Yoga – A Lifestyle

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

ϒ Yoga – A Lifestyle – Part 1 ϒ

yoga-lifestyle-kmsraj51

All of us are constantly living a life of yoga, which in spiritual terms is called a link or connection between two entities i.e. the one which remembers and the other one which is remembered. Examples of what we have yoga with could be a person or God (called rajyoga) or your actions (called karma yoga) or spiritual knowledge (called gyan yoga) or bhakti (called bhakti yoga). Other examples of yoga are with your breath (called pranayama) or your physical body (called hath yoga) or even a physical object like a candle flame. So, yoga is life and should not be limited to sitting in a particular posture for a few minutes at a particular time of the day. Basically, remembering anything or anyone is yoga. The word yoga should not be limited to exercise which is a narrow definition of yoga. Focusing on one’s own body is extremely important, but only one aspect of a yogi lifestyle. A complete or comprehensive yogi lifestyle is focusing on pure and constructive sources right through the day including God. This is because yoga means union or link, a union which will benefit the soul and body positively.

We all live our lives in search of peace, love and happiness and also inner powers which we as spiritual beings are lacking in. So yoga i.e. our mental energy correctly channeled and connected with something positive provides us with that. People also call performing actions as yoga which is called karma yoga. But only performing selfless actions with complete dedication nowadays with the stresses and strains of everyday living can be depleting on a mental energy level. This will happen unless the karma yoga as it is called is accompanied by a mental union or link with the Supreme while performing the actions. This helps us in remaining unaffected by the stress caused due to being over-busy in those actions. That in the true sense is karma yoga i.e. selfless karmas performed in the remembrance of God. This link between me, the spiritual child and God, the spiritual parent, nourishes me continuously. It gives me the strength to perform actions with complete accuracy and get the desired success filled result.

ϒ Message ϒ

To finish excuses is to take up full responsibility.

Expression:To take up responsibility means to be ready to bear the consequences of the action done. The one who is responsible will never give excuses, but will be able to take the responsibility of correcting the situation. Under all circumstances, such a person will be able to give his best without situations hindering his output.

Experience: When I am responsible, it is not important for me why a mistake happened, but it is more important for me to find a method so that I am able to rectify what has gone wrong. So when I am responsible I am neither worried nor concerned too much for whatever has happened. On the other hand I am able work with lightness to improve the situation.

ϒ Yoga – A Lifestyle – Part 2 ϒ

All of us are living beings with a mind and an intellect, which we use to connect to various objects, people and events throughout the day. This is called our mental energy. This mental energy travels extremely fast and can reach another person in much less than a second. Very often we focus our mental energy on the physical body for mental peace and physical fitness through the medium of yog asanas or yogic postures to attain the desired purpose. That for us is a way of letting go of our stresses and negative energies stored in the body. It makes our mind and body healthy. We also focus our mental energies on our breath through the medium of pranayama whereby flawless and smooth breathing is experienced. This benefits our physical body immensely and also gives us mental energy.

If you are new at the Brahma Kumaris, and if you are practicing yog asanas and pranayama for their physical and emotional health benefits, from before, you don’t need to stop them. This is because both these are extremely important mediums for this purpose and widely acclaimed and proven successful techniques which have saved many people from the most serious of illnesses. They have also reduced the intensity of many illnesses. There are lakhs of people all over the world who share their experiences confirming this. But the Brahma Kumaris add another dimension to this physical side of yoga – a spiritual yoga i.e. connecting the mind and intellect to the supreme source of spiritual energy or God. This is also called yoga or connection with a non-physical pure entity – God. So those who have been practicing yog asanas and pranayama, if they desire, can continue to do the same but add the spiritual yoga in their lifestyles. Those who have not been practicing yog asanas and pranayama concentrate only on the spiritual yoga. Spiritual yoga not only purifies the soul but also has immense benefits for the physical systems of the body and helps in purifying them. This is because a pure mind means a mind full of the seven qualities of peace, joy, love, bliss, purity, power and knowledge. That in turn influences the main systems of the body and makes them free of illnesses. The mechanism of how the mind affects the different body systems will be explained in tomorrow’s message, in further detail.

ϒ Message ϒ

To remain in peace is to give support to those around.

Expression:If there is inner peace even when there is negativity all around, there is the ability to give support to those around. The biggest service that one can do is to give this support to those in need during challenging times. The one who remains in peace even in chaotic conditions becomes an example also.

