दूसरों के साथ अपनी तुलना करके खुद को कमतर न आंकें।

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMSRAJ51-4

 दूसरों के साथ अपनी तुलना करके खुद को कमतर न आंकें।

एक कुम्हार घड़ा बना रहा था। पास ही कुछ सुराहियां, दीपक, मूर्तियां और गुल्लकें बनी रखीं थीं। ये सभी आपस में बातें कर रहे थे। घड़े ने दीपकों से कहा- ‘तुम सभी कितने सुंदर हो अलग अलग आकृतियों में। एक हम हैं… सब के सब मोटे-मोटे। जरा-सा ढलक जाएं तो टूट ही जाएं।’ एक दीपक बोला-‘अरे कहां, घड़े काका। हमारा आकार तो देखो आपके आगे कितना छोटा है। किसी सामान के पीछे कब दब कर टूट जाएं, पता भी न चले। ये मूर्तियां हमसे कहीं ज्यादा सुंदर हैं। काश, हम भी मूर्ति होते।’ दीपक और घड़े की बातें सुनकर मूर्तियां भी उदास हो गईं। एक मूर्ति बोली- ‘भैया, ये आप क्या कह रहे हैं! आपको नहीं पता कि हमें इस आकार को पाने के लिए कितनी तकलीफ सहनी पड़ती है। अपने अंगों को जगह-जगह से सुडौल आकार देने की खातिर कितने कष्ट उठाने पड़ते हैं। हमें तो गुल्लक बनना पसंद था। काश, हम गुल्लक होतीं तो सब हमारे भीतर खूब सारे पैसे रखते।’ गुल्लकें काफी देर से सब की बातें सुन रहीं थीं, वे भी विचलित हो उठीं। एक गुल्लक तो बिफर ही पड़ी- ‘आप सब हमारा दर्द नहीं समझ पाएंगे। लोग हमारे भीतर अपनी सबसे प्रिय वस्तु ‘अपना पैसा’ संचित करते हैं ताकि वह इधर-उधर न पड़ा रहे और सुरक्षित रहे, लेकिन इसी पैसे की खातिर वे लोग एक दिन हमें बड़ी निर्ममता से पटक कर फोड़ देते हैं। अब आप ही बताइए, क्या आपको कोई ऐसे तोड़ता है?’

कुम्हार का चाक अपना काम करते हुए इन सभी की तकलीफें सुन रहा था। जब उसका काम पूरा हो गया तो उसने भी बातचीत शुरू कर दी। उसने घड़े को समझाया- ‘तुम बहुत ही उपयोगी हो। अपने शीतल जल से तमाम लोगों की प्यास बुझाते हो और कुछ लोग तो तुम्हारे भीतर अपना अनाज तक रख लेते हैं।’ फिर वह दीपक से बोला- ‘तुम आकार में बेशक छोटे हो, लेकिन तुमसे प्रकाश फूटता है। तुम मंदिरों में जगह पाते हो। घरों और देहरियों को जगमगाते हो।’ इसके बाद चाक ने मूर्तियों की तरफ देखा और कहा- ‘तुम्हारी शोभा इसीलिए है कि तुम इतनी तकलीफ सहती हो। इसीलिए तुम घरों, मंदिरों, ऑफिसों की शोभा बढ़ाती हो।’ आखिर में उसने गुल्लकों की और बड़े प्यार से देखते हुए कहा- ‘तुम सभी बहुत कीमती हो| तुम बच्चों की खुशी हो। तुम लोगों के बुरे वक्त में उनके काम आकर अपना जीवन सार्थक कर देती हो।’

इस तरह वह चाक उन चीजों के साथ-साथ हम इंसानों को भी ये सीख दे गया कि अपने गुणों को पहचानते हुए खुद का भी सम्मान करना चाहिए। दूसरे लोगों के साथ अपनी तुलना करके बेवजह खुद को कमतर नहीं आंकना चाहिए। अपनी-अपनी जगह पर हम सभी उपयोगी हैं। हमें अपना मोल खुद पहचानना चाहिए।

Source(स्रोत): http://navbharattimes.indiatimes.com/

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,,  http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

– कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित –

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

http://wp.me/p3gkW6-1dk

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

http://wp.me/p3gkW6-mn

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

http://wp.me/p3gkW6-1dD

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

http://wp.me/p3gkW6-Ig

* चांदी की छड़ी।

http://wp.me/p3gkW6-1ep

 

 

_______Copyright © 2014 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

The Law of Focus and Attention

Kmsraj51 की कलम से…..

Kmsraj51-CYMT04

The Law of Focus and Attention – Part 1

Wherever we focus our attention is where our thoughts are directed with most frequency and interest. Thus energy is produced in this direction, whether positive and beneficial energy or negative and harmful energy.

If we have a complicated mind, which thinks too much about certain things unnecessarily, our attention may be led towards the obstacles, problems, upsets and the things we worry about from a critical and negative viewpoint. By paying more attention to difficulties and problems, we feed these types of thoughts with our attention, so that we end up attracting these situations towards us. Finally, the problems and obstacles absorb us due to the amount of energy we have invested in them, turning what was perhaps a molehill (something very small) into a mountain.

The situation does not necessarily change immediately on changing our attitude. With this inner change, however, we will have more energy, clarity and determination to face up to and change the situation. When we focus on seeking solutions to problems and difficulties with a positive and enthusiastic attitude, we attract positive energy towards us, and this helps us transform mountains into molehills.

– Message –

The method to stay in constant enthusiasm and to keep others enthusiastic is to see specialities in others.

Expression: Many times while I am sincerely working towards my task, I find myself losing my enthusiasm. I also might find people not very happy with me or my work. I do make an attempt to understand their feelings but fail to do so. Such negative responses further reduce my enthusiasm.

Experience: I need to develop the art of looking at specialities in people. The more I am able to see their positive qualities, the more I am able to relate to them with that speciality. This encourages the other person further to use that speciality This will naturally keep me constantly enthusiastic.

 

The Law of Focus and Attention – Part 2

If our attention is focused on people’s defects and weaknesses, we transmit energy to these aspects and strengthen these weaknesses in the other person and in ourselves. If, on the other hand, our attention is directed at the positive aspects of others, we reinforce these qualities and virtues and help this person express them, which is also beneficial to us.

Our personality is made up of a series of values, beliefs and habits. If we wish to transfer our energy to new and positive aspects of ourselves, we must choose the personality traits that we want to emerge from us, focusing our time and energy on them and, in this way, this virtue, value or quality will manifest itself in our life.

– Message –

The way to bring transformation in others is to have mercy for them.

Expression: Inspite of wanting to bring about a positive change in people and working towards it, I rarely find that kind of change that I expect. People continue to display their old patterns of behavior and finally I end up only feeling disappointed or frustrated.

Experience: Real change can come in people only when I am able to have a vision of mercy for them. With mercy I am able to percieve and bring out the best in people without actually being caught up with expectations. Once I am able to see the positive qualities I am able to encourage them to use these qualities.

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris

Watch Peace of Mind TV on following DTH
TATA(Sky # 192 | Airtel Digital TV # 686 | Videocon d2h # 497 | Reliance BigTV # 171 | online www.pmtv.in

ओम नमः शिवाय: ओम शांति!!__ ओम नमः शिवाय: ओम शांति!!

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

जीवन मंदिर सा पावन हाे, बाताें में सुंदर सावन हाे।

स्वाथ॔ ना भटके पास ज़रा भी, हर दिन मानो वृंदावन हाे॥

-KMSRAJ51 

 

 

_______Copyright © 2014 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

पवित्र विचार-

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-KMS

Kmsraj51 – Motivational Thoughts 

अपनी साेंच काे वृहद बनाआे।

ये मत साेंचाे की कल तक तुम्हारे पास क्या था या तुम कैसे थें,

मगर तुम यह जरूर साेंचाे की आज तुम क्या कर रहें हाे, आैर अपने भविष्य के लिए क्या कर रहें हाे।

ये साेंचाे की आज तुम्हारे पास क्या हैं, अपना एक सटिक लक्ष्य बनाआेे।

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लिए समय ही ना बचे” -Kmsraj51 

सच्चें मन से अगर कुछ करने की ठान लाे, ताे आपकाे सभी काम में सफलता मिल जाती हैं।

जीवन में जाे भी काम कराें पुरे मन से कराें, ताे सफलता आपकाे जरूर मिलेगी।

आपका दोस्त

कृष्ण मोहन सिंह ५१

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@yahoo.inपसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

CYMT-KMSRAJ51

 

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लिए समय ही ना बचे” -Kmsraj51 

 

 

 

_____ all @rights reserve under Kmsraj51-2013-2014 ______

Self Empowerment

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-kmsraj51-New

Self Empowerment 

Our internal strengths create the foundation on which we make our decisions in life, how we relate to others and how we understand ourselves. For most people their strengths are understood but never made very conscious. They lie below the surface and are not openly talked about. Bringing them into our conscious understanding improves our process of self-empowerment.

To realize and review your strengths, sit comfortably in a pleasant atmosphere and answer silently the following questions:
A. Look back into the past and remember the times when you experienced your greatest successes. List the unique talents or strengths, which you made use of at those times.
B. List the specific features, which you admire in yourself.
C. If you were to take the opinion of your family, friends and colleagues, what strengths would they say that you have?
D. List your most valuable assets.
E. Now examine your answers and summarize. What are your main strengths?

Message

The one who is a giver, has attention constantly on giving fully. 

Projection: When the system that I am working in doesn’t let me give maximum benefit to the people around me or deprives them of their natural right, I tend to react negatively. I tend to become upset which doesn’t help either of us in anyway.

Solution: When I remember and maintain the awareness that I am a giver, instead of complaining about the restrictions that society or people around me impose I continue to give those around me something that will make them happy. This could be in the form of kind and supportive words or at least an understanding smile. When I give in this way, it will make others too free from negative thoughts.

