नकली विश्वविद्यालय की राज्यवार सूची
http://www.ugc.ac.in/page/Fake-Universities.aspx

भारतीय विश्वविद्यालय संघ (AIU)
http://www.aiuweb.org/Members/MembersA.asp

इंदिरा गाँधी राष्ट्रिय मुक्त विश्वविद्यालय
http://www.ignou.ac.in

मुक्त विश्वविद्यालयों/संस्थानों की सूची
http://www.dec.ac.in/Institutions.doc
http://mhrd.gov.in/state_open

दूरस्थ शिक्षा परिषद (Distance Education Council)
http://www.dec.ac.in

उच्चतर शिक्षा विभाग
http://mhrd.gov.in/higher_education

राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन विश्वविद्यालय
http://www.nuepa.org

केन्द्रीय विश्वविद्यालय
केन्द्रीय विश्व विद्यालय सूची
http://mhrd.gov.in/central_univ_eng_11

इलाहाबाद विश्वविद्यालय, इलाहाबाद, उ.प्र.
http://www.allduniv.ac.in

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़
http://www.amu.ac.in

असम विश्वविद्यालय, सिलचर
http://www.aus.ac.in/

अंग्रेजी एवं विदेशी भाषाऐं विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.efluniversity.ac.in

बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय, लखनऊ, उ.प्र.
http://www.bbau.ac.in/

बनारस (काशी) हिन्दु विश्वविद्यालय, बनारस, उ.प्र.
http://www.bhu.ac.in

दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली
http://www.du.ac.in

हैदराबाद विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.uohyd.ac.in/

जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
http://jmi.ac.in/

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
http://www.jnu.ac.in

महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा, महाराष्ट्र
http://www.hindivishwa.org

मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.manuu.ac.in

मणिपुर विश्वविद्यालय, इम्फाल, मणिपुर
http://manipuruniv.ac.in

मिजोरम विश्वविद्यालय, आइजॉल, मिजोरम
http://www.mzu.edu.in

नागालैण्ड विश्वविद्यालय, कोहिमा, नागालैण्ड
http://www.nagauniv.org.in

नोर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी, शिलांग, मेघालय
http://www.nehu.ac.in

पांडिचेरी विश्वविद्यालय, पांडिचेरी
http://www.pondiuni.edu.in/

राजीव गांधी विश्वविद्यालय, ईटानगर, अरूणाचल प्रदेश
http://www.rgu.ac.in

सिक्किम विश्वविद्यालय, गंगटोक, सिक्किम
http://www.sikkimuniversity.in/webforms/Index.aspx

तेजपुर विश्वविद्यालय, नापाम, तेजपुर, असम
http://www.tezu.ernet.in

त्रिपुरा विश्वविद्यालय, सूर्यमणिनगर, त्रिपुरा (पश्चिम)
http://www.tripurauniv.in/

विश्व भारती, बिरभुम, पश्चिम बंगाल
http://www.visva-bharati.ac.in

डॉ. हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर, म.प्र.
http://www.dhsgsu.ac.in/

गुरु घासीदास विश्वविद्यालय, बिलासपुर, छत्तीसगढ़
http://www.ggu.ac.in

हेमवती नन्दन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्रीनगर, उत्तराखण्ड
http://hnbgu.ac.in/

फर्जी विश्वविद्यालयों की सूची
नकली विश्वविद्यालय की राज्यवार सूची
http://www.ugc.ac.in/page/Fake-Universities.aspx

स्कूल/विद्यालयीन शिक्षा
स्कूल रिपोर्ट कार्ड
http://schoolreportcards.in

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग
http://mhrd.gov.in/schooleducation

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड
http://cbse.nic.in

केन्द्रीय विद्यालय संगठन
http://kvsangathan.nic.in

नवोदय विद्यालय समिति
http://www.navodaya.nic.in/

परमाणु ऊर्जा शिक्षण संस्था
http://www.aees.gov.in

तकनीकी शिक्षा विभाग
तकनीकी शिक्षा
http://mhrd.gov.in/technical_edu_hindi

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद
http://www.aicte-india.org/

छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
राष्ट्रीय प्रतिभा खोज (National Talent Search)
http://www.ncert.nic.in/programmes/talent_exam/index_talent.html

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (KVPY)
http://www.kvpy.org.in

छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
http://education.nic.in/scholarship/scholarship.asp

J N Tata Endowment (विदेश में उच्च शिक्षा के लिए)
http://www.dorabjitatatrust.org

CENTRE FOR THE STUDY OF CULTURE AND SOCIETY
http://cscs.res.in/fellowships

भारत की अन्य छात्रवृत्तियों की सूची
http://www.scholarshipsinindia.com/
http://www.dst.gov.in/whats_new/advertisements.htm

सर रतन टाटा ट्रस्ट
http://www.srtt.org

राष्ट्रीय विज्ञान केन्द्र
राष्ट्रीय विज्ञान संचार एवं सूचना स्रोत संस्थान (NISCAIR)
http://www.niscair.res.in

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST)
http://dst.gov.in

विज्ञान प्रसार
http://www.vigyanprasar.gov.in/sitenew/

विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी राष्ट्रीय परिषद (NCSTC)
http://dst.gov.in/scientific-programme/s-t_ncstc.htm

राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद (National Council of Science Museums)
http://www.ncsm.gov.in

विज्ञान अकादमी
भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, नई दिल्ली
http://insaindia.org/index.php

भारतीय विज्ञान अकादमी, बेंगलौर
http://www.ias.ac.in

राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, इलाहाबाद
http://nasi.nic.in

हिन्दी भाषा में कार्यरत संस्थाएं
केंद्रीय हिन्दी संस्थान, अगरा
http://www.hindisansthan.org/hi/index.htm

राष्ट्रीय अनुवाद मिशन, मैसूर
http://www.ntm.org.in

भारतीय भाषा संस्थान, मैसूर
http://www.ciil.org

शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाएं/गैर सरकारी संगठन (NGO)
एकलव्य
http://eklavya.in

नवनिर्मिति

http://www.navnirmiti.org

दिगंतर
http://www.digantar.org

विक्रम ए साराभाई कम्मुनिटी साइंस सेंटर
http://www.vascsc.org

सर दोराबजी टाटा ट्रस्ट
http://www.dorabjitatatrust.org/

ईस्ट एण्ड वेस्ट एजुकेशनल सोसायटी
http://www.eastwestindia.org

प्रथम
http://www.pratham.org/

अक्षरा
http://www.akshara.org.in/

अजीम प्रेमजी फॉउण्डेशन
http://www.azimpremjifoundation.org/

सेन्टर फॉर एन्वायरमेन्ट एजुकेशन
http://www.ceeindia.org/cee/index.html

मुस्कान
http://www.muskan.org/

idiscoveri
http://www.idiscoveri.com/

मराठी विज्ञान परिषद्
http://www.mavipamumbai.org/

कृष्णमूर्ती फॉउण्डेशन
http://www.kfionline.org/

सेन्टर फॉर लर्निंग
http://www.cfl.in/

Jidnyasa Trust Thane
http://www.jidnyasa.org.in/

ग्राम मंगल
http://www.grammangal.org/

EnviroVigil
http://envirovigil.org/Homepage.html

डोरस्टेप स्कूल
http://www.doorstepschool.org/

विज्ञान आश्रम
http://www.vigyanashram.com/

अगस्तय फॉउन्डेशन
http://www.agastya.org/

नवनिर्मिति
http://www.navnirmiti.org/

मुक्त आंगन विज्ञान शोधिका (पुलस्तय) IUCAA’s Children’s Science Centre
http://www.iucaa.ernet.in/~scipop/Pulastya/index.html

विनिमय
http://www.vinimaytrust.org/

हिन्दी विज्ञान/साहित्यिक पत्रिकाएँ
कविता कोश
http://www.kavitakosh.org/kk/index.php?title=कविता_कोश_मुखपृष्ठ