Experience: When I am able to maintain my own inner state of calm under all circumstances, I am able to learn from everything that happens. I am able to bring benefit for those around me because of the vibrations of positivity that I am able to spread. I become a source of inspiration and support for all those in need.

ϒ Yoga – A Lifestyle – Part 3 ϒ

The practice of spiritual yoga or connecting the mind with a higher source of spiritual power i.e. God, causes His spiritual energy to enter our mind and fill our minds with the seven primary qualities. These qualities are – peace, joy, love, bliss, purity, power and knowledge. These qualities nourish all our body systems and make them free of illnesses. Each time we experience an impure or negative emotion, its negative effect travels to all these systems and this causes the birth of illnesses in these systems. Spiritual yoga, which at the Brahma Kumaris is called Rajyoga meditation and is karma yoga, because it can be done while performing any action, does the opposite. Because Rajyoga is a yoga with the Highest power existing in the universe, it is given that name. This Highest power is God and He is the Highest because He is an overflowing source of all these seven qualities mentioned above. So a link with such a source gives us an experience of these qualities. As a result, these qualities flow to each cell of all the systems of the body and causes these cells to heal and become full of pure spiritual and as a result pure physical energy also. Also, each one of us has a target organ or system which is most prone to disease. What this organ or system is for each one is connected with the karmas of the soul performed in this and previous births, which reflect in the systems of the body. Rajyoga meditation, as taught by the Brahma Kumaris, because of the mechanism explained above, helps in keeping this target organ healthy and also brings with it mental peace and a stress life.

Lastly, as you follow the path of spiritual yoga, take care that physical health issues are also addressed. This is because a healthy body finds it easier to meditate correctly and also perform actions in the remembrance of the Supreme Being with comfort. On one side the meditation helps in clearing up the negative sanskaras of the soul. Negative sanskaras are created in the soul when a negative action is performed either in this or previous births, and are an important cause of all our illnesses. At the same time, on the other side care should also be taken of the physical body through the mediums of a right diet, exercise and sleep. By doing that, the spiritual journey is smooth and obstacle free; a journey on which we welcome all of you.

ϒ Message ϒ

Cooperation brings easy success.

Expression:To work together is to allow the specialities of each and every individual to be contributed in the task to be done. There is an ability to appreciate others and their contribution. There is no ego of one’s own specialities but a true and natural appreciation of everyone around. So there is success for the task and for the person too.

Experience: Whenever I am involved with others in doing something, the task is important in itself but when I understand the importance of cooperation I am able to recognise the specialities of each and every individual. I am able to have faith in the other person to make his own contribution and I give the space for him to do so.

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

Watch Peace of Mind TV on following DTH
TATA Sky # 1065 | Airtel Digital TV # 678 | Videocon d2h # 497 | Reliance BigTV # 171 | ABS Free # 69 | Online :   www.pmtv.in

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Editor in Chief, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

जैसे शरीर के लिए भोजन जरूरी है वैसे ही मस्तिष्क के लिए भी सकारात्मक ज्ञान और ध्यान रुपी भोजन जरूरी हैं। ~ कृष्ण मोहन सिंह(KMS)

 ~Kmsraj51

———– © Best of Luck ® ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

* अपनी आदतों को कैसे बदलें।

निश्चित सफलता के २१ सूत्र।

क्या करें – क्या ना करें।

∗ जीवन परिवर्तक 51 सकारात्मक Quotes of KMSRAJ51

* विचारों का स्तर श्रेष्ठ व पवित्र हो।

* अच्छी आदतें कैसे डालें।

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

~KMSRAJ51

 

 

 

निश्चित रूप से सफलता के कारगर सूत्र।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

ϒ निश्चित रूप से सफलता के कारगर सूत्र। ϒ

=> हर इंसान काे प्रतिदिन चौबीस घंटे(24 Hour) ही मिलता हैं। But इस 24 Hour काे जाे जैसे Use करता है, उसी तरह वह सफल `या` असफल हाेता हैं अपने जीवन में।

kmsraj51-certainly-effective-formula-for-success

=> इस संसार में सबसे बडा धन समय ही हैं। क्योंकि जाे समय अभी चला गया, उसे खरबाें रुपये खर्च कर भी – वापस नहीं लाया जा सकता। समय का मूल्य काेई भी नहीं लगा सकता।