In Spiritual Service,
Brahma Kumaris 

supreme_soul_9_2kms

 

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@yahoo.inपसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

 

Kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब) …..

CYMT-KMSRAJ51

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51 

 

 

_____ all @rights reserve under Kmsraj51-2013-2014 ______

Understanding The Birth-Life-Death-Rebirth Cycle

Kmsraj51 की कलम से…..

CYMT-kmsraj51-New

 

Understanding The Birth-Life-Death-Rebirth Cycle – Part 1

The realization of the self as a soul, an eternal (always existing) energy, naturally leads to the following questions:

Where is the soul before it comes into a physical body? 
Where does the soul go after it leaves it? 
What is the purpose of the world drama? 

These are questions that deeply concern human beings, yet until now there isn’t 100% conclusive proof of life after death.

The images of “fires of hell” and a heavenly world beyond the clouds are talked about in the world’s religions. Yet to the rational and logical minded, the states of living forever tortured in holes of fire (hell) or on the other hand relaxing in complete happiness in a fairy-tale kingdom (heaven), seem far away from the reality of the present.

Most accept that there is some order to the world creation, but viewing our drama through spectacles of body-consciousness it is impossible to see it, as the soul is imprisoned by bodily needs and sensual desires. In body-consciousness the soul is unable to see anything clearly. Only when we are at the point of death does one think about life after death. At funerals, everyone faces the new absence of a loved person, the departure of the personality and the temporary nature of the physical body. Everyone wishes that the person who has died will go to heaven and not to hell.

 

Message 

To be successful I need to have the balance between the head and the heart. 

Projection: In my interactions with others, I sometimes only use my head, i.e., my logic. I am very logical and understand the facts very clearly. But if I keep myself limited only to the facts, I tend to forget to use my heart. I then am not available to the other person and fail to understand him.

Solution: In order to be successful in my interactions with others I need to have the right balance between my head and my heart. I need to see beyond what the facts say and try to listen and understand the other person too. When I do this I will not hurt people with my attitude but will be able to maintain harmonious relationships.

 

Understanding The Birth-Life-Death-Rebirth Cycle – Part 2

We subconsciously know that we are souls. Birth, life and death are just stages in existence. In fact all natural processes can be found to have a beginning, a middle, an end and a new beginning to continue the cycle. The soul takes a bodily form, gives life to it and after a period of time, long or short, leaves it and takes another suited to the continuation of its role. As long as the soul is in the body, the body grows like a plant from baby to child, youth to maturity. It then begins to decay and finally becomes unusable. The moment the soul leaves the body, the body becomes like a dead log of a tree. It immediately starts to decompose and eventually goes back to dust.

Again the soul moves into a foetus inside the womb of a mother. After time it emerges as a newborn baby and immediately begins to show the sanskars it had developed in its previous life. It is the same soul but in a new physical situation. Thus death is merely the means by which a complete change of circumstances and environment for the soul takes place. Time never kills the soul, but the body, being a part of nature or matter, obeys the law of decay that everything new becomes old and eventually finishes. The molecular components of this body disintegrate only to re-integrate as another form (body) some time later.

The process of birth-life-death-rebirth is also eternal (without a beginning or an end). It has always been going on and will continue. The soul comes into the body, expresses a role and experiences the results of that for a certain time, then leaves it, and the process starts again. Similarly, souls come into this world, remain here as actors for a number of births and then return to the region from which they come, for rest. This process also starts again. The pattern is a cyclic one. This is called the eternal world cycle.

Message 

To make thoughts as pure as the actions is to be truly elevated. 

Projection: There is usually attention on the self not to perform any negative acts. There is also considerable attention not to speak any words that are harmful or negative. But very rarely is there that attention on the thoughts. Because of this a lot of negative thoughts tend to remain in the intellect causing trouble for me.

Solution: I need to understand the fact that my thoughts form the basis for my words and actions. The more I pay attention to make my thoughts positive, the more it will make a positive impact on my words and actions too. Constant awareness of a positive thought enables me to maintain my own inner positivity.

 
In Spiritual Service,
Brahma Kumaris 

Angel-kmsraj51

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@yahoo.inपसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

 

Kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब) …..

CYMT-KMSRAJ51

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की व्यर्थ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51 

 

 

_____ all @rights reserve under Kmsraj51-2013-2014 ______

The Location Of The Soul Inside The Body

kmsraj51 की कलम से…..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M T

The Location Of The Soul Inside The Body

soulpower-kmsraj51

 

 

 
The soul has the following basic functions to perform:
• to give life to the body and to maintain life inside it,
• to express and experience its role through the body, and
• to receive the rewards or fruits of past actions performed in previous births, through the body.

These functions are controlled and monitored by the soul via the nervous and hormonal systems from a particular point in the area of the brain which contains the thalamus, hypothalamus, pituitary and pineal glands. This region is known as the seat of the soul, or the third eye. The connection between the physical (body) and the non-physical (soul) is by the medium of thought energy. Many religions and philosophies place great importance on the third eye, or eye of the mind. When viewed from the front, this region appears to be between and slightly above the line of the eyebrows. It’s for this reason that Hindus use a tilak, a dot in red or sandalwood paste in the middle of the forehead. Christians also make the sign of the cross in this region. Even when one makes a mistake or expresses tiredness it’s to this region that we put the hands in the gestures of self-dismay or exhaustion. After all the soul subconsciously knows that it makes the mistakes and not the body. When people are concentrating deeply in thought it is this area of the forehead where creases or lines are formed on the skin.

In Spiritual Service Brahma Kumaris

brahmakumaris-kmsraj51

 

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:kmsraj51@yahoo.in. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

also send me E-mail:

kmsraj51@yahoo.in 

&

 cymtkmsraj51@hotmail.com

 

जाे आपका आैर आपके समय के वैल्यू काे ना समझे।

उसके लिए कभी भी कार्य (Work) ना कराे॥

-Kmsraj51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

supreme_soul_9_2kms

kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

95 + देश के पाठकों द्वारा पढ़ा जाने वाला वेबसाइट हैं॥

I am grateful to all of my dear readers.

 

https://kmsraj51.wordpress.com/

 

_________________ all rights reserve under kmsraj51-2013 _________________

 

Bringing Your Dreams Alive

kmsraj51 की कलम से …..

Soulword_kmsraj51 - Change Y M TBringing Your Dreams Alive

believe_in_your_dreams_kmsraj51

 

 

 

 

Each one of us has dreams that we nourish right through our lives. Some are short-term dreams and some long term ones. Dreams keep changing as we progress through different phases of our life. Some are achieved, some are not. Some of us possess the ability to realize our dreams more than the rest. The most important and influential factor in this process is how much we believe in our dream and believe that it will be realized. Some of the factors that hamper this belief are:

* The influence of the past – the memories of our past failures, which sow seeds of doubt in our mind; as well as successes, which keep us in an illusionary consciousness and distance us from the present moment and our present actions. Also, sometimes we associate present temporary failures or ups and downs which may come in our way, with failures of the past.
* Lack of inner strength or power, when faced with obstacles in your path. Tendency to get dejected very easily and creating weak thoughts like we do not deserve it or we are not capable of it or are we not lucky enough or it is not in our destiny or maybe it is our negative past actions which are influencing our dream realization process adversely, etc.
* The opinions or comments of people surrounding you who sometimes, are not in tune with your consciousness and are not able to empathize with your purpose. Their comments easily de-focus you from your purpose.
* Lack of ability to mould or adjust during the dream realization journey. Any journey is always full of twists, turns and sudden changes. A rigid state of mind, which is not able to change its tactics as required, may make the path seem more difficult than it actually is.

* It is very good to dream but excessive attachment to the dream also may make the journey towards the dream stressful and bring down your self-belief at times.

brahmakumaris-kmsraj51In Spiritual Service,

Brahma Kumaris

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational Story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है:kmsraj51@yahoo.in. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

also send me E-mail:

kmsraj51@yahoo.in 

&

 cymtkmsraj51@hotmail.com

love-rose-kmsraj51

जाे आपका आैर आपके समय के वैल्यू काे ना समझे।

उसके लिए कभी भी कार्य (Work) ना कराे॥

-Kmsraj51

“अपने लक्ष्य को इतना महान बना दो, की  व्यथ॔ के लीये समय ही ना बचे” -Kmsraj51

kmsraj51- C Y M T

kmsraj51 की कलम से …..

Coming soon book (जल्द ही आ रहा किताब)…..

“तू ना हो निराश कभी मन से”

 

95 + देश के पाठकों द्वारा पढ़ा जाने वाला वेबसाइट हैं॥

I am grateful to all of my dear readers.

 

https://kmsraj51.wordpress.com/

 

_________________ all rights reserve under kmsraj51-2013 _________________

 

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

Kmsraj51 की कलम से…..

Kmsraj51-CYMT08

कृष्ण मोहन सिंह 51 या (kmsraj51) ~ सकारात्मक विचारों का समूह …..

:- गहराई से सोचना प्रत्येक शब्द 

मेरे(kmsraj51) कुछ व्यक्तिगत सकारात्मक विचारों का समूह …..

अपनी सोच को हमेशा सकारात्मक रखना …..

हमेशा मन को शांत रखना …..

दिमाग को हमेशा अनुसंधान में लगाये रखना …..

हमेशा (सदैव) अन्य लोगों से अपनी सोच को अलग रखना …..

हमेशा अपनी मन की कमजोरी को दूर रखना …..

हमेशा आंतरिक आत्मा की (आत्मा के अंदर की आवाज) आवाज सुनो …..

हमेशा ईस सूत्र का उपयोग करें …..

….. कोशिश + कोशिश + कोशिश + कोशिश + कोशिश = सफलता

आपके जीवन में हमेशा खुशी मिलेगी …..

आपका कृष्ण मोहन सिंह 51 या (kmsraj51) ….. मैं एक शुद्ध आत्मा हूँ!! …..