संदर्भ – शिक्षा की त्रैमासिक पत्रिका (एकलव्य)
http://www.eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=51&Itemid=72

स्रोत (एकलव्य)
http://eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=56&Itemid=81

चकमक (एकलव्य)
http://eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=57&Itemid=84

भारत-दर्शन, हिन्दी साहित्यिक पत्रिका
http://www.bharatdarshan.co.nz

वागर्थ हिन्दी मासिक पत्रिका
http://www.bharatiyabhashaparishad.com

अनुभूति
http://www.anubhuti-hindi.org

अभिव्यक्ति
http://www.abhivyakti-hindi.org

अन्यथा
http://www.anyatha.com

हिन्दी नेस्ट डॉट कॉम
http://hindinest.com

शिक्षा विमर्श
http://www.digantar.org/vimarsh

हिन्दी चेतना (कनाडा)
http://www.vibhom.com

गीता-कविता
http://www.geeta-kavita.com/Default.asp

हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (Hindi Wikipedia)
हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://hi.wikipedia.org/wiki/मुखपृष्ठ

हिन्दी विकि-शब्दकोश
http:hi.wiktionary.org/wiki/मुख्य_पृष्ठ

इंटरनेट पर हिन्दी के साधन
http://hi.wikipedia.org/wiki/इंटरनेट_पर_हिन्दी_के_साधन

हिन्दी वेब साइट की सूची
http://hi.wikipedia.org/wiki/हिन्दी_में_वैब_साइट्स_की_एक_सूची

देवनागरी में कैसे टाइप करें
http://hi.wikipedia.org/wiki/विकिपीडिया:देवनागरी_में_कैसे_टाइप_करें

इन्टरनेट पर स्थित हिन्दी पत्रिकाएँ
http://hi.wikipedia.org/wiki/अन्तरजाल_पर_स्थित_हिन्दी_पत्रिकाएँ

ऑन लाइन हिन्दी समाचार पत्र
http://hi.wikipedia.org/wiki/अन्तरजालीय_हिन्दी_समाचार_स्थल

विविध रोचक एवं उपयोगी लिंक
सौर मण्डल का त्रि-आयामी एवं इन्टरैक्टिव मॉडल
http://www.solarsystemscope.com

भोजपुरी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://bh.wikipedia.org/wiki/पहिलका_पन्ना

मराठी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://mr.wikipedia.org/wiki/मुखपृष्ठ

ऑन लाइन हिन्दी कीबोर्ड
http://swecha.org/input/index.html

ऑन लाइन हिन्दी कीबोर्ड
http://www.google.com/intl/hi/inputtools/cloud/try/

ऑन स्क्रीन हिन्दी कीबोर्ड
http://labs.google.co.in/keyboards/hindi.html

ऑन लाइन अनुवाद के लिए
http://www.google.co.in/language_tools?hl=en
http://www.mantra-rajbhasha.cdac.in/mantrarajbhasha/

रोजगार समाचार
http://www.employmentnews.gov.in

राजभाषा.काम
http://www.rajbhasha.com

वेब दुनिया
http://hindi.webdunia.com

भारत कोश
http://hi.bharatdiscovery.org


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
kms1006

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

@@@@@ ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. @@@@@

विवेकानंद क्या चाहते थे? ~ Vivekananda wanted to do?

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** विवेकानंद क्या चाहते थे? ~ Vivekananda wanted to do? **

Swami-Vivekananda

शिकागो में हुए पार्लियामेंट ऑफ रिलीजन्स में जब प्रत्येक धर्मावलंबी अपने-अपने धर्म को दूसरे धर्म से ऊपर दिखाने की चेष्टा कर रहा था तब विवेकानंद ने उनके इस शीतयुद्ध का निवारण एक छोटी-सी परंतु महत्वपूर्ण कहानी के द्वारा किया।