=> यू ही समय काे व्यर्थ ना गवाए, वर्ना पछताने के अलावा – कुछ ना बचेगा जीवन में।

=> आपके सफल हाेने में सबसे बडी बाधा जानते है क्या हैं – आपके अपने विचार, और आपकाे सफल हाेने से राेक काैन रहा है – आप स्वयं अपने आप काे राेक रहे हैं। जीवन में सफलता `या` असफलता का जिम्मेदार(उत्तरदायी) इंसान स्वयं हाेता हैं।

=> अपनी साेच काे सदैव सकारात्मक रखें। जब भी मन में Negative विचार आये उसे Neglect(नज़रअंदाज़) कर, Positive Way में अपने विचाराें काे माेड़ दे।

=> सफल हाेने का सबसे बडा़ मुल मंत्र है, कि अपनी बुरी आदते छाेड दे, व समय व्यर्थ गवाना छाेड दें। अपनी Inner Power(आत्मा की शक्ति) काे जागृत करें, तथा अपने मन काे सदैव सकारात्मक सोच व कार्य में व्यस्त रखें।

ने लक्ष्य काे इतना महानना दाे कि व्यर्थ के लिसमय ही नाचे

~Kmsraj51

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

जैसे शरीर के लिए भोजन जरूरी है वैसे ही मस्तिष्क के लिए भी सकारात्मक ज्ञान और ध्यान रुपी भोजन जरूरी हैं। ~ कृष्ण मोहन सिंह(KMS)

 ~Kmsraj51

———– © Best of Luck ® ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

* अपनी आदतों को कैसे बदलें।

निश्चित सफलता के २१ सूत्र।

क्या करें – क्या ना करें।

∗ जीवन परिवर्तक 51 सकारात्मक Quotes of KMSRAJ51

* विचारों का स्तर श्रेष्ठ व पवित्र हो।

* अच्छी आदतें कैसे डालें।

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

~KMSRAJ51

 

 

उन्नति कहें या सफलता।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

ϒ उन्नति कहें या सफलता। ϒ

उन्नति कहें या सफलता।
लगन है कितनी –
इस बात पर निर्भर है।

धैर्य कितना है।
समय पर –
लक्ष्य पाने के लिये।

बहुत कुछ इस पर निर्भर है।
पर्याप्त नहीं होती।
सिर्फ मेहनत।

बुद्धि का सही उपयोग ही –
बढ़ाता है-
कार्य कुशलता को।

और उन्नति की ओर –
अग्रसर होता है।

लक्ष्य हो या …
चाहे कोई उद्देश्य हो ‘अजीब’
सिद्धांतों का।

कड़ाई से पालन ही।
मानव को –
सफलता की ओर ले जाता है।

©- ‘अजीब’ आदित्य कुमार जी। 
©- केशव नगर, कानपुर – उत्तर प्रदेश। 
Aditya Katiyar - kmsraj51

हम दिल से आभारी हैं “आदित्य कुमार जी” के प्रेरणादायक हिन्दी कविता – “उन्नति कहें या सफलता।” साझा करने के लिए।

आदित्य कुमार जी के लिए मेरे विचार:

 “आदित्य कुमार जी” ने इस कविता के माध्यम से “सफलता व लक्ष्य पाने के लिये, बुद्धि का सही उपयोग तथा सही कार्य कुशलता का बहुत ही – आसान शब्दों में व्याख्या किया हैं।”  जाे हर एक शब्द पर विचार सागर-मंथन कर हृदयसात करने योग्य हैं। कविताऐं छोटी और सरल शब्दाे में हाेते हुँये भी हृदयसात करने योग्य हैं। जाे भी इंसान इन कविताओं काे गहराई(हर एक शब्दाे का सार) से समझकर आत्मसात करें, उसका जीवन धन्य हाे जायें।

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

जैसे शरीर के लिए भोजन जरूरी है वैसे ही मस्तिष्क के लिए भी सकारात्मक ज्ञान और ध्यान रुपी भोजन जरूरी हैं। ~ कृष्ण मोहन सिंह(KMS)

 ~Kmsraj51

———– © Best of Luck ® ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

* अपनी आदतों को कैसे बदलें।

निश्चित सफलता के २१ सूत्र।

क्या करें – क्या ना करें।

∗ जीवन परिवर्तक 51 सकारात्मक Quotes of KMSRAJ51

* विचारों का स्तर श्रेष्ठ व पवित्र हो।

* अच्छी आदतें कैसे डालें।

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

~KMSRAJ51

 