** ओम शांति!! ~ ओम साईराम!! ~ ओम शांति!! ~ ओम साईराम!! ~ओम शांति!! ~ ओम साईराम!!

“अगर अपने कार्य से आप स्वयं संतुष्ट हैं, ताे फिर अन्य लोग क्या कहते हैं उसकी परवाह ना करें।”

-KMSRAJ51

Please Share your comment`s.

आपका सबका प्रिय दोस्त,

Krishna Mohan Singh(KMS)
Head Editor, Founder & CEO
of,, http://kmsraj51.com/

———– @ Best of Luck @ ———–

Note::-

यदि आपके पास हिंदी या अंग्रेजी में कोई Article, Inspirational StoryPoetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है: kmsraj51@hotmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

Also mail me ID: cymtkmsraj51@hotmail.com (Fast reply)

cymt-kmsraj51

कुछ उपयोगी पोस्ट सफल जीवन से संबंधित

* विचारों की शक्ति-(The Power of Thoughts)

KMSRAJ51 के महान विचार हिंदी में।

* खुश रहने के तरीके हिन्दी में।

* अपनी खुद की किस्मत बनाओ।

* सकारात्‍मक सोच है जीवन का सक्‍सेस मंत्र 

* चांदी की छड़ी।

APT-KMSRAJ51-CYMT

“अगर जीवन में सफल हाेना हैं, ताे कभी भी काेई भी कार्य करें ताे पुरें मन से करे।

जीवन में सफलता आपकाे देर से ही सही लेकिन सफलता आपकाे जरुर मिलेगी॥”

 ~KMSRAJ51

“अगर जीवन में सफल हाेना हैं. ताे जहाँ १० शब्दाें से काेई बात बन जाये वहा पर,

१०० शब्द बाेलकर अपनी मानसिक और वाणी की ऊर्जा को नष्ट नहीं करना चाहिए॥”

 ~KMSRAJ51

 

 

_______Copyright © 2015 kmsraj51.com All Rights Reserved.________

महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक ~ Useful Internet Links !!


9-3-14 kmsraj51

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

 

 

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक ~ Useful Internet Links !!**


महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक
Useful Links
________________________________________
• परमाणु ऊर्जा विभाग
• भारत सरकार
• हिन्दी फोन्ट, हिन्दी साफ्टवेयर, राजभाषा विभाग
• विश्वविद्यालय
• केन्द्रीय विश्वविद्यालय
• फर्जी विश्वविद्यालयों की सूची
• स्कूल/विद्यालयीन शिक्षा
• तकनीकी शिक्षा विभाग
• छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
• राष्ट्रीय विज्ञान केन्द्र
• विज्ञान अकादमी
• हिन्दी भाषा में कार्यरत संस्थाएं
• शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाएं/गैर सरकारी संगठन (NGO)
• हिन्दी विज्ञान/साहित्यिक पत्रिकाएँ
• हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (Hindi Wikipedia)
• विविध रोचक एवं उपयोगी लिंक

परमाणु ऊर्जा विभाग
परमाणु ऊर्जा विभाग
http://www.dae.gov.in

भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र मुम्बई
http://www.barc.gov.in/

परमाणु ऊर्जा शिक्षण संस्था
http://www.aees.gov.in

टाटा मूलभूत अनुसंधान केंद्र मुम्बई
http://www.tifr.res.in

School of Mathematics, TIFR Mumbai
http://www.math.tifr.res.in

School of Natural Sciences, TIFR Mumbai
http://www.tifr.res.in/~vsrp/links/links.htm

School of Technology and Computer Science, TIFR Mumbai
http://www.tcs.tifr.res.in

Graduate Studies, TIFR Mumbai
http://univ.tifr.res.in

National Centre for Biological Science, Bangalore
http://www.ncbs.res.in

National Centre for Radio Astrophysics, Pune
http://ncra.tifr.res.in

International Centre for Theoretical Science, TIFR Mumbai
http://www.icts.res.in

होमी भाभा विज्ञान शिक्षा केन्द्र, मुम्बई
http://www.hbcse.tifr.res.in

National Initiative on Undergraduate Science (NIUS), HBCSE Mumbai
http://nius.hbcse.tifr.res.in/

होमी भाभा प्राथमिक विज्ञान पाठ्यक्रम
http://coglab.hbcse.tifr.res.in

विज्ञान ओलम्पियाड, मुम्बई
http://olympiads.hbcse.tifr.res.in/

भारत सरकार
भारत सरकार
http://goidirectory.nic.in/

anniversary-1x

भारत का राष्ट्रीय पोर्टल
http://india.gov.in

भारत विकास प्रवेशद्वार
http://www.indg.gov.in

विदेश मंत्रालय
http://meahindi.nic.in

हिन्दी फोन्ट, हिन्दी सॉफ्टवेयर, राजभाषा विभाग
राजभाषा विभाग भारत सरकार
http://rajbhasha.gov.in

भारतीय भाषाऔं के लिये प्रौद्योगिकी विकास (फोन्ट एवं साफ्टवेयर)
http://ildc.in

सूचना प्रौद्योगिकी विभाग
http://deity.gov.in/content/about-dit

प्रगत संगणन विकास केन्द्र
http://www.cdac.in/

डाउनलोड हिन्दी फोन्ट
http://www.wazu.jp/gallery/Fonts_Devanagari.html
http://www.ffonts.net/Hindi.html
http://devanaagarii.net/fonts/

डाउनलोड यूनिकोड हिन्दी फोन्ट
http://salrc.uchicago.edu/resources/fonts/available/hindi/
http://www.alanwood.net/unicode/fonts.html#devanagari

माईक्रोसॉफ्ट भाषा इण्डिया
http://www.bhashaindia.com/ilit/Hindi.aspx

फॉण्ट परिवर्तक
http://www.kavitakosh.org/convertfonts

वेबदुनिया का ‘डेटा कनवर्टर – यहाँ सैकड़ों फॉन्ट से यूनिकोड में बदलने की आनलाइन सुविधा है
http://utilities.webdunia.com/dataconversion.php

सम्पूर्ण फाइल (.txt) के फोण्ट को यूनिकोड फोण्ट में बदलने हेतु
http://uni.medhas.org/fileconverterindex.php5

ओपन आफिस में हिन्दी वर्तनी जाँचक (Spell Check) संस्थापित करने हेतु मार्गदर्शन
http://raviratlami.blogspot.com/2006/10/blog-post_07.html

विश्वविद्यालय
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC)
http://www.ugc.ac.in

नकली विश्वविद्यालय की राज्यवार सूची
http://www.ugc.ac.in/page/Fake-Universities.aspx

भारतीय विश्वविद्यालय संघ (AIU)
http://www.aiuweb.org/Members/MembersA.asp

इंदिरा गाँधी राष्ट्रिय मुक्त विश्वविद्यालय
http://www.ignou.ac.in

मुक्त विश्वविद्यालयों/संस्थानों की सूची
http://www.dec.ac.in/Institutions.doc
http://mhrd.gov.in/state_open

दूरस्थ शिक्षा परिषद (Distance Education Council)
http://www.dec.ac.in

उच्चतर शिक्षा विभाग
http://mhrd.gov.in/higher_education

राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन विश्वविद्यालय
http://www.nuepa.org

केन्द्रीय विश्वविद्यालय
केन्द्रीय विश्व विद्यालय सूची
http://mhrd.gov.in/central_univ_eng_11

इलाहाबाद विश्वविद्यालय, इलाहाबाद, उ.प्र.
http://www.allduniv.ac.in

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़
http://www.amu.ac.in

असम विश्वविद्यालय, सिलचर
http://www.aus.ac.in/

अंग्रेजी एवं विदेशी भाषाऐं विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.efluniversity.ac.in

बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय, लखनऊ, उ.प्र.
http://www.bbau.ac.in/

बनारस (काशी) हिन्दु विश्वविद्यालय, बनारस, उ.प्र.
http://www.bhu.ac.in

दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली
http://www.du.ac.in

हैदराबाद विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.uohyd.ac.in/

जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
http://jmi.ac.in/

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
http://www.jnu.ac.in

महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा, महाराष्ट्र
http://www.hindivishwa.org

मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.manuu.ac.in

मणिपुर विश्वविद्यालय, इम्फाल, मणिपुर
http://manipuruniv.ac.in

मिजोरम विश्वविद्यालय, आइजॉल, मिजोरम
http://www.mzu.edu.in

नागालैण्ड विश्वविद्यालय, कोहिमा, नागालैण्ड
http://www.nagauniv.org.in

नोर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी, शिलांग, मेघालय
http://www.nehu.ac.in

पांडिचेरी विश्वविद्यालय, पांडिचेरी
http://www.pondiuni.edu.in/

राजीव गांधी विश्वविद्यालय, ईटानगर, अरूणाचल प्रदेश
http://www.rgu.ac.in

सिक्किम विश्वविद्यालय, गंगटोक, सिक्किम
http://www.sikkimuniversity.in/webforms/Index.aspx

तेजपुर विश्वविद्यालय, नापाम, तेजपुर, असम
http://www.tezu.ernet.in

त्रिपुरा विश्वविद्यालय, सूर्यमणिनगर, त्रिपुरा (पश्चिम)
http://www.tripurauniv.in/

विश्व भारती, बिरभुम, पश्चिम बंगाल
http://www.visva-bharati.ac.in

डॉ. हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर, म.प्र.
http://www.dhsgsu.ac.in/

गुरु घासीदास विश्वविद्यालय, बिलासपुर, छत्तीसगढ़
http://www.ggu.ac.in

हेमवती नन्दन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्रीनगर, उत्तराखण्ड
http://hnbgu.ac.in/

फर्जी विश्वविद्यालयों की सूची
नकली विश्वविद्यालय की राज्यवार सूची
http://www.ugc.ac.in/page/Fake-Universities.aspx