Swami Vivekanand Ji


बात 1867 की है। एक ट्यूटर उन दिनों कोलकाता के गौर मोहन मुखर्जी लेन स्थित मकान पर एक बालक को रोज पढ़ाने आते थे। तब न तो उन ट्यूटर को तथा न ही किसी अन्य को पता था कि यही बालक एक दिन विश्व-धर्म का प्रचार करेगा और युवा चेतना का एक अंतरराष्ट्रीय प्रतीक बनेगा। वैसे इस बालक की माता भुवनेश्वरी देवी को तब ही आभास हो चुका था, जब यह बालक उनकी कोख में पल रहा था कि यह संतान विश्व कल्याण के लिए ही उत्पन्न होगी। बचपन में इस बालक का नाम था नरेंद्रनाथ दत्त।

नरेंद्र के पिताजी अंगरेजी शिक्षा में दीक्षित, उदार, पश्चिमपरक तथा एक संपन्न वकील थे। धर्म के प्रति उनकी आस्था कम ही थी। इसके विपरीत नरेंद्र की मां सनातन आस्थाओं वाली धर्मपरायण महिला थी। पिता चाहते थे कि नरेंद्र भी उन्हीं का व्यवसाय अपनाकर जीवनयापन करे और इसी तारतम्य में उन्होंने उसे प्रेसीडेंसी कॉलेज तथा स्कॉटिश चर्च कॉलेज से स्नातक (बीए) करवाया। आगे उन्होंने कानून की पढ़ाई भी प्रारंभ कर दी थी, परंतु युवावस्था से ही उन्हें ‘ईश्वर की खोज’ की भी धुन सवार हो गई थी। यही धुन उन्हें एक प्रतिष्ठित वकील बनने की बजाय स्वामी रामकृष्ण परमहंस तक ले गई।

कालांतर में परमहंस के मुख्य शिष्य के रूप में संन्यास लेकर नरेंद्र ने विवेकानंद नाम ग्रहण किया। इसके पश्चात प्रारंभ हुई एक युवा की क्रांति अलख, जो डेढ़-दो दशक तक खोज, साधना, देशाटन, देशप्रेम आदि के रूप में गुजरते हुए समय से पूर्व अल्पकाल में बुझ गई, परंतु अपने पीछे छोड़ गई एक अनमोल धरोहर, एक परिवर्तन की, विश्व बंधुत्व की। यही क्रांति अलख पिछली एक शताब्दी से प्रत्येक युवा पीढ़ी के मार्गदर्शन व उत्प्रेरक का कार्य करती आ रही है। सबसे अधिक आश्चर्य की बात तो यह है कि जहाँ सौ वर्ष पुरानी अन्य बातें, पहलू व चीजें आज के दौर में लगभग अप्रासंगिक हो चुकी हैं, वहीं विवेकानंद का दर्शन न केवल आज भी उतना ही प्रासंगिक है वरन उस समय से भी आज ज्यादा सार्थक है।

आज हम कितने ही उन्नत होने के बावजूद आंतरिक रूप से खोखले होते जा रहे हैं। जाति, भाषा के आधार पर वैमनस्य, गिरते नैतिक प्रजातांत्रिक मूल्य तथा संस्कृति में हो रहे विराट व अटपटे परिवर्तन से निपटने के लिए अब पुनः युवा शक्ति को जागृत होना होगा। उसकी इस राह में स्वामी विवेकानंद का शाश्वत राष्ट्रवादी व देशप्रेमयुक्त अध्यात्म कारगर सिद्ध हो सकता है।

सन्‌ 1893 में शिकागो में हुए पार्लियामेंट ऑफ रिलीजन्स (धर्म संसद) में जब प्रत्येक धर्मावलंबी अपने-अपने धर्म को दूसरे धर्म से ऊपर दिखाने की चेष्टा कर रहा था तब विवेकानंद ने उनके इस शीतयुद्ध का निवारण एक छोटी-सी परंतु महत्वपूर्ण कहानी के द्वारा किया : एक कुएं में बहुत समय से एक मेंढक रहता था। एक दिन एक दूसरा मेंढक, जो समुद्र में रहता था, वहां आया और कुएं में गिर पढ़ा। ‘तुम कहां से आए हो?’ कूपमंडूप ने पूछा। ‘मैं समुद्र से आया हूँ।’ समुद्र! भला वह कितना बड़ा है? क्या वह मेरे कुएं जितना ही बड़ा है?’ यह कहते हुए उसने कुएं में एक किनारे से दूसरे किनारे तक छलांग लगाई।