 

अपनी आदतों को कैसे बदलें।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

ϒ अपनी आदतों को कैसे बदलें। ϒ

ज़िंदगी बहुत छोटी है इसलिए समय बर्बाद मत करो। 

प्यारे दोस्तों – ज़िंदगी बहुत छोटी है इसलिए समय बर्बाद मत करो। समय के महत्व काे समझे व समय के साथ-२ चलने का अभ्यास करें। अपने Mind काे कुछ इस तरह से खुराक दें।

how-to-change-your-habits-kmsraj51

  • अधिकतर लाेग अपनी आदताें काे खुद पर नियंत्रण करने की अनुमति दे देते हैं। अगर वे आदतें बुरी हाें, ताे उनके नज़रियाें पर नकारात्मक असर डालती हैं।
  • किसी भी इंसान के Mind काे काेई भी दृढ़ आदत डालने में कम से कम 21 दिन लगते हैं।
  • इंसान का Mind किसी भी प्रकार के कर्म काे निरंतर 21 दिनों तक करता रहता है ताे – आगे वह कर्म स्वतः ही बिना किसी अतिरिक्त प्रयास के निरंतर चलता रहता हैं।
  • आज के मनुष्य की सबसे बड़ी समस्या यह है कि काेई भी आदत डालने का संकल्प ताे ले लेते है, पर वह संकल्प दृढ़ नहीं हाेता – जिस कारण किसी भी नई आदत काे प्रारंभ करने के 3-7 दिन या ज्यादा से ज्यादा 15 दिनों तक ही करता है, उसके बाद अपने उन्हीं पुरानी आदताें पर वापस आ जाता हैं।  नये वर्ष (New Year’s) के प्रारंभ हाेने पर जिन नये आदताें काे डालने का संकल्प लिए जाते है वो इसी श्रेणी(category) में आते है।
  • किसी भी नई आदत काे डालने का सबसे कारगर तरिका यह है की उस आदत के लिये Mind काे आंतरिक रूप से तैयार करें।
  • काेई भी नई आदत डालने में आजकल के लाेग सबसे बडी गलती यह करते है कि पहले ही दिन से ज्यादा समय देना चाहते है उस आदत काे डालने के लिये। For Example ….. A संकल्प लेता है कि अब मैं प्रतिदिन सुबह जल्दी उठूंगा, 4 बजे भाेर में ही, पर हाेता क्या हैं, पहले दिन….. दूसरे दिन ….. उठता है ….. तीसरे दिन साेया ही रहता है। अब गलती कहाँ पर हुई …(याद रखें कि – A पहले सुबह 6 बजे उठता था।) A से गलती यह हुई की उसने पहले ही दिन से 4 बजे उठने की काेशिश की, जबकी ऐसा नहीं करना था। …. काे सुबह 4 बजे उठने के लिये कुछ इस तरह से अभ्यास करना चाहिए था… पहले दिन 5:45 पर… दूसरे दिन 5:30 पर …. तीसरे दिन 5:15 पर … चाैथे दिन 5:00 पर …. व पांचवें दिन 4:45 पर ….. तथा आगे के दिनों में 15 मिनट कम करते-करते आठवे दिन 4 बजे उठने लगता।
  • 15 मिनट पहले उठने के अंतर काे इंसानी शरीर सरलता पूर्वक सह लेता है इससे ज़्यादा नहीं।
  • परिवर्तन की चुनाैती के प्रेम में पड़ें और परिवर्तन की इच्छा काे बढ़ते हुए देखें।
  • बुरी आदतों काे धीरे-धीरे छाेडते जाये व उनकी जगह एक-एक अच्छी आदतों काे डालते जाये। एक दिन ऐसा आयेगा जब आपके Mind के अंदर मात्र अच्छी आदतों का भंडार हाेगा।

नज़रिया और कुछ नहीं, विचार की आदत है। चाहे वे अच्छी हाें या बुरी, आदत डालने की प्रक्रिया समान रहती है। सफल हाेने की आदत डालना भी उतना ही आसान है, जितना कि असफल हाेने की आदत डालना।

हम सभी अपनी आदतों की वजह से अपनी ज़िंदगी में खुशियाँ पा सकते हैं या फिर मुश्किल में भी पड़ सकते हैं।~Kmsraj51