स्कूल/विद्यालयीन शिक्षा
स्कूल रिपोर्ट कार्ड
http://schoolreportcards.in

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग
http://mhrd.gov.in/schooleducation

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड
http://cbse.nic.in

केन्द्रीय विद्यालय संगठन
http://kvsangathan.nic.in

नवोदय विद्यालय समिति
http://www.navodaya.nic.in/

परमाणु ऊर्जा शिक्षण संस्था
http://www.aees.gov.in

तकनीकी शिक्षा विभाग
तकनीकी शिक्षा
http://mhrd.gov.in/technical_edu_hindi

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद
http://www.aicte-india.org/

छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
राष्ट्रीय प्रतिभा खोज (National Talent Search)
http://www.ncert.nic.in/programmes/talent_exam/index_talent.html

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (KVPY)
http://www.kvpy.org.in

छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
http://education.nic.in/scholarship/scholarship.asp

J N Tata Endowment (विदेश में उच्च शिक्षा के लिए)
http://www.dorabjitatatrust.org

CENTRE FOR THE STUDY OF CULTURE AND SOCIETY
http://cscs.res.in/fellowships

भारत की अन्य छात्रवृत्तियों की सूची
http://www.scholarshipsinindia.com/
http://www.dst.gov.in/whats_new/advertisements.htm

सर रतन टाटा ट्रस्ट
http://www.srtt.org

राष्ट्रीय विज्ञान केन्द्र
राष्ट्रीय विज्ञान संचार एवं सूचना स्रोत संस्थान (NISCAIR)
http://www.niscair.res.in

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST)
http://dst.gov.in

विज्ञान प्रसार
http://www.vigyanprasar.gov.in/sitenew/

विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी राष्ट्रीय परिषद (NCSTC)
http://dst.gov.in/scientific-programme/s-t_ncstc.htm

राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद (National Council of Science Museums)
http://www.ncsm.gov.in

विज्ञान अकादमी
भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, नई दिल्ली
http://insaindia.org/index.php

भारतीय विज्ञान अकादमी, बेंगलौर
http://www.ias.ac.in

राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, इलाहाबाद
http://nasi.nic.in

हिन्दी भाषा में कार्यरत संस्थाएं
केंद्रीय हिन्दी संस्थान, अगरा
http://www.hindisansthan.org/hi/index.htm

राष्ट्रीय अनुवाद मिशन, मैसूर
http://www.ntm.org.in

भारतीय भाषा संस्थान, मैसूर
http://www.ciil.org

शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाएं/गैर सरकारी संगठन (NGO)
एकलव्य
http://eklavya.in

नवनिर्मिति

http://www.navnirmiti.org

दिगंतर
http://www.digantar.org

विक्रम ए साराभाई कम्मुनिटी साइंस सेंटर
http://www.vascsc.org

सर दोराबजी टाटा ट्रस्ट
http://www.dorabjitatatrust.org/

ईस्ट एण्ड वेस्ट एजुकेशनल सोसायटी
http://www.eastwestindia.org

प्रथम
http://www.pratham.org/

अक्षरा
http://www.akshara.org.in/

अजीम प्रेमजी फॉउण्डेशन
http://www.azimpremjifoundation.org/

सेन्टर फॉर एन्वायरमेन्ट एजुकेशन
http://www.ceeindia.org/cee/index.html

मुस्कान
http://www.muskan.org/

idiscoveri
http://www.idiscoveri.com/

मराठी विज्ञान परिषद्
http://www.mavipamumbai.org/

कृष्णमूर्ती फॉउण्डेशन
http://www.kfionline.org/

सेन्टर फॉर लर्निंग
http://www.cfl.in/

Jidnyasa Trust Thane
http://www.jidnyasa.org.in/

ग्राम मंगल
http://www.grammangal.org/

EnviroVigil
http://envirovigil.org/Homepage.html

डोरस्टेप स्कूल
http://www.doorstepschool.org/

विज्ञान आश्रम
http://www.vigyanashram.com/

अगस्तय फॉउन्डेशन
http://www.agastya.org/

नवनिर्मिति
http://www.navnirmiti.org/

मुक्त आंगन विज्ञान शोधिका (पुलस्तय) IUCAA’s Children’s Science Centre
http://www.iucaa.ernet.in/~scipop/Pulastya/index.html

विनिमय
http://www.vinimaytrust.org/

हिन्दी विज्ञान/साहित्यिक पत्रिकाएँ
कविता कोश
http://www.kavitakosh.org/kk/index.php?title=कविता_कोश_मुखपृष्ठ

संदर्भ – शिक्षा की त्रैमासिक पत्रिका (एकलव्य)
http://www.eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=51&Itemid=72

स्रोत (एकलव्य)
http://eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=56&Itemid=81

चकमक (एकलव्य)
http://eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=57&Itemid=84

भारत-दर्शन, हिन्दी साहित्यिक पत्रिका
http://www.bharatdarshan.co.nz

वागर्थ हिन्दी मासिक पत्रिका
http://www.bharatiyabhashaparishad.com

अनुभूति
http://www.anubhuti-hindi.org

अभिव्यक्ति
http://www.abhivyakti-hindi.org

अन्यथा
http://www.anyatha.com

हिन्दी नेस्ट डॉट कॉम
http://hindinest.com

शिक्षा विमर्श
http://www.digantar.org/vimarsh

हिन्दी चेतना (कनाडा)
http://www.vibhom.com

गीता-कविता
http://www.geeta-kavita.com/Default.asp

हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (Hindi Wikipedia)
हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://hi.wikipedia.org/wiki/मुखपृष्ठ

हिन्दी विकि-शब्दकोश
http:hi.wiktionary.org/wiki/मुख्य_पृष्ठ

इंटरनेट पर हिन्दी के साधन
http://hi.wikipedia.org/wiki/इंटरनेट_पर_हिन्दी_के_साधन

हिन्दी वेब साइट की सूची
http://hi.wikipedia.org/wiki/हिन्दी_में_वैब_साइट्स_की_एक_सूची

देवनागरी में कैसे टाइप करें
http://hi.wikipedia.org/wiki/विकिपीडिया:देवनागरी_में_कैसे_टाइप_करें

इन्टरनेट पर स्थित हिन्दी पत्रिकाएँ
http://hi.wikipedia.org/wiki/अन्तरजाल_पर_स्थित_हिन्दी_पत्रिकाएँ

ऑन लाइन हिन्दी समाचार पत्र
http://hi.wikipedia.org/wiki/अन्तरजालीय_हिन्दी_समाचार_स्थल

विविध रोचक एवं उपयोगी लिंक
सौर मण्डल का त्रि-आयामी एवं इन्टरैक्टिव मॉडल
http://www.solarsystemscope.com

भोजपुरी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://bh.wikipedia.org/wiki/पहिलका_पन्ना

मराठी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://mr.wikipedia.org/wiki/मुखपृष्ठ

ऑन लाइन हिन्दी कीबोर्ड
http://swecha.org/input/index.html

ऑन लाइन हिन्दी कीबोर्ड
http://www.google.com/intl/hi/inputtools/cloud/try/

ऑन स्क्रीन हिन्दी कीबोर्ड
http://labs.google.co.in/keyboards/hindi.html

ऑन लाइन अनुवाद के लिए
http://www.google.co.in/language_tools?hl=en
http://www.mantra-rajbhasha.cdac.in/mantrarajbhasha/

रोजगार समाचार
http://www.employmentnews.gov.in

राजभाषा.काम
http://www.rajbhasha.com

वेब दुनिया
http://hindi.webdunia.com

भारत कोश
http://hi.bharatdiscovery.org


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
kms1006

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

@@@@@ ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. @@@@@

Important Thoughts For Happiness !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51)…..

kmsraj51 की कलम से …..

kms-8

kms-8

खुशी के लिए जरूरी संकल्प …..


हेलो दोस्तो! नए वर्ष का स्वागत आप इतने उत्साह और शोर-शराबे के साथ हर बार इसलिए करते हैं कि आपके दिल में कुछ पाने की उम्मीद रहती है। वे खुशियां जिनकी अपने कामना और कोशिश की पर वे न मिलीं। नया साल शुरू होते ही वे सभी अधूरे ख्वाब पूरा करने की तमन्ना प्रबल हो जाती है। ऐसा लगता है मानो जीवन ने आपको एक और मौका दिया है खुशियों को अपने पक्ष में करने का।

आप इस नए वर्ष के पहले दिन पीछे मुड़कर देखना चाहते हैं कि आखिर आपसे किस-किस क्षेत्र में चूक हुई है जिसके कारण आप मंजिल से दूर रह गए। अपने स्मृति पटल पर जोर देने पर आपको अहसास होता है कि निहायत मामूली सी कमियों व कोताहियों के कारण आप वह हासिल नहीं कर सके जिसकी आपको चाह थी।

जब आप अपनी डायरी उठाकर देखते हैं तो पाते हैं कि ज्यादातर दुखों व कष्टों का जिम्मेदार कोई और नहीं, आप खुद ही थे। शक व संशय से किसी को तकलीफ या मजा चखाने जैसे विचार और प्रवृत्ति के कारण ही आपका मन ज्यादा विचलित व बेचैन हुआ था। अपनों पर भरोसा न कर किसी दुष्ट के बहकावे में आकर अपना सुख-चैन गंवाने का नतीजा हमेशा बुरा ही निकला। इस कारण न तो आपको शांति मिली और न ही स्वास्थ्य लाभ। आपकी मूल चाहत थी खुशी।