समुद्र वाले मेंढक ने कहा- ‘मेरे मित्र, समुद्र की तुलना भला इस छोटे से कुएँ से किस प्रकार की जा सकती है?’ तब उस कुएँ वाले मेंढक ने दूसरी छलाँग लगाई और पूछा, ‘तो क्या समुद्र इतना बड़ा है?’ समुद्र वाले मेंढक ने कहा- तुम कैसी बेवकूफी की बात कर रहे हो! क्या समुद्र की तुलना इस कुएँ से हो सकती है? अब कुएं वाले मेंढक ने चिढ़कर कहा- ‘जा, जा, मेरे कुएं से बढ़कर और कुछ हो ही नहीं सकता। संसार में इससे बड़ा और कुछ नहीं है। झूठा कहीं का! अरे, इसे पकड़कर बाहर निकाल दो।

विवेकानंद की इस कथा का सार न केवल धर्म की संकीर्णता दूर करने वाला है वरन इसके पीछे युवाओं को भी एक संदेश है कि प्रत्येक संभावना का विस्तार ही (बगैर कूपमंडूकता के) जीवन का मूल उद्देश्य होना चाहिए।

विवेकानंद चाहते थे कि हर समाज स्वतंत्र हो, दूसरे समाज से विचारगत, आस्थागत समायोजन हो। भारत के विषय में उनका सोचना था कि एक तरफ तो हम निष्क्रिय रहकर प्राचीन गौरव के गर्व में फंस गए, दूसरी ओर हीनता की भावना में दब गए। तीसरे, सारी दुनिया से कटकर घोंघे में बंद हो गए। वे कहते थे कि जिस प्राचीन आध्यात्मिक शक्ति पर हम गर्व करते हैं, उसे अपने भीतर जगाना होगा। यह अभी हमारे भीतर नहीं है, केवल बाहरी है।

उन्होंने यह आह्वान युवाओं से किया था कि तुम ही यह कार्य कर दिखाओ। ये युवा ही हैं, जो इस समाज को आत्मशक्ति दे सकते हैं, संपूर्ण विश्व से गर्व से संवाद व संबंध स्थापित कर सकते हैं। इसके उपरांत ही हम स्वतंत्र हो पाएंगे व सामाजिक न्याय की अवधारणा समाज में स्थापित कर सकेंगे।

ये विचार आज कहीं अधिक उपयोगी हैं, जिससे हम उस राष्ट्र को फिर जीवित कर सकें जो विवेकानंद की कल्पनाओं का था। आवश्यकता है तो बस इतनी ही कि विवेकानंद के दर्शन का प्रसार युवाओं में एक आंदोलन की भांति हो।


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
kms1006

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

##### ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. #####

10 गुना इंटरनेट स्पीड देगा गूगल का नया डाटा सेंटर ~ Google’s new data center offers internet speeds 10 times !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** 10 गुना इंटरनेट स्पीड देगा गूगल का नया डाटा सेंटर!! **


ggl

इंटरनेट की दुनिया की सबसे मशहूर कंपनी गूगल ने हाल ही में एशिया में अपने दो नए डाटा सेंटर खोले हैं। टैक्नोलॉजी की दुनिया भर के बाजारों में बढ़ती मांग को देखते हुए कंपनी ने ये कदम उठाया है। एक डाटा सेंटर काउंटी ताइवान और दूसरा जुरोंग वेस्ट, सिंगापुर में खोला गया है। कंपनी ने इन दोनों सेंटर को तैयार करने में कुल मिलाकर 2440 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। इन डाटा सेंटरों की मदद से अब इंटरनेट डाटा ट्रैफिक के लोड को कम किया जा सकेगा। इसके साथ ही गूगल अपने यूजर्स को अब और भी ज्यादा डाटा मुहैया करा सकेगा और इंटरनेट पर सर्च करना 10 गुना तक फास्ट और आसान हो जाएगा।