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

जैसे शरीर के लिए भोजन जरूरी है वैसे ही मस्तिष्क के लिए भी सकारात्मक ज्ञान और ध्यान रुपी भोजन जरूरी हैं। ~ कृष्ण मोहन सिंह(KMS)

 ~Kmsraj51

———– © Best of Luck ® ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

निश्चित सफलता के २१ सूत्र।

क्या करें – क्या ना करें।

∗ जीवन परिवर्तक 51 सकारात्मक Quotes of KMSRAJ51

* विचारों का स्तर श्रेष्ठ व पवित्र हो।

* अच्छी आदतें कैसे डालें।

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

~KMSRAJ51

 

सफल जीवन के अनमोल सूत्र।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

ϒ सफल जीवन के अनमोल सूत्र। ϒ

ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यम् , भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ||

जीवन॰

  • जब तुम पैदा हुए थे तो तुम रोए थे जबकि पूरी दुनिया ने जश्न मनाया था। अपना जीवन ऐसे जियो कि तुम्हारी मौत पर पूरी दुनिया रोए और तुम जश्न मनाओ।

The successful formula of life-KMSRAJ51

कठिनाइया॰

  • जब तक आप अपनी समस्याओं एंव कठिनाइयों की वजह दूसरों को मानते है, तब तक आप अपनी समस्याओं एंव कठिनाइयों को मिटा नहीं सकते। क्योंकि अपनी समस्याओं एंव कठिनाइयों की वजह आप स्वयं हैं।

असंभव॰

  • इस दुनिया में असंभव कुछ भी नहीं। हम वो सब कुछ कर सकते है, जो हम सोच सकते है और हम वो सब सोच सकते है, जो आज तक हमने नहीं सोचा।

हार ना मानना॰

  • बीच रास्ते से लौटने का कोई फायदा नहीं क्योंकि लौटने पर आपको उतनी ही दूरी तय करनी पड़ेगी, जितनी दूरी तय करने पर आप लक्ष्य तक पहुँच सकते है। इसलिए लक्ष्य की ओर बढ़ें।

अर्थ- हार व जीत का॰

  • सफलता हमारा परिचय दुनिया को करवाती है और असफलता हमें दुनिया का सहीं परिचय करवाती है।

सच्चा आत्मविश्वास॰

  • अगर किसी चीज़ को आप सच्चे दिल से चाहो तो पूरी कायनात उसे तुमसे मिलाने में लग जाती हैं।

सच्ची महानता॰

  • सच्ची महानता कभी न गिरने में नहीं बल्कि हर बार गिरकर फिर से उठ जाने में हैं।

गलतियां॰

  • अगर आप समय पर अपनी गलतियों को स्वीकार नहीं करते है तो आप एक और गलती कर बैठते है। आप अपनी गलतियों से तभी सीख सकते है जब आप अपनी गलतियों को स्वीकार करते है।

चिन्ता॰

  • अगर आप उन बातों एंव परिस्थितियों की वजह से चिंतित हो जाते है, जो आपके नियंत्रण में नहीं हैं तो इसका परिणाम समय की बर्बादी एवं भविष्य में पछतावा है।

शक्ति॰

  • ब्रह्माण्ड की सारी शक्तियां पहले से हमारी हैं। वो हम हैं जो अपनी आँखों पर हाथ रख लेते हैं और फिर रोते हैं कि कितना अन्धकार है।

मेहनत॰

  • हम चाहें तो अपने आत्मविश्वास और मेहनत के बल पर अपना भाग्य खुद लिख सकते है और अगर हमको अपना भाग्य लिखना नहीं आता तो परिस्थितियां व समय हमारा भाग्य लिख ही देंगी।

सपने॰

  • सच कहे ताे सपने वो नहीं है जो हम नींद में देखते है, सपने ताे वो है जो हमको नींद हीं न आने दें।

समय॰

  • आप यह नहीं कह सकते कि आपके पास समय नहीं है क्योंकि आपको भी दिन में उतना ही समय (२४ घंटे) मिलता है जितना समय महान एंव सफल लोगों को मिलता है। समय सभी काे एक समान ही मिलता हैं।