इन सारे विश्लेषणों के बाद आपके संकल्प की सूई अब कहां जाकर रुकनी चाहिए? जी हां, खुशी के लिए संकल्प का पहला सबक यही बनता है कि अपनों पर भरोसा किया जाए। अपने बच्चे, माता-पिता, साथी, दोस्त, रिश्ते, नातेदार पर भरोसा करना सीखें, न कि उन गैर चुगलखोरों की सुनें जो आपका सुकून चुराने में माहिर हैं। किसी अपने से कोई भूल हो गई है तो उसे जीवन भर का सच न मान लें। दोस्तनुमा दुश्मन के बहकावे में आकर अपनों पर निरंतर शक करने से आप उन्हें फिर गलत करने के लिए उकसाते हैं।

कुछ कारगर संकल्प इस प्रकार करें:

– बीते समय की चीर-फाड़ कर समय बर्बाद करने के बजाय भविष्य को सुधारने के बारे में आप विचार करेंगे।

– हर किसी को माफ कर देंगे ।

– बदला लेने के लिए कोई कितना भी उकसाए, ऐसा नहीं करेंगे।

– ज्यादा भावुक हुए बिना ही जिनसे प्यार है उनका साथ देंगे।

– यथार्थ व तर्क को अहमियत देते हुए भी दिल की भी सुनेंगे।

– कोशिश करें कि छोटे-मोटे अरमान पूरे करते चलें ताकि जीने का मजा मिलता रहे।

– ज्योतिष विद्या से मिली सूचनाओं पर केवल अच्छे पहलुओं पर यकीन करें और चिंता वाली बातों को झूठा मानें ताकि गंडे-तावीज के चक्कर में आपकी जेब खाली न हो।

– इंटरनेट, फेसबुक व फोन पर पूरी तरह निर्भर नहीं होकर रूबरू होकर संवाद का मजा लें।

– अपने चाहनेवालों के सीधे संपर्क में रहें ताकि हौसला बना रहे।

– नैतिकता का वही पैमाना अपने लिए भी तय करें जो दूसरों के लिए रखें।

– अपने जलनशील स्वभाव के कारण दूसरों का सुख चैन न लूटें।

– अपने को खाने-पीने से वंचित कर त्याग व बलिदान करने जैसी कसम या संकल्प न लें, यह मूलतः अपनों को प्यार नहीं सजा देने के लिए होता है।

– किसी भी प्रकार की अति से बचने की कोशिश करें।

– बार-बार अपना मन न बदलें, एक विचार पर टिककर रहें ताकि स्थिरता रहे।

मजे की बात यह है कि ज्यादातर संकल्प आप हर बार करते हैं और वे पहले ही दिन से टूटने लगते हैं। नहीं पीने या संतुलित खाने के संकल्प, आप यह कहकर तोड़ देते हैं कि अब आज तो नया वर्ष शुरू हुआ है, आज तो जश्न का दिन है, क्या सोचना। कल से देखा जाएगा और वह कल कभी नहीं आता। इसलिए कोई सख्त इरादा करना फायदेमंद नहीं होता है। केवल मोटी-मोटी बातों की गांठ अपने जीवन में बांध लेने भर से ही जीवन की नैय्या पार लग सकती है। खुद को खुश रखना। खुशी के लिए जरूरी है कि अपनी सेहत पर ध्यान दें। दूसरों का बुरा चाहने वालों की सेहत अमूमन थोड़ी नाजुक रहती है।

किसी भी घटना या बात को बहुत ज्यादा तूल न दें। खुशी हो या गम, संयम रखें और अति उत्तेजित न हों। सामाजिक मामला हो या पारीवारिक बहुत अधिक भावना में बहकर माहौल को खराब न करें। किसी पर हाथ उठाना या अपशब्द बोलना आपको अपरिपक्व साबित करता है। अपनी मस्ती, अपनी खुशी, अपनी सफलता का पैमाना खुद तय करें। जीवन के हर क्षेत्र में आपका लक्ष्य आपका अपना होना चाहिए न कि दूसरे क्या चाहते हैं। लालच से थोड़ा बचकर चलना ही सुकून देता है।

Note::-


यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

(((((::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..)))))

महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक ~ Useful Internet Links !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

KMS-2014-51

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक ~ Useful Internet Links !!**


महत्वपूर्ण इन्टरनेट लिंक
Useful Links
________________________________________
• परमाणु ऊर्जा विभाग
• भारत सरकार
• हिन्दी फोन्ट, हिन्दी साफ्टवेयर, राजभाषा विभाग
• विश्वविद्यालय
• केन्द्रीय विश्वविद्यालय
• फर्जी विश्वविद्यालयों की सूची
• स्कूल/विद्यालयीन शिक्षा
• तकनीकी शिक्षा विभाग
• छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
• राष्ट्रीय विज्ञान केन्द्र
• विज्ञान अकादमी
• हिन्दी भाषा में कार्यरत संस्थाएं
• शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाएं/गैर सरकारी संगठन (NGO)
• हिन्दी विज्ञान/साहित्यिक पत्रिकाएँ
• हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (Hindi Wikipedia)
• विविध रोचक एवं उपयोगी लिंक

परमाणु ऊर्जा विभाग
परमाणु ऊर्जा विभाग
http://www.dae.gov.in

भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र मुम्बई
http://www.barc.gov.in/

परमाणु ऊर्जा शिक्षण संस्था
http://www.aees.gov.in

टाटा मूलभूत अनुसंधान केंद्र मुम्बई
http://www.tifr.res.in

School of Mathematics, TIFR Mumbai
http://www.math.tifr.res.in

School of Natural Sciences, TIFR Mumbai
http://www.tifr.res.in/~vsrp/links/links.htm

School of Technology and Computer Science, TIFR Mumbai
http://www.tcs.tifr.res.in

Graduate Studies, TIFR Mumbai
http://univ.tifr.res.in

National Centre for Biological Science, Bangalore
http://www.ncbs.res.in

National Centre for Radio Astrophysics, Pune
http://ncra.tifr.res.in

International Centre for Theoretical Science, TIFR Mumbai
http://www.icts.res.in

होमी भाभा विज्ञान शिक्षा केन्द्र, मुम्बई
http://www.hbcse.tifr.res.in

National Initiative on Undergraduate Science (NIUS), HBCSE Mumbai
http://nius.hbcse.tifr.res.in/

होमी भाभा प्राथमिक विज्ञान पाठ्यक्रम
http://coglab.hbcse.tifr.res.in

विज्ञान ओलम्पियाड, मुम्बई
http://olympiads.hbcse.tifr.res.in/

भारत सरकार
भारत सरकार
http://goidirectory.nic.in/

भारत का राष्ट्रीय पोर्टल
http://india.gov.in

भारत विकास प्रवेशद्वार
http://www.indg.gov.in

विदेश मंत्रालय
http://meahindi.nic.in

हिन्दी फोन्ट, हिन्दी सॉफ्टवेयर, राजभाषा विभाग
राजभाषा विभाग भारत सरकार
http://rajbhasha.gov.in

भारतीय भाषाऔं के लिये प्रौद्योगिकी विकास (फोन्ट एवं साफ्टवेयर)
http://ildc.in

सूचना प्रौद्योगिकी विभाग
http://deity.gov.in/content/about-dit

प्रगत संगणन विकास केन्द्र
http://www.cdac.in/

डाउनलोड हिन्दी फोन्ट
http://www.wazu.jp/gallery/Fonts_Devanagari.html
http://www.ffonts.net/Hindi.html
http://devanaagarii.net/fonts/

डाउनलोड यूनिकोड हिन्दी फोन्ट
http://salrc.uchicago.edu/resources/fonts/available/hindi/
http://www.alanwood.net/unicode/fonts.html#devanagari

माईक्रोसॉफ्ट भाषा इण्डिया
http://www.bhashaindia.com/ilit/Hindi.aspx

फॉण्ट परिवर्तक
http://www.kavitakosh.org/convertfonts

वेबदुनिया का ‘डेटा कनवर्टर – यहाँ सैकड़ों फॉन्ट से यूनिकोड में बदलने की आनलाइन सुविधा है
http://utilities.webdunia.com/dataconversion.php

सम्पूर्ण फाइल (.txt) के फोण्ट को यूनिकोड फोण्ट में बदलने हेतु
http://uni.medhas.org/fileconverterindex.php5

ओपन आफिस में हिन्दी वर्तनी जाँचक (Spell Check) संस्थापित करने हेतु मार्गदर्शन
http://raviratlami.blogspot.com/2006/10/blog-post_07.html

विश्वविद्यालय
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC)
http://www.ugc.ac.in

नकली विश्वविद्यालय की राज्यवार सूची
http://www.ugc.ac.in/page/Fake-Universities.aspx

भारतीय विश्वविद्यालय संघ (AIU)
http://www.aiuweb.org/Members/MembersA.asp

इंदिरा गाँधी राष्ट्रिय मुक्त विश्वविद्यालय
http://www.ignou.ac.in

मुक्त विश्वविद्यालयों/संस्थानों की सूची
http://www.dec.ac.in/Institutions.doc
http://mhrd.gov.in/state_open

दूरस्थ शिक्षा परिषद (Distance Education Council)
http://www.dec.ac.in

उच्चतर शिक्षा विभाग
http://mhrd.gov.in/higher_education

राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन विश्वविद्यालय
http://www.nuepa.org

केन्द्रीय विश्वविद्यालय
केन्द्रीय विश्व विद्यालय सूची
http://mhrd.gov.in/central_univ_eng_11

इलाहाबाद विश्वविद्यालय, इलाहाबाद, उ.प्र.
http://www.allduniv.ac.in

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़
http://www.amu.ac.in

असम विश्वविद्यालय, सिलचर
http://www.aus.ac.in/

अंग्रेजी एवं विदेशी भाषाऐं विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.efluniversity.ac.in

बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय, लखनऊ, उ.प्र.
http://www.bbau.ac.in/