kms-google
रिपोर्ट के मुताबिक ताइवान, हांगकांग और सिंगापुर जैसे देश टेक कंपनियों के संचालन के लिए उपयुक्त स्थान माने जाते हैं। इन देशों में डाटा सेंटर का संचालन करने के लिए अच्छे कानून, मजबूत बिजली व्यवस्था, कुशल कर्मचारी और फाइबर ब्रॉडबैंड जैसी बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध हैं।


google-kms
डा़टा सेंटर एक ऐसी जगह होती है, जहां ढेर सारे कंप्यूटर लगे होते हैं। इन कंप्यूटरों में दुनिया भर के जरूरी डाटा स्टोर किए जाते हैं, जिसकी मदद से दुनिया के कोने-कोने में इंटरनेट यूजर्स को डाटा मुहैया कराया जाता है। इंटरनेट पर मिलने वाली सभी जानकारियां इन्हीं डाटा सेंटरों से आती हैं।

4
गूगल की स्थापना 1998 में लैरी पेज और सेर्गे ब्रिन ने की थी। आज 15 साल बाद कंपनी की कुल संपत्ति 5,80,415 करोड़ रुपए हो चुकि है। अब गूगल अपने बिजनेस को बढ़ाते हुए ताइवान के डाटा सेंटर के संचालन के लिए 3712 करोड़ रुपए निवेश कर रही है। इसकी मदद से दुनिया भर में बढ़ रही टैक्नोलॉजी की जरूरतों को पूरा किया जा सकेगा।


5
लगभग 3,10,503 करोड़ रुपए की सालाना (2012) रेवेन्यू वाली कंपनी का ताइवान का ये डाटा सेंटर काफी प्रभावशाली है और पर्यावरण के अनुकूल बनाया गया है।


6
इस डाटा सेंटर को रात के समय कंपनी के अंदर के वातावरण को ठंडा रखने और थर्मल ऊर्जा स्टोर करने के लिहाज से बनाया गया है।

7
आमतौर पर डाटा सेंटर का वातावरण ठंडा होना चाहिए क्योंकि कंप्यूटरों से निकलने वाली गर्मी सिस्टम को क्षति पहुंचा सकती है। गूगल के मुताबिक, इस कंपनी का कूलिंग सिस्टम इंसुलेटेड टैंक्स के जरिए चलाया जाता है।

8
इस डाटा सेंटर में कुल 60 लोगों की टीम के साथ कुछ फुल और पार्ट टाइम कांट्रेक्टर 24 घंटे साइट को चलाते हैं, जिसमें से कुछ इलेक्ट्रिकल इंजीनियर्स, मैकेनिकल इंजीनियर्स, कंप्यूटर तकनीशियन और कैटरर भी शामिल हैं।

9
एशिया में 2014 तक मोबाइल डाटा ट्रेफिक 68 प्रतिशत तक बढ़ने का अंदेशा है। ये डाटा सेंटर इस ट्रेफिक को नियंत्रित करने में काफी सहयोग करेगी।

10
कंपनी के उपाध्यक्ष डाटा सेंटर में सुरक्षा द्वारों की जांच करते हुए।

11
दुनिया के सबसे बेहतरीन सर्वर के एक कंप्यूटर के गर्म हो जाने के बाद गूगल की कर्मचारी उसकी जांच करती हुईं।

12
कंप्यूटर के खराब मदरबोर्ड की मरम्मत करता हुआ गूगल का कर्मचारी। इस डाटा सेंटर में खराब होने के बाद पुर्जों की पहले मरम्मत की जाती है अगर वो ठीक न हो सकें तो फिर उन्हें तोड़कर रिसाइकिल के लिए दे दिया जाता है।

13
जेनरेटर की मरम्मत करते गूगल के तकनीशियन।

14
डाटा सेंटर को ठंडा रखने वाले पाइप लाइन की जांच करता गूगल कर्मचारी।

15
बैटरी की जांच करते हुए गूगल कर्मचारी। समय-समय पर बैटरियों की जांच की जाती है की वो ठीक से चार्ज हो रहे हैं या नहीं।