विश्वास॰

  • विश्वास में वो शक्ति है जिससे उजड़ी हुई दुनिया में प्रकाश लाया जा सकता है। विश्वास पत्थर को भगवान बना सकता है और अविश्वास भगवान के बनाए इंसान को भी पत्थर दिल बना सकता हैं। विश्वास की नीव पर टिके है सारे रिश्तें।

सफलता॰

  • दूर से हमें आगे के सभी रास्ते बंद नजर आते हैं क्योंकि सफलता के रास्ते हमारे लिए तभी खुलते हैं जब हम उसके बिल्कुल करीब पहुँच जाते हैं।

सोच॰

  • बारिश के दौरान सारे पक्षी आश्रय की तलाश करते है लेकिन बाज़ बादलों के ऊपर उडकर बारिश को ही Avoid कर देते है। समस्याए Common है, लेकिन आपका नजरिया इनमे Difference पैदा करता है। इसलिए अपने सोचने के नजरिये काे Change करें।

प्रसन्नता॰

  • यहा पहले से निर्मित कोई चीज नहीं है… ये आप ही के कर्मों से आती है …. आपके कर्मं ही निमित्त बनते हैं।

निमित्त भाव॰

  • आप सिर्फ निमित्त मात्र हैं इस संसार में। यह संसार एक रंगमंच हैं – सभी मनुष्य आत्मायें अपना-अपना Part Play कर रही हैं। जाे आत्मा अपना Part निमित्त भाव से Play कर रही है, ओ आनंद में हैं।

याद रखेंः – जीवन में सच्चा आनंद और शांति ताे सिर्फ व सिर्फ ईश्वरीय ध्यान `या` परमात्म याद (Godly Meditation) में ही हैं। चाहे अरबाे-खरबाे (Billions – trillions) इकट्ठा कर लाे फिर भी सच्चा आनंद और शांति कभी ना मिलेगी।

ॐ शांति ॐ शांति ॐ शांति ॐ शांति ॐ शांति॥
ॐ शांति ॐ शांति ॐ शांति ॐ शांति ॐ शांति॥

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

जैसे शरीर के लिए भोजन जरूरी है वैसे ही मस्तिष्क के लिए भी सकारात्मक ज्ञान और ध्यान रुपी भोजन जरूरी हैं। ~ कृष्ण मोहन सिंह(KMS)

 ~Kmsraj51

———– © Best of Luck ® ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

निश्चित सफलता के २१ सूत्र।

∗ जीवन परिवर्तक 51 सकारात्मक Quotes of KMSRAJ51

* विचारों का स्तर श्रेष्ठ व पवित्र हो।

* अच्छी आदतें कैसे डालें।

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

~KMSRAJ51

 

अच्छी आदतें कैसे डालें।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

ϒ अच्छी आदतें कैसे डालें। ϒ

नज़रिया और कुछ नहीं, विचार की आदत है। चाहे वे अच्छी हाें या बुरी, आदत डालने की प्रक्रिया समान रहती है। सफल हाेने की आदत डालना भी उतना ही आसान है, जितना कि असफल हाेने की आदत डालना।

How to enter good habits-kmsraj51

आदतें सहज प्रवृत्ति की तरह जन्मजात नहीं हाेती; वे सीखे गए कार्य या प्रतिक्रियाएँ हाेती हैं। वे अकारण उत्पन्न नहीं हाेती हैं; उनका काेई न काेई कारण हाेता है। एक बार जब किसी आदत के मूल कारण का पता चल जाता है, ताे उसे स्वीकार या अस्वीकार करना आपकी शक्ति में हाेता है। अधिकतर लाेग अपनी आदताें काे खुद पर नियंत्रण करने की अनुमति दे देते हैं। अगर वे आदतें बुरी हाें, ताे उनके नज़रियाें पर नकारात्मक असर डालती हैं।

बुरी आदतों को अच्छी आदत में बदलने के तरीके:

How to change bad habits into good habits:

क़दम # १ : अपनी बुरी आदतों की सूची बनाएँ।

क़दम # २ : मूल कारण क्या था?

क़दम # ३ : सहायक कारण काैन से थे?