बनारस (काशी) हिन्दु विश्वविद्यालय, बनारस, उ.प्र.
http://www.bhu.ac.in

दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली
http://www.du.ac.in

हैदराबाद विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.uohyd.ac.in/

जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
http://jmi.ac.in/

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
http://www.jnu.ac.in

महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा, महाराष्ट्र
http://www.hindivishwa.org

मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, हैदराबाद
http://www.manuu.ac.in

मणिपुर विश्वविद्यालय, इम्फाल, मणिपुर
http://manipuruniv.ac.in

मिजोरम विश्वविद्यालय, आइजॉल, मिजोरम
http://www.mzu.edu.in

नागालैण्ड विश्वविद्यालय, कोहिमा, नागालैण्ड
http://www.nagauniv.org.in

नोर्थ ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी, शिलांग, मेघालय
http://www.nehu.ac.in

पांडिचेरी विश्वविद्यालय, पांडिचेरी
http://www.pondiuni.edu.in/

राजीव गांधी विश्वविद्यालय, ईटानगर, अरूणाचल प्रदेश
http://www.rgu.ac.in

सिक्किम विश्वविद्यालय, गंगटोक, सिक्किम
http://www.sikkimuniversity.in/webforms/Index.aspx

तेजपुर विश्वविद्यालय, नापाम, तेजपुर, असम
http://www.tezu.ernet.in

त्रिपुरा विश्वविद्यालय, सूर्यमणिनगर, त्रिपुरा (पश्चिम)
http://www.tripurauniv.in/

विश्व भारती, बिरभुम, पश्चिम बंगाल
http://www.visva-bharati.ac.in

डॉ. हरि सिंह गौर विश्वविद्यालय, सागर, म.प्र.
http://www.dhsgsu.ac.in/

गुरु घासीदास विश्वविद्यालय, बिलासपुर, छत्तीसगढ़
http://www.ggu.ac.in

हेमवती नन्दन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्रीनगर, उत्तराखण्ड
http://hnbgu.ac.in/

फर्जी विश्वविद्यालयों की सूची
नकली विश्वविद्यालय की राज्यवार सूची
http://www.ugc.ac.in/page/Fake-Universities.aspx

स्कूल/विद्यालयीन शिक्षा
स्कूल रिपोर्ट कार्ड
http://schoolreportcards.in

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग
http://mhrd.gov.in/schooleducation

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड
http://cbse.nic.in

केन्द्रीय विद्यालय संगठन
http://kvsangathan.nic.in

नवोदय विद्यालय समिति
http://www.navodaya.nic.in/

परमाणु ऊर्जा शिक्षण संस्था
http://www.aees.gov.in

तकनीकी शिक्षा विभाग
तकनीकी शिक्षा
http://mhrd.gov.in/technical_edu_hindi

अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद
http://www.aicte-india.org/

छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
राष्ट्रीय प्रतिभा खोज (National Talent Search)
http://www.ncert.nic.in/programmes/talent_exam/index_talent.html

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (KVPY)
http://www.kvpy.org.in

छात्रवृत्ति एवं शिक्षा ऋण
http://education.nic.in/scholarship/scholarship.asp

J N Tata Endowment (विदेश में उच्च शिक्षा के लिए)
http://www.dorabjitatatrust.org

CENTRE FOR THE STUDY OF CULTURE AND SOCIETY
http://cscs.res.in/fellowships

भारत की अन्य छात्रवृत्तियों की सूची
http://www.scholarshipsinindia.com/
http://www.dst.gov.in/whats_new/advertisements.htm

सर रतन टाटा ट्रस्ट
http://www.srtt.org

राष्ट्रीय विज्ञान केन्द्र
राष्ट्रीय विज्ञान संचार एवं सूचना स्रोत संस्थान (NISCAIR)
http://www.niscair.res.in

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST)
http://dst.gov.in

विज्ञान प्रसार
http://www.vigyanprasar.gov.in/sitenew/

विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी राष्ट्रीय परिषद (NCSTC)
http://dst.gov.in/scientific-programme/s-t_ncstc.htm

राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद (National Council of Science Museums)
http://www.ncsm.gov.in

विज्ञान अकादमी
भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, नई दिल्ली
http://insaindia.org/index.php

भारतीय विज्ञान अकादमी, बेंगलौर
http://www.ias.ac.in

राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी, इलाहाबाद
http://nasi.nic.in

हिन्दी भाषा में कार्यरत संस्थाएं
केंद्रीय हिन्दी संस्थान, अगरा
http://www.hindisansthan.org/hi/index.htm

राष्ट्रीय अनुवाद मिशन, मैसूर
http://www.ntm.org.in

भारतीय भाषा संस्थान, मैसूर
http://www.ciil.org

शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाएं/गैर सरकारी संगठन (NGO)
एकलव्य
http://eklavya.in

नवनिर्मिति

http://www.navnirmiti.org

दिगंतर
http://www.digantar.org

विक्रम ए साराभाई कम्मुनिटी साइंस सेंटर
http://www.vascsc.org

सर दोराबजी टाटा ट्रस्ट
http://www.dorabjitatatrust.org/

ईस्ट एण्ड वेस्ट एजुकेशनल सोसायटी
http://www.eastwestindia.org

प्रथम
http://www.pratham.org/

अक्षरा
http://www.akshara.org.in/

अजीम प्रेमजी फॉउण्डेशन
http://www.azimpremjifoundation.org/

सेन्टर फॉर एन्वायरमेन्ट एजुकेशन
http://www.ceeindia.org/cee/index.html

मुस्कान
http://www.muskan.org/

idiscoveri
http://www.idiscoveri.com/

मराठी विज्ञान परिषद्
http://www.mavipamumbai.org/

कृष्णमूर्ती फॉउण्डेशन
http://www.kfionline.org/

सेन्टर फॉर लर्निंग
http://www.cfl.in/

Jidnyasa Trust Thane
http://www.jidnyasa.org.in/

ग्राम मंगल
http://www.grammangal.org/

EnviroVigil
http://envirovigil.org/Homepage.html

डोरस्टेप स्कूल
http://www.doorstepschool.org/

विज्ञान आश्रम
http://www.vigyanashram.com/

अगस्तय फॉउन्डेशन
http://www.agastya.org/

नवनिर्मिति
http://www.navnirmiti.org/

मुक्त आंगन विज्ञान शोधिका (पुलस्तय) IUCAA’s Children’s Science Centre
http://www.iucaa.ernet.in/~scipop/Pulastya/index.html

विनिमय
http://www.vinimaytrust.org/

हिन्दी विज्ञान/साहित्यिक पत्रिकाएँ
कविता कोश
http://www.kavitakosh.org/kk/index.php?title=कविता_कोश_मुखपृष्ठ

संदर्भ – शिक्षा की त्रैमासिक पत्रिका (एकलव्य)
http://www.eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=51&Itemid=72

स्रोत (एकलव्य)
http://eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=56&Itemid=81

चकमक (एकलव्य)
http://eklavya.in/go/index.php?option=com_content&task=category&sectionid=13&id=57&Itemid=84

भारत-दर्शन, हिन्दी साहित्यिक पत्रिका
http://www.bharatdarshan.co.nz

वागर्थ हिन्दी मासिक पत्रिका
http://www.bharatiyabhashaparishad.com

अनुभूति
http://www.anubhuti-hindi.org

अभिव्यक्ति
http://www.abhivyakti-hindi.org

अन्यथा
http://www.anyatha.com

हिन्दी नेस्ट डॉट कॉम
http://hindinest.com

शिक्षा विमर्श
http://www.digantar.org/vimarsh

हिन्दी चेतना (कनाडा)
http://www.vibhom.com

गीता-कविता
http://www.geeta-kavita.com/Default.asp

हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (Hindi Wikipedia)
हिन्दी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://hi.wikipedia.org/wiki/मुखपृष्ठ

हिन्दी विकि-शब्दकोश
http:hi.wiktionary.org/wiki/मुख्य_पृष्ठ

इंटरनेट पर हिन्दी के साधन
http://hi.wikipedia.org/wiki/इंटरनेट_पर_हिन्दी_के_साधन

हिन्दी वेब साइट की सूची
http://hi.wikipedia.org/wiki/हिन्दी_में_वैब_साइट्स_की_एक_सूची

देवनागरी में कैसे टाइप करें
http://hi.wikipedia.org/wiki/विकिपीडिया:देवनागरी_में_कैसे_टाइप_करें

इन्टरनेट पर स्थित हिन्दी पत्रिकाएँ
http://hi.wikipedia.org/wiki/अन्तरजाल_पर_स्थित_हिन्दी_पत्रिकाएँ

ऑन लाइन हिन्दी समाचार पत्र
http://hi.wikipedia.org/wiki/अन्तरजालीय_हिन्दी_समाचार_स्थल

विविध रोचक एवं उपयोगी लिंक
सौर मण्डल का त्रि-आयामी एवं इन्टरैक्टिव मॉडल
http://www.solarsystemscope.com

भोजपुरी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://bh.wikipedia.org/wiki/पहिलका_पन्ना

मराठी मुक्त ज्ञानकोष (wikipedia)
http://mr.wikipedia.org/wiki/मुखपृष्ठ

ऑन लाइन हिन्दी कीबोर्ड
http://swecha.org/input/index.html

ऑन लाइन हिन्दी कीबोर्ड
http://www.google.com/intl/hi/inputtools/cloud/try/

ऑन स्क्रीन हिन्दी कीबोर्ड
http://labs.google.co.in/keyboards/hindi.html

ऑन लाइन अनुवाद के लिए
http://www.google.co.in/language_tools?hl=en
http://www.mantra-rajbhasha.cdac.in/mantrarajbhasha/

रोजगार समाचार
http://www.employmentnews.gov.in

राजभाषा.काम
http://www.rajbhasha.com

वेब दुनिया
http://hindi.webdunia.com

भारत कोश
http://hi.bharatdiscovery.org


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
kms1006

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

@@@@@ ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. @@@@@

कृष्ण मोहन सिंह 51 या (kmsraj51) ~ सकारात्मक विचारों का समूह ~ Great Thoughts of KMSRAJ51 in Hindi !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