16
इस डाटा सेंटर में नए जमाने के लिहाज से बनाए गए अति आधुनिक सर्वर देखे जा सकते हैं।

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
kms1006

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

@@@@@ ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. @@@@@

Soul Sustenance & Message for the day 17-12-2013 !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** Soul Sustenance & Message for the day 17-12-2013 **

————————————–
Soul Sustenance 17-12-2013
————————————–

Living Life On The Surface

In an ideal situation, the thoughts that run in my mind, should be exactly those that I would like and I want. We do exert this control, that we possess, over our thoughts, but it is not complete and it is only sometimes. The more we become completely engrossed in our daily routine, the more our thoughts tend to become reactions to what goes on outside us. That’s when they go out of control and our lives move in an unfocused way. As a result things don’t work out as we might have desired. Then we develop a habit of blaming other people and circumstances, or we justify our pain by telling ourselves we are not very worthy or powerful enough. Often, these two inner strategies go together. The trouble is, both are cover ups, preventing us from going for a long-term solution.

In this way, we tend to live our lives on a very superficial level, without taking the time to find the solution to what is going on wrong inside. Deeper difficulties remain hidden inside. I move from one scene of life to another – eating, watching television, studying in college, getting married, changing jobs, buying a new car or house, etc. without ever stopping. All these are part of living, but if I make them my whole and sole, my foundation, it’s as if I skate across the surface of life without being in touch with the core. As time progresses, an inner shallowness develops. Then the feeling keeps growing inside that ‘there must be more to life than this’. I then, find that my relationships are not working out as I would have hoped and they are lacking in depth.

—————————————–
Message for the day 17-12-2013
—————————————–

Easy nature makes tasks easy.

Expression: The ones with an easy nature constantly think of solutions instead of problems. So such individuals are free from the burden of problems and are constantly contributing to make things easy for themselves and others too. The right environment to bring out the best result is naturally created by them.

Experience: When I have an easy nature, I am able to put a full stop in a second with great ease. I am not caught with the waste questions and exclamations. So I am able to enjoy everything that comes my way and move forward constantly with lightness.

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris
logo


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
cropped-kms10060.jpg

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

@@@@@ ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. @@@@@

मेरे पिता ~ My Father (Hindi-Story) !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** मेरे पिता ~ My Father **

drinker


किसी शहर में दो भाई रहते थे . उनमे से एक शहर का सबसे बड़ा बिजनेसमैन था तो दूसरा एक ड्रग -एडिक्ट था जो अक्सर नशे की हालत में लोगों से मार -पीट किया करता था . जब लोग इनके बारे में जानते तो बहुत आश्चर्य करते कि आखिर दोनों में इतना अंतर क्यों है जबकि दोनों एक ही माता-पिता की संताने हैं , एक जैसी शिक्षा प्राप्त हैं और बिलकुल एक जैसे माहौल में पले -बढे हैं . कुछ लोगों ने इस बात का पता लगाने का निश्चय किया और शाम को भाइयों के घर पहुंचे .

अन्दर घुसते ही उन्हें नशे में धुत एक व्यक्ति दिखा , वे उसके पास गए और पूछा , “ भाई तुम ऐसे क्यों हो ??..तुम बेवजह लोगों से लड़ाई -झगडा करते हो , नशे में धुत अपने बीवी -बच्चों को पीटते हो …आखिर ये सब करने की वजह क्या है ?”

“मेरे पिता ” , भाई ने उत्तर दिया .

“पिता !! ….वो कैसे ?” , लोगों ने पूछा

भाई बोल , “ मेरे पिता शराबी थे , वे अक्सर मेरी माँ और हम दोनों भाइयों को पीटा करते थे …भला तुम लोग मुझसे और क्या उम्मीद कर सकते हो …मैं भी वैसा ही हूँ ..”