क़दम # ४ : बुरी आदत की जगह लेने वाली एक सकारात्मक अच्छी आदत तय करें।

क़दम # ५ : अच्छी आदत, उसके लाभाें और परिणामाें के बारे में साेचें।

क़दम # ६ : इस आदत काे डालने के लिए कार्य करें।

क़दम # ७ : इस आदत काे बलवान करने के लिए इस पर प्रतिदिन काम करें।

क़दम # ८ : अपनी अच्छी आदत के एक लाभ पर ग़ाैर करके खुद काे पुरस्कार दें।

अपनी साेचने की नज़रिया काे बदले:

अपनी साेचने की शब्दावली बदलकर यह प्रक्रिया शुरु कर दें:

∇ इन शब्दाें काे पूरी तरह से मिटा दें:                             ∇ इन शब्दाें काे अपनी शब्दावली का हिस्सा बनाएँ:

  1. मैं नहीं कर सकता                                                                   1. मैं कर सकता हूँ
  2. काश                                                                                      2. मैं करूँगा
  3. शंका                                                                                      3. सर्वश्रेष्ठ की उम्मीद
  4. मुझे नहीं लगता                                                                       4. मैं जानता हूँ
  5. मेरे पास समय नहीं है                                                               5. मैं समय निकाल लूँगा
  6. शायद                                                                                     6. पक्का
  7. मुझे डर है                                                                               7. मुझे विश्वास है
  8. मैं यकीन नहीं करता                                                                8. मुझे यकीन है
  9. (कम करें) मैं                                                                           9. (बढ़ावा दें) आप
  10. यह असंभव है                                                                         10. सभी चीज़े संभव हैं

बदलने की इच्छा रखें:

बदलने की इच्छा आपके नज़रिये के परिवर्तन की सफलता काे जितना तय करेगी, उतना काेई दूसरा चयन नहीं करेगा। जब सब कुछ असफल हाे जाता है, तब भी सिर्फ इच्छा आपकाे सही दिशा में बनाए रख सकती है। कई लाेग खुद काे बेहतर बनाने के लिए अजेय दिखने वाली बाधाओं काे पार कर चुके हैं, जब उन्हे यह अहसास हुआ कि परिवर्तन संभव है, बशर्ते वे इसे शिद्दत से चाहें। मैं इसका एक उदाहरण देना चाहूँगा।

  • एक दिन एक मेंढक उछलते हुए एक देहाती सड़क पर बने बहुत बड़े गड्ढे में पहुँच गया। कूदकर बाहर निकलने की उसकी सारी काेशिशें बेकार गईं। जल्द ही एक ख़रगाेश गड्ढे में फँसे मेंढक के पास आया और उसने उसे बाहर निकालने का प्रयास किया। वह भी नाकाम हाे गया। जंगल के कई जानवराें ने बेचारे मेंढक काे बाहर निकालने के तीन-चार साहसिक प्रयास किए़, लेकिन आख़िरकार उन्हाेंने काेशिश छाेड़ दी। उन्हाेंने कहा, “हम अब लाैटकर जाते हैं और तुम्हारे लिए कुछ भाेजन ले आते हैं। ऐसा लगता है कि तुम कुछ समय तक यहीं रहने वाले हाे।” बहरहाल, जब वे भाेजन लेने जा रहे थे, तभी कुछ समय बाद उन्हाेंने मेंढक के अपने पीछे फुदकने की आवाज सुनी। उन्हें इस पर यकीन नहीं हुआ। उन्हाेंने अचरज से कहा, “हमने ताे साेचा था कि तुम बाहर नहीं निकल सकते!” मेंढक ने जवाब दिया, “ओह, मैं नहीं निकल सकता था। लेकिन देखाे, एक बड़ा सा ट्रक बिलकुल मेरी ही ओर चला आ रहा था और मुझे निकलना ही पड़ा।”
  • परिवर्तन की चुनाैती के प्रेम में पड़ें और परिवर्तन की इच्छा काे बढ़ते हुए देखें।
  • जब हमें “जीवन के गड्ढाें से बाहर निकलना ही हाेता है,” तभी हम बदलते हैं।
  • हम सभी अपनी आदतों की वजह से अपनी ज़िंदगी में खुशियाँ पा सकते हैं या फिर मुश्किल में भी पड़ सकते हैं।

Source : Book – Attitude 101 – जॉन सी॰ मैक्सवेल

मेरे प्यारे दोस्तों यह Inspirational Article मैंने “जॉन सी॰ मैक्सवेल” की Book “Attitude 101″ से ली हैं। नज़रिये काे बदलने के बारे में और ज्यादा जानकारी चाहते है, ताे My all time favorite – Book “Attitude 101″  जरूर पढ़े। वैसे मैं समय-समय पर आप सभी के लिए “नज़रिये काे बदलने” से संबंधित  Article लेकर आता रहुँगा।

  • हम सभी अपनी आदतों की वजह से अपनी ज़िंदगी में खुशियाँ पा सकते हैं या फिर मुश्किल में भी पड़ सकते हैं। ~Kmsraj51

पढ़ेंविमल गांधी जी कि शिक्षाप्रद कविताओं का विशाल संग्रह।

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

जैसे शरीर के लिए भोजन जरूरी है वैसे ही मस्तिष्क के लिए भी सकारात्मक ज्ञान और ध्यान रुपी भोजन जरूरी हैं। ~ कृष्ण मोहन सिंह(KMS)

 ~Kmsraj51

———– © Best of Luck ® ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

निश्चित सफलता के २१ सूत्र।

∗ जीवन परिवर्तक 51 सकारात्मक Quotes of KMSRAJ51

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

~KMSRAJ51

 

The Relationship Between Virtues And Vices

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

The Relationship Between Virtues And Vices

When we are internally strong, our nature characteristics and skills are reflected, from inside us to the outside, to everyone we interact in, in the form of virtues. If we are internally weak, those same traits emerge and radiate as vices. Vices are just qualities or virtues that have lost their focus and strength.For e.g. if we take the quality of love – when a strong soul radiates love, it is unlimited and without any conditions. Such a soul respects and has good wishes for everything and everyone and under all circumstances, irrespective of whether love and respect is coming from the other side or not. When a weak soul radiates love, he/she tends to restrict the love to limits e.g. the love would vary from person to person and from situation to situation. In a sense, if spiritual might (strength) and spiritual light (understanding or knowledge) are taken away from the virtues, they get transformed into the six vices, which make us spiritually unhealthy or weak:

Ego – developing an image of the self that is false, temporary or imaginary.
Greed – finding short term fulfillment by acquiring material goods, a role in society or money or through the physical senses – eyes, tongue, ears, etc.
Attachment – finding security by developing a feeling of possessiveness over loved ones and material objects.
Lust – using excessive satisfaction through the senses as a means of fulfillment.
Anger – the feeling of hatred and revenge when any of the other vices are threatened or being taken away from us.
Laziness – becoming inactive on a spiritual, physical or mental level.

© Message ®

To be free from the influence of the past is to have the ability to fly forward.

Expression:There are so many things of the past that keep coming up in the mind again and again. Insead of being like birds holding on to the branches of the past; the one who looks at the clear sky gets the inspiration to move forward. To look at the clear sky means to look at the present moment and make the best use of it.

Experience: The ability to free myself from the negative influences of the past, enables me to have a vision of equality. I will then not be judging others on what my past experiences with them are. I also find myself experiencing the benefit of each and every moment. So I experience constant progress.

Watch Peace of Mind TV on following DTH
TATA(Sky # 192 | Airtel Digital TV # 686 | Videocon d2h # 497 | Reliance BigTV # 171 |

online www.pmtv.in

Please Share your comment`s.

© आप सभी का प्रिय दोस्त ®

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

जैसे शरीर के लिए भोजन जरूरी है वैसे ही मस्तिष्क के लिए भी सकारात्मक ज्ञान रुपी भोजन जरूरी हैं। ~ कृष्ण मोहन सिंह(KMS)

 ~Kmsraj51

———– © Best of Luck ® ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

निश्चित सफलता के २१ सूत्र।

∗ जीवन परिवर्तक 51 सकारात्मक Quotes of KMSRAJ51

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

kmsraj51- C Y M T

“सफलता का सबसे बड़ा सूत्र”(KMSRAJ51)

“स्वयं से वार्तालाप(बातचीत) करके जीवन में आश्चर्यजनक परिवर्तन लाया जा सकता है। ऐसा करके आप अपने भीतर छिपी बुराईयाें(Weakness) काे पहचानते है, और स्वयं काे अच्छा बनने के लिए प्रोत्सािहत करते हैं।”

In English

Amazing changes the conversation yourself can be brought tolife by. By doing this you Recognize hidden within the buraiyaensolar radiation, and encourage good solar radiation to becomethemselves.

CYMT-100-10 WORDS KMS

 ~KMSRAJ51 (“तू ना हो निराश कभी मन से” किताब से)

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

~KMSRAJ51