 

** ~ Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ~ Great Thoughts of KMSRAJ51 ~ **


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
KMS-2014-51
kmsraj51

** कृष्ण मोहन सिंह 51 या (kmsraj51) ~ सकारात्मक विचारों का समूह ….. **

:: Imp. Note :: ** ~ गहराई से सोचना प्रत्येक शब्द ~ **


** मेरे(kmsraj51) कुछ व्यक्तिगत सकारात्मक विचारों का समूह …..

** अपनी सोच को हमेशा सकारात्मक रखना …..

** हमेशा मन को शांत रखना …..

** दिमाग को हमेशा अनुसंधान में लगाये रखना …..

** हमेशा (सदैव) अन्य लोगों से अपनी सोच को अलग रखना …..

** हमेशा अपनी मन की कमजोरी को दूर रखना …..

** हमेशा आंतरिक आत्मा की (आत्मा के अंदर की आवाज) आवाज सुनो …..

** हमेशा ईस सूत्र का उपयोग करें …..

….. कोशिश + कोशिश + कोशिश + कोशिश + कोशिश = सफलता

** आपके जीवन में हमेशा खुशी मिलेगी …..

** आपका कृष्ण मोहन सिंह 51 या (kmsraj51) ….. मैं एक शुद्ध आत्मा हूँ!! …..

** ओम शांति!! ~ ओम साईराम!! ~ ओम शांति!! ~ ओम साईराम!! ~ओम शांति!! ~ ओम साईराम!!

** ~ kmsraj51 – (my personal picture/photo) ~ **

KMS-2014-51

KMSRAJ51


DSCN0881

DSCN0960


::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..
kms1006


Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

** ओम शांति!! ~ ओम साईराम!! ~ ओम शांति!! ~ ओम साईराम!! ~ओम शांति!! ~ ओम साईराम!!

##### ~ ::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) ….. ~ #####

Chankya Niti – मूल चाणक्य नीति!!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..


kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

** मूल चाणक्य नीति/चाणक्य सूत्र **


आचार्य चाणक्य एक ऐसी महान विभूति थे, जिन्होंने अपनी विद्वत्ता और क्षमताओं के बल पर भारतीय इतिहास की धारा को बदल दिया। मौर्य साम्राज्य के संस्थापक चाणक्य कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में भी विश्वविख्यात हुए।

इतनी सदियाँ गुजरने के बाद आज भी यदि चाणक्य के द्वारा बताए गए सिद्धांत और नीतियाँ प्रासंगिक हैं तो मात्र इसलिए क्योंकि उन्होंने अपने गहन अध्ययन, चिंतन और जीवानानुभवों से अर्जित अमूल्य ज्ञान को, पूरी तरह नि:स्वार्थ होकर मानवीय कल्याण के उद्देश्य से अभिव्यक्त किया।

वर्तमान दौर की सामाजिक संरचना, भूमंडलीकृत अर्थव्यवस्था और शासन-प्रशासन को सुचारू ढंग से बताई गई नीतियाँ और सूत्र अत्यधिक कारगर सिद्ध हो सकते हैं। चाणक्य नीति के द्वितीय अध्याय से यहाँ प्रस्तुत हैं कुछ अंश –


1. जिस प्रकार सभी पर्वतों पर मणि नहीं मिलती, सभी हाथियों के मस्तक में मोती उत्पन्न नहीं होता, सभी वनों में चंदन का वृक्ष नहीं होता, उसी प्रकार सज्जन पुरुष सभी जगहों पर नहीं मिलते हैं।

2. झूठ बोलना, उतावलापन दिखाना, दुस्साहस करना, छल-कपट करना, मूर्खतापूर्ण कार्य करना, लोभ करना, अपवित्रता और निर्दयता – ये सभी स्त्रियों के स्वाभाविक दोष हैं। चाणक्य उपर्युक्त दोषों को स्त्रियों का स्वाभाविक गुण मानते हैं। हालाँकि वर्तमान दौर की शिक्षित स्त्रियों में इन दोषों का होना सही नहीं कहा जा सकता है।

3. भोजन के लिए अच्छे पदार्थों का उपलब्ध होना, उन्हें पचाने की शक्ति का होना, सुंदर स्त्री के साथ संसर्ग के लिए कामशक्ति का होना, प्रचुर धन के साथ-साथ धन देने की इच्छा होना। ये सभी सुख मनुष्य को बहुत कठिनता से प्राप्त होते हैं।

4. चाणक्य कहते हैं कि जिस व्यक्ति का पुत्र उसके नियंत्रण में रहता है, जिसकी पत्नी आज्ञा के अनुसार आचरण करती है और जो व्यक्ति अपने कमाए धन से पूरी तरह संतुष्ट रहता है। ऐसे मनुष्य के लिए यह संसार ही स्वर्ग के समान है।

5. चाणक्य का मानना है कि वही गृहस्थी सुखी है, जिसकी संतान उनकी आज्ञा का पालन करती है। पिता का भी कर्तव्य है कि वह पुत्रों का पालन-पोषण अच्छी तरह से करे। इसी प्रकार ऐसे व्यक्ति को मित्र नहीं कहा जा सकता है, जिस पर विश्वास नहीं किया जा सके और ऐसी पत्नी व्यर्थ है जिससे किसी प्रकार का सुख प्राप्त न हो।

6. जो मित्र आपके सामने चिकनी-चुपड़ी बातें करता हो और पीठ पीछे आपके कार्य को बिगाड़ देता हो, उसे त्याग देने में ही भलाई है। चाणक्य कहते हैं कि वह उस बर्तन के समान है, जिसके ऊपर के हिस्से में दूध लगा है परंतु अंदर विष भरा हुआ होता है।

7. जिस प्रकार पत्नी के वियोग का दुख, अपने भाई-बंधुओं से प्राप्त अपमान का दुख असहनीय होता है, उसी प्रकार कर्ज से दबा व्यक्ति भी हर समय दुखी रहता है। दुष्ट राजा की सेवा में रहने वाला नौकर भी दुखी रहता है। निर्धनता का अभिशाप भी मनुष्य कभी नहीं भुला पाता। इनसे व्यक्ति की आत्मा अंदर ही अंदर जलती रहती है।

8. ब्राह्मणों का बल विद्या है, राजाओं का बल उनकी सेना है, वैश्यों का बल उनका धन है और शूद्रों का बल दूसरों की सेवा करना है। ब्राह्मणों का कर्तव्य है कि वे विद्या ग्रहण करें। राजा का कर्तव्य है कि वे सैनिकों द्वारा अपने बल को बढ़ाते रहें। वैश्यों का कर्तव्य है कि वे व्यापार द्वारा धन बढ़ाएँ, शूद्रों का कर्तव्य श्रेष्ठ लोगों की सेवा करना है।

9. चाणक्य का कहना है कि मूर्खता के समान यौवन भी दुखदायी होता है क्योंकि जवानी में व्यक्ति कामवासना के आवेग में कोई भी मूर्खतापूर्ण कार्य कर सकता है। परंतु इनसे भी अधिक कष्टदायक है दूसरों पर आश्रित रहना।

10. चाणक्य कहते हैं कि बचपन में संतान को जैसी शिक्षा दी जाती है, उनका विकास उसी प्रकार होता है। इसलिए माता-पिता का कर्तव्य है कि वे उन्हें ऐसे मार्ग पर चलाएँ, जिससे उनमें उत्तम चरित्र का विकास हो क्योंकि गुणी व्यक्तियों से ही कुल की शोभा बढ़ती है।

11. वे माता-पिता अपने बच्चों के लिए शत्रु के समान हैं, जिन्होंने बच्चों को अच्छी शिक्षा नहीं दी। क्योंकि अनपढ़ बालक का विद्वानों के समूह में उसी प्रकार अपमान होता है जैसे हंसों के झुंड में बगुले की स्थिति होती है। शिक्षा विहीन मनुष्य बिना पूँछ के जानवर जैसा होता है, इसलिए माता-पिता का कर्तव्य है कि वे बच्चों को ऐसी शिक्षा दें जिससे वे समाज को सुशोभित करें।

12. चाणक्य कहते हैं कि अधिक लाड़ प्यार करने से बच्चों में अनेक दोष उत्पन्न हो जाते हैं। इसलिए यदि वे कोई गलत काम करते हैं तो उसे नजरअंदाज करके लाड़-प्यार करना उचित नहीं है। बच्चे को डाँटना भी आवश्यक है।

13. शिक्षा और अध्ययन की महत्ता बताते हुए चाणक्य कहते हैं कि मनुष्य का जन्म बहुत सौभाग्य से मिलता है, इसलिए हमें अपने अधिकाधिक समय का वेदादि शास्त्रों के अध्ययन में तथा दान जैसे अच्छे कार्यों में ही सदुपयोग करना चाहिए।

14. चाणक्य कहते हैं कि जो व्यक्ति अच्छा मित्र नहीं है उस पर तो विश्वास नहीं करना चाहिए, परंतु इसके साथ ही अच्छे मित्र के संबंद में भी पूरा विश्वास नहीं करना चाहिए, क्योंकि यदि वह नाराज हो गया तो आपके सारे भेद खोल सकता है। अत: सावधानी अत्यंत आवश्यक है।

चाणक्य का मानना है कि व्यक्ति को कभी अपने मन का भेद नहीं खोलना चाहिए। उसे जो भी कार्य करना है, उसे अपने मन में रखे और पूरी तन्मयता के साथ समय आने पर उसे पूरा करना चाहिए।