फिर वे लोग दूसरे भाई के पास गए , वो अपने काम में व्यस्त था और थोड़ी देर बाद उनसे मिलने आया ,

“माफ़ कीजियेगा , मुझे आने में थोड़ी देर हो गयी .” भाई बोल , “ बताइए मैं आपकी क्या मदद कर सकता हूँ ? ”

लोगों ने इस भाई से भी वही प्रश्न किया , “ आप इतने सम्मानित बिजनेसमैन हैं , आपकी हर जगह पूछ है , सभी आपकी प्रशंसा करते हैं , आखिर आपकी इन उपलब्धियों की वजह क्या है ?”

“ मेरे पिता “, उत्तर आया .

लोगों ने आश्चर्य से पूछा , “ भला वो कैसे ?”

“मेरे पिता शराबी थे , नशे में वो हमें मारा- पीटा करते थे मैं ये सब चुप -चाप देखा करता था , और तभी मैंने निश्चय कर लिया था की मैं ऐसा बिलकुल नहीं बनना चाहता मुझे तो एक सभ्य , सम्मानित और बड़ा आदमी बनना है , और मैं वही बना .” भाई ने अपनी बात पूरी की .

Friends, हमारे साथ जो कुछ भी घटता है उसके positive और negative aspects हो सकते हैं . ज़रुरत इस बात की है की हम positive aspect पर concentrate करें और वहीँ से अपनी inspiration draw करें .


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
cropped-kms10060.jpg


Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

(((((~)))))<<>>(((((~))))) ओम शांति!! ~ ओम साईराम!! (((((~)))))<<>>(((((~)))))

अवसर की पहचान ~ Identifying opportunities !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** अवसर की पहचान ~ Identifying opportunities !! **

opportunities
Don’t miss an opportunity.


एक बार एक ग्राहक चित्रो की दुकान पर गया । उसने वहाँ पर अजीब से चित्र देखे । पहले चित्र मे चेहरा पूरी तरह बालो से ढँका हुआ था और पैरोँ मे पंख थे ।एक दूसरे चित्र मे सिर पीछे से गंजा था।

ग्राहक ने पूछा – यह चित्र किसका है?

दुकानदार ने कहा – अवसर का ।

ग्राहक ने पूछा – इसका चेहरा बालो से ढका क्यो है?

दुकानदार ने कहा -क्योंकि अक्सर जब अवसर आता है तो मनुष्य उसे पहचानता नही है ।

ग्राहक ने पूछा – और इसके पैरो मे पंख क्यो है?

दुकानदार ने कहा – वह इसलिये कि यह तुरंत वापस भाग जाता है, यदि इसका उपयोग न हो तो यह तुरंत उड़ जाता है ।

ग्राहक ने पूछा – और यह दूसरे चित्र मे पीछे से गंजा सिर किसका है?

दुकानदार ने कहा – यह भी अवसर का है । यदि अवसर को सामने से ही बालो से पकड़ लेँगे तो वह आपका है ।अगर आपने उसे थोड़ी देरी से पकड़ने की कोशिश की तो पीछे का गंजा सिर हाथ आयेगा और वो फिसलकर निकल जायेगा । वह ग्राहक इन चित्रो का रहस्य जानकर हैरान था पर अब वह बात समझ चुका था ।

दोस्तो,

आपने कई बार दूसरो को ये कहते हुए सुना होगा या खुद भी कहा होगा कि ’हमे अवसर ही नही मिला’ लेकिन ये अपनी जिम्मेदारी से भागने और अपनी गलती को छुपाने का बस एक बहाना है । Real मे भगवान ने हमे ढेरो अवसरो के बीच जन्म दिया है । अवसर हमेशा हमारे सामने से आते जाते रहते है पर हम उसे पहचान नही पाते या पहचानने मे देर कर देते है । और कई बार हम सिर्फ इसलिये चूक जाते है क्योकि हम बड़े अवसर के ताक मे रहते हैं । पर अवसर बड़ा या छोटा नही होता है । हमे हर अवसर का भरपूर उपयोग करना चाहिये ।

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
kms1006


Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

(((((~)))))<<>>(((((~))))) ओम शांति!! ~ ओम साईराम!! (((((~)))))<<>>(((((~)))))