15. चाणक्य के अनुसार नदी के किनारे स्थित वृक्षों का जीवन अनिश्चित होता है, क्योंकि नदियाँ बाढ़ के समय अपने किनारे के पेड़ों को उजाड़ देती हैं। इसी प्रकार दूसरे के घरों में रहने वाली स्त्री भी किसी समय पतन के मार्ग पर जा सकती है। इसी तरह जिस राजा के पास अच्छी सलाह देने वाले मंत्री नहीं होते, वह भी बहुत समय तक सुरक्षित नहीं रह सकता। इसमें जरा भी संदेह नहीं करना चाहिए।

17. चाणक्य कहते हैं कि जिस तरह वेश्या धन के समाप्त होने पर पुरुष से मुँह मोड़ लेती है। उसी तरह जब राजा शक्तिहीन हो जाता है तो प्रजा उसका साथ छोड़ देती है। इसी प्रकार वृक्षों पर रहने वाले पक्षी भी तभी तक किसी वृक्ष पर बसेरा रखते हैं, जब तक वहाँ से उन्हें फल प्राप्त होते रहते हैं। अतिथि का जब पूरा स्वागत-सत्कार कर दिया जाता है तो वह भी उस घर को छोड़ देता है।

18. बुरे चरित्र वाले, अकारण दूसरों को हानि पहुँचाने वाले तथा अशुद्ध स्थान पर रहने वाले व्यक्ति के साथ जो पुरुष मित्रता करता है, वह शीघ्र ही नष्ट हो जाता है। आचार्य चाणक्य का कहना है मनुष्य को कुसंगति से बचना चाहिए। वे कहते हैं कि मनुष्य की भलाई इसी में है कि वह जितनी जल्दी हो सके, दुष्ट व्यक्ति का साथ छोड़ दे।

19. चाणक्य कहते हैं कि मित्रता, बराबरी वाले व्यक्तियों में ही करना ठीक रहता है। सरकारी नौकरी सर्वोत्तम होती है और अच्छे व्यापार के लिए व्यवहारकुशल होना आवश्यक है। इसी तरह सुंदर व सुशील स्त्री घर में ही शोभा देती है।

Note::-


यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!

(((((kmsraj51 की कलम से …..)))))

Aapka kmsraj51 …..

DSCN1006

बोर्ड परीक्षा की तैयारी ~ Board Exam preparation methods !!

::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

कुछ छात्रों में बोर्ड परीक्षा को लेकर एक अजीब सा डर रहता है। पूरी तैयारी के बावजूद भी उन्हें मुश्किलें आती हैं। बोर्ड परीक्षा के लिए अच्छी तैयारी के अलावा जरूरी है कि इसे पूर्ण रूप से नियोजित बनाएँ।

व्यवस्थित रूप से की गई पढ़ाई द्वारा कोई भी विद्यार्थी परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सकता है। यह आवश्यक है कि पहले अपेक्षाकृत आसान अध्यायों का अध्ययन करके, उसके पश्चात उत्तीर्ण होने के लिए न्यूनतम अंक प्राप्त कर सकें। तत्पश्चात अपेक्षाकृत कठिन अध्यायों की ओर जाना चाहिए। परीक्षा में अच्छे अंकों से उत्तीर्ण होने के लिए निम्न बिंदुओं पर ध्यान देना आवश्यक है-

cropped-kms_0-1052.jpg

* हमेशा लिखकर याद करें। इससे गलतियों की संभावना कम होगी।

* रटकर याद करने से बचें। इससे आशंका पूरी तरह नहीं समाप्त होती है। किसी भी विषय के मूल को पहले समझने का प्रयास करें।
कुछ छात्रों में बोर्ड परीक्षा को लेकर एक अजीब सा डर रहता है। पूरी तैयारी के बावजूद भी उन्हें मुश्किलें आती हैं।
बोर्ड परीक्षा के लिए अच्छी तैयारी के अलावा जरूरी है कि इसे पूर्ण रूप से नियोजित बनाएँ।

* समय-समय पर अपने पाठ को दोहराते रहें और प्रतिदिन इसके लिए कम से कम आधे घंटे का समय निकालें।

* सैंपल पेपर में से पहले उन प्रश्नों को छाँटकर निकाल लें, जिसके उत्तर आपको नहीं आ रहे हैं।

* अंकों के प्रश्न हल करते वक्त हमेशा फार्मूला लिखें, उसके बाद प्रश्न को इस फार्मूले के आधार पर हल करें।

* हल हो चुके प्रश्नों का महत्व समझें और प्रश्न करने के पश्चात अपने उत्तर को हल से अवश्य मिलाएँ।

* लॉग व एंटीलॉग प्रश्नों का अधिक अभ्यास करें।

* भौतिक शास्त्र, रसायन शास्त्र आदि विषयों के फार्मूले बनाकर उन्हें अपने कमरे की दीवार पर लगा लें, जिससे चलते-फिरते आप उन्हें दोहरा सकें।

Note::-

यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!


cropped-kms10060.jpg

(((((::- Krishna Mohan Singh(kmsraj51) …..)))))


cropped-kms_0-1052.jpg

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

In winter they will work less ordinary face would bring !!

kmsraj51 की कलम से …..
pen-kms

~ ये साधारण काम करेंगे तो चेहरा चमकने लगेगा कम होती सर्दियों में ~


मौसम के बदलाव का सबसे ज्यादा फर्क स्किन पर दिखाई पड़ता है। विशेषकर जब सर्दियों का मौसम शुरू या खत्म होता है। फिलहाल, सर्दियों का मौसम खत्म होने वाला है। ऐसे में बदलते मौसम के प्रभाव के कारण स्किन रफ होने लगती है। इसीलिए इस समय स्किन को ग्लोइंग बनाए रखने के लिए सबसे ज्यादा केयर करनी पड़ती है।

ठीक से केयर न करने पर स्किन रूखी व डल होने लगती है। मौसम के प्रभाव के कारण चेहरे की चमक गायब हो जाती है और चेहरा काला पड़ जाता है। ऐसे में चेहरे की चमक को बरकरार रखने की चिंता सताने लगती है। इसलिए कम होती सर्दियों में बेफिक्र रहना है तो अपनाइए स्किन केयर के ये घरेलू नुस्खे….

Real Art

पेट साफ रहे तो त्वचा की समस्याएं नहीं होती हैं। हाजमा ठीक न हो तो चेहरे पर कील-मुंहासे हो सकते हैं। इसीलिए स्किन को स्वस्थ रखने के लिए कब्ज को दूर करना बहुत जरूरी है। पेट साफ करने के लिए प्रतिदिन सुबह-सुबह गुनगुने पानी में शहद की कुछ बूंदें डालकर पिएं। इससे कील-मुंहासे की समस्या समाप्त हो जाएगी।


neem


बार-बार ठंडे पानी से चेहरा धोते रहें। साबुन या फेसवॉश का प्रयोग कम से कम ही करें। अपना टॉवेल अलग रखें।चेहरे की गंदगी और धूल-मिट्टी साफ करने के लिए टमाटर के टुकड़े चेहरे पर धीरे-धीरे रगड़ें। यदि आपके चेहरे पर दाग-धब्बे पड़ गए हैं तो नींबू के छिलके पर थोड़ी-सी चीनी डालें और फिर छिलके को दाग-धब्बे वाले स्थान पर धीरे-धीरे रगड़ें।


=> स्ट्रॉबेरी में विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में रहते हैं। इसके लिए स्ट्राबेरी को अपने चेहरे पर मैश करके लगाएं।

=> केला एक अच्छा मॉइश्चराइजर होता है। यह आपके चेहरे पर ताजगी लाता है। केले में शहद मिलाकर चेहरे पर लगाएं और 10 मिनट बाद धो लें।

=> संतरे के छिलके को सुखा लें और पीसकर पाउडर बनाएं। इस पाउडर में थोड़ा-सा कच्चा दूध मिलाकर चेहरे पर लगाएं। सूखने के बाद ठंडे पानी से धो लें, स्किन स्मूथ हो जाएगी।

=> पके पपीता के गूदे को चेहरे पर मलें। सूखने पर धो लें, चेहरा चमकने लगेगा।

=> आपकी स्किन बहुत ज्यादा ड्राय हो तो एक छोटा चम्मच मलाई लेकर उसमें थोड़ा-सा केसर मिलाएं। मलाई से चेहरे की मालिश करें। सूखने पर चेहरा धो लें। रूखापन दूर हो जाएगा।

=> एक चम्मच शहद में एक चम्मच पानी मिलाकर इस पेस्ट को चेहरे पर लगाएं। कुछ देर बाद चेहरा धो लें, स्किन ग्लो करने लगेगी।

kaju-kms


=> काजू स्किन के लिए बहुत अच्छा होता है। काजू को दूध में भिगोकर उसे पीस लें और चेहरे पर लगाएं। स्किन ड्राय हो तो काजू को रात भर दूध में भिगो दें और सुबह पीसकर इसमें मुल्तानी मिट्टी और शहद की कुछ बूंदें मिलाकर स्क्रब करें।

=> आधा चम्मच संतरे का रस लेकर उसमें 4-5 बूंद नींबू का रस, आधा चम्मच मुल्तानी मिट्टी, आधा चम्मच चंदन पाउडर और कुछ बूंदें गुलाब जल की मिलाकर थोड़ी देर के लिए फ्रिज में रख दें। फिर इसे लगा कर 15-20 मिनट तक रखें। इसके बाद पानी से इसे धो लें।

=> मुल्तानी मिट्टी में दही और पुदीने की पत्तियों का पाउडर मिला कर लगाएं। आधे घंटे तक रहने दें। सूखने पर गुनगुने पानी से चेहरा साफ कर लें। ये नुस्खा तैलीय त्वचा को हेल्दी बनाता है।

Note::-
यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story, Poetry या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें. हमारी Id है::- kmsraj51@yahoo.in . पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. Thanks!!


{{{{{{{{{{{{{{{{{{{{{{{{{{~kmsraj51~}}}}}}}}}}}}}}}}}}}}}}}}